• CBSE Class 10th
  • CBSE Class 12th
  • UP Board 10th
  • UP Board 12th
  • Bihar Board 10th
  • Bihar Board 12th

Top Schools

  • Top Schools in India
  • Top Schools in Delhi
  • Top Schools in Mumbai
  • Top Schools in Chennai
  • Top Schools in Hyderabad
  • Top Schools in Kolkata
  • Top Schools in Pune
  • Top Schools in Bangalore

Products & Resources

  • JEE Main Knockout April
  • Free Sample Papers
  • Free Ebooks
  • NCERT Notes
  • NCERT Syllabus
  • NCERT Books
  • RD Sharma Solutions
  • Navodaya Vidyalaya Admission 2024-25
  • NCERT Solutions
  • NCERT Solutions for Class 12
  • NCERT Solutions for Class 11
  • NCERT solutions for Class 10
  • NCERT solutions for Class 9
  • NCERT solutions for Class 8
  • NCERT Solutions for Class 7
  • JEE Main 2024
  • MHT CET 2024
  • JEE Advanced 2024
  • BITSAT 2024
  • View All Engineering Exams
  • Colleges Accepting B.Tech Applications
  • Top Engineering Colleges in India
  • Engineering Colleges in India
  • Engineering Colleges in Tamil Nadu
  • Engineering Colleges Accepting JEE Main
  • Top IITs in India
  • Top NITs in India
  • Top IIITs in India
  • JEE Main College Predictor
  • JEE Main Rank Predictor
  • MHT CET College Predictor
  • AP EAMCET College Predictor
  • GATE College Predictor
  • KCET College Predictor
  • JEE Advanced College Predictor
  • View All College Predictors
  • JEE Advanced Cutoff
  • JEE Main Cutoff
  • MHT CET Result 2024
  • JEE Advanced Result
  • Download E-Books and Sample Papers
  • Compare Colleges
  • B.Tech College Applications
  • AP EAMCET Result 2024
  • MAH MBA CET Exam
  • View All Management Exams

Colleges & Courses

  • MBA College Admissions
  • MBA Colleges in India
  • Top IIMs Colleges in India
  • Top Online MBA Colleges in India
  • MBA Colleges Accepting XAT Score
  • BBA Colleges in India
  • XAT College Predictor 2024
  • SNAP College Predictor
  • NMAT College Predictor
  • MAT College Predictor 2024
  • CMAT College Predictor 2024
  • CAT Percentile Predictor 2024
  • CAT 2024 College Predictor
  • Top MBA Entrance Exams 2024
  • AP ICET Counselling 2024
  • GD Topics for MBA
  • CAT Exam Date 2024
  • Download Helpful Ebooks
  • List of Popular Branches
  • QnA - Get answers to your doubts
  • IIM Fees Structure
  • AIIMS Nursing
  • Top Medical Colleges in India
  • Top Medical Colleges in India accepting NEET Score
  • Medical Colleges accepting NEET
  • List of Medical Colleges in India
  • List of AIIMS Colleges In India
  • Medical Colleges in Maharashtra
  • Medical Colleges in India Accepting NEET PG
  • NEET College Predictor
  • NEET PG College Predictor
  • NEET MDS College Predictor
  • NEET Rank Predictor
  • DNB PDCET College Predictor
  • NEET Result 2024
  • NEET Asnwer Key 2024
  • NEET Cut off
  • NEET Online Preparation
  • Download Helpful E-books
  • Colleges Accepting Admissions
  • Top Law Colleges in India
  • Law College Accepting CLAT Score
  • List of Law Colleges in India
  • Top Law Colleges in Delhi
  • Top NLUs Colleges in India
  • Top Law Colleges in Chandigarh
  • Top Law Collages in Lucknow

Predictors & E-Books

  • CLAT College Predictor
  • MHCET Law ( 5 Year L.L.B) College Predictor
  • AILET College Predictor
  • Sample Papers
  • Compare Law Collages
  • Careers360 Youtube Channel
  • CLAT Syllabus 2025
  • CLAT Previous Year Question Paper
  • NID DAT Exam
  • Pearl Academy Exam

Predictors & Articles

  • NIFT College Predictor
  • UCEED College Predictor
  • NID DAT College Predictor
  • NID DAT Syllabus 2025
  • NID DAT 2025
  • Design Colleges in India
  • Top NIFT Colleges in India
  • Fashion Design Colleges in India
  • Top Interior Design Colleges in India
  • Top Graphic Designing Colleges in India
  • Fashion Design Colleges in Delhi
  • Fashion Design Colleges in Mumbai
  • Top Interior Design Colleges in Bangalore
  • NIFT Result 2024
  • NIFT Fees Structure
  • NIFT Syllabus 2025
  • Free Design E-books
  • List of Branches
  • Careers360 Youtube channel
  • IPU CET BJMC
  • JMI Mass Communication Entrance Exam
  • IIMC Entrance Exam
  • Media & Journalism colleges in Delhi
  • Media & Journalism colleges in Bangalore
  • Media & Journalism colleges in Mumbai
  • List of Media & Journalism Colleges in India
  • CA Intermediate
  • CA Foundation
  • CS Executive
  • CS Professional
  • Difference between CA and CS
  • Difference between CA and CMA
  • CA Full form
  • CMA Full form
  • CS Full form
  • CA Salary In India

Top Courses & Careers

  • Bachelor of Commerce (B.Com)
  • Master of Commerce (M.Com)
  • Company Secretary
  • Cost Accountant
  • Charted Accountant
  • Credit Manager
  • Financial Advisor
  • Top Commerce Colleges in India
  • Top Government Commerce Colleges in India
  • Top Private Commerce Colleges in India
  • Top M.Com Colleges in Mumbai
  • Top B.Com Colleges in India
  • IT Colleges in Tamil Nadu
  • IT Colleges in Uttar Pradesh
  • MCA Colleges in India
  • BCA Colleges in India

Quick Links

  • Information Technology Courses
  • Programming Courses
  • Web Development Courses
  • Data Analytics Courses
  • Big Data Analytics Courses
  • RUHS Pharmacy Admission Test
  • Top Pharmacy Colleges in India
  • Pharmacy Colleges in Pune
  • Pharmacy Colleges in Mumbai
  • Colleges Accepting GPAT Score
  • Pharmacy Colleges in Lucknow
  • List of Pharmacy Colleges in Nagpur
  • GPAT Result
  • GPAT 2024 Admit Card
  • GPAT Question Papers
  • NCHMCT JEE 2024
  • Mah BHMCT CET
  • Top Hotel Management Colleges in Delhi
  • Top Hotel Management Colleges in Hyderabad
  • Top Hotel Management Colleges in Mumbai
  • Top Hotel Management Colleges in Tamil Nadu
  • Top Hotel Management Colleges in Maharashtra
  • B.Sc Hotel Management
  • Hotel Management
  • Diploma in Hotel Management and Catering Technology

Diploma Colleges

  • Top Diploma Colleges in Maharashtra
  • UPSC IAS 2024
  • SSC CGL 2024
  • IBPS RRB 2024
  • Previous Year Sample Papers
  • Free Competition E-books
  • Sarkari Result
  • QnA- Get your doubts answered
  • UPSC Previous Year Sample Papers
  • CTET Previous Year Sample Papers
  • SBI Clerk Previous Year Sample Papers
  • NDA Previous Year Sample Papers

Upcoming Events

  • NDA Application Form 2024
  • UPSC IAS Application Form 2024
  • CDS Application Form 2024
  • CTET Admit card 2024
  • HP TET Result 2023
  • SSC GD Constable Admit Card 2024
  • UPTET Notification 2024
  • SBI Clerk Result 2024

Other Exams

  • SSC CHSL 2024
  • UP PCS 2024
  • UGC NET 2024
  • RRB NTPC 2024
  • IBPS PO 2024
  • IBPS Clerk 2024
  • IBPS SO 2024
  • Top University in USA
  • Top University in Canada
  • Top University in Ireland
  • Top Universities in UK
  • Top Universities in Australia
  • Best MBA Colleges in Abroad
  • Business Management Studies Colleges

Top Countries

  • Study in USA
  • Study in UK
  • Study in Canada
  • Study in Australia
  • Study in Ireland
  • Study in Germany
  • Study in China
  • Study in Europe

Student Visas

  • Student Visa Canada
  • Student Visa UK
  • Student Visa USA
  • Student Visa Australia
  • Student Visa Germany
  • Student Visa New Zealand
  • Student Visa Ireland
  • CUET PG 2024
  • IGNOU B.Ed Admission 2024
  • DU Admission 2024
  • UP B.Ed JEE 2024
  • LPU NEST 2024
  • IIT JAM 2024
  • IGNOU Online Admission 2024
  • Universities in India
  • Top Universities in India 2024
  • Top Colleges in India
  • Top Universities in Uttar Pradesh 2024
  • Top Universities in Bihar
  • Top Universities in Madhya Pradesh 2024
  • Top Universities in Tamil Nadu 2024
  • Central Universities in India
  • CUET DU Cut off 2024
  • IGNOU Date Sheet
  • CUET DU CSAS Portal 2024
  • CUET Response Sheet 2024
  • CUET Result 2024
  • CUET Participating Universities 2024
  • CUET Previous Year Question Paper
  • CUET Syllabus 2024 for Science Students
  • E-Books and Sample Papers
  • CUET Exam Pattern 2024
  • CUET Exam Date 2024
  • CUET Cut Off 2024
  • CUET Exam Analysis 2024
  • IGNOU Exam Form 2024
  • CUET PG Counselling 2024
  • CUET Answer Key 2024

Engineering Preparation

  • Knockout JEE Main 2024
  • Test Series JEE Main 2024
  • JEE Main 2024 Rank Booster

Medical Preparation

  • Knockout NEET 2024
  • Test Series NEET 2024
  • Rank Booster NEET 2024

Online Courses

  • JEE Main One Month Course
  • NEET One Month Course
  • IBSAT Free Mock Tests
  • IIT JEE Foundation Course
  • Knockout BITSAT 2024
  • Career Guidance Tool

Top Streams

  • IT & Software Certification Courses
  • Engineering and Architecture Certification Courses
  • Programming And Development Certification Courses
  • Business and Management Certification Courses
  • Marketing Certification Courses
  • Health and Fitness Certification Courses
  • Design Certification Courses

Specializations

  • Digital Marketing Certification Courses
  • Cyber Security Certification Courses
  • Artificial Intelligence Certification Courses
  • Business Analytics Certification Courses
  • Data Science Certification Courses
  • Cloud Computing Certification Courses
  • Machine Learning Certification Courses
  • View All Certification Courses
  • UG Degree Courses
  • PG Degree Courses
  • Short Term Courses
  • Free Courses
  • Online Degrees and Diplomas
  • Compare Courses

Top Providers

  • Coursera Courses
  • Udemy Courses
  • Edx Courses
  • Swayam Courses
  • upGrad Courses
  • Simplilearn Courses
  • Great Learning Courses

जल संरक्षण पर निबंध (Save Water Essay in Hindi) - 100, 200 और 500 शब्दों में निबंध

English Icon

जल संरक्षण पर निबंध: पृथ्वी पर सभी के जीवन के अस्तित्व के लिए पानी आवश्यक है। हम खाना के बिना तो कुछ दिनों तक जिंदा रह सकते हैं, लेकिन पानी के बिना तीन दिन से अधिक जिंदा नहीं रह सकते है। यदि हम जल संरक्षण (Jal Sanrakshan) को प्राथमिकता नहीं देंगे तो हमारे बच्चे और आने वाली पीढ़ी पानी की कमी से पीड़ित रहेगी। यहां जल संरक्षण (Jal Sanrakshan) पर 100, 200 और 500 शब्दों में निबंध दिए गए हैं। हिंदी में पत्र लेखन सीखें ।

100 शब्दों का जल संरक्षण पर निबंध (100 words Water conservation Essay in Hindi)

200 शब्दों का जल संरक्षण पर निबंध (200 words save water essay in hindi), 500 शब्दों का जल संरक्षण पर निबंध (500 words save water essay in hindi).

जल संरक्षण पर निबंध (Save Water Essay in Hindi) - 100, 200 और 500 शब्दों में निबंध

हम जानते हैं कि पृथ्वी का 70% भाग पानी से ढका हुआ है, जिससे अंतरिक्ष से पृथ्वी एक नीले ग्रह के रूप में दिखाई देती है। हालांकि पृथ्वी पर पानी प्रचुर मात्रा में है, लेकिन इसका अधिकांश भाग समुद्र में मौजूद है, जो खारा है। इससे हमें ताजे पानी के लिए महासागरों के अलावा अन्य स्रोतों पर निर्भर रहना पड़ता है। हम मनुष्य अपने अस्तित्व के लिए मुख्य रूप से कुओं के भूजल पर निर्भर हैं, लेकिन जैसे-जैसे जल प्रदूषण बढ़ता जा रहा है, हमारे पास ताजे पानी की कमी होती जा रही है। इस लेख में जल संरक्षण (Jal Sanrakshan) पर कुछ सैंपल निबंध दिए गए हैं, जिसकी सहायता से छात्र जल संरक्षण पर निबंध (Essay on Save Water in hindi) लिख सकेंगे।

महत्वपूर्ण लेख :

  • गणतंत्र दिवस पर भाषण
  • प्रदूषण पर निबंध
  • वायु प्रदूषण पर हिंदी में निबंध

हम सभी यह कहावत जानते हैं कि जल अनमोल है। जल इतना कीमती है कि पृथ्वी पर उपलब्ध कुल जल में से केवल 1% ही पीने योग्य है। एक औसत इंसान को प्रतिदिन लगभग 250- 400 लीटर पानी की आवश्यकता होती है। इसके अतिरिक्त, हमारा शरीर 70% पानी से बना है, इसलिए प्रतिदिन 2-3 लीटर ताजे पानी की आवश्यकता होती है। आम तौर पर यह कहा जाता है कि एक इंसान बिना पानी के तीन दिन तक जीव‍ित रह सकता है। हालांकि यह किसी किसी के लिए दो दिन से एक सप्‍ताह का हो सकता है। लेकिन आम तौर पर कहा जाता है कि इंसान हवा यानी ऑक्सीजन के बिना तीन मिनट, पानी के बिना 3 दिन और खाने के बिना तीन हफ्ते तक जिंदा रह सकता है।

एक सदी पहले, मनुष्यों की जरूरतों को पूरा करने के लिए पर्याप्त जल था, लेकिन जैसे-जैसे आबादी बढ़ी, मांग काफी बढ़ गई, जिससे 25% लोगों के पास ताजे पानी तक पहुंच नहीं रह गई। यदि जल प्रदूषण के साथ-साथ जल के उपयोग की ये प्रवृत्तियाँ जारी रहीं, तो जल्द ही हमारे पास मीठे पानी के भंडार ख़त्म हो सकते हैं, जिससे हर साल लाखों लोगों की मृत्यु हो सकती है।

अन्य लेख पढ़ें-

  • हिंदी दिवस पर कविता
  • दशहरा पर निबंध

जब हमें प्यास लगती है तो हम पानी पीते हैं। हमारी दैनिक गतिविधियों को पूरा करने के लिए हमारे आसपास पर्याप्त पानी हो सकता है। यह जानना दिलचस्प है कि दुनिया की 25% आबादी को पीने का अच्छा पानी उपलब्ध नहीं है और कमजोर अर्थव्यवस्था वाले 6% लोग पानी की कमी के कारण मर जाते हैं। हम जानते हैं कि पृथ्वी मुख्यतः पानी से घिरी हुई है, लेकिन फिर भी, मानव उपयोग के लिए पर्याप्त पानी नहीं है। इसकी वजह यह है कि ये पानी पीने लायक नहीं है। मनुष्य की मांग को पूरा करने के लिए पृथ्वी पर केवल 3% पानी उपलब्ध है।

  • जलवायु परिवर्तन पर हिंदी में निबंध
  • पर्यावरण दिवस पर निबंध
  • विज्ञान के चमत्कार पर निबंध

जल की कमी के कारण

जल की कमी कई कारणों से होती है। कुछ कारण नीचे दिए गए है:

उनमें से एक है हमारे घरों और उद्योगों में पानी का व्यापक उपयोग।

दूसरा, कारखानों द्वारा जल निकायों में डाले गए अनुपचारित पानी के कारण होने वाला जल प्रदूषण हो सकता है। कृषि प्रौद्योगिकियों में बदलाव और उर्वरकों के व्यापक उपयोग ने जल निकायों में प्रवेश कर उन्हें प्रदूषित कर दिया है और उन्हें नियमित उपयोग के लिए अनुपयुक्त बना दिया है।

ग्लोबल वार्मिंग जैसी स्थितियों ने विभिन्न क्षेत्रों में जलवायु परिस्थितियों को बदल दिया है, जिसके परिणामस्वरूप अनियमित वर्षा होती है, जिससे पानी की अनियमित उपलब्धता होती है।

यदि हम जल संरक्षण (Jal Sanrakshan) के लिए जरूरी कदम नहीं उठाएंगे तो पानी की कमी से मानवता खत्म हो सकती है।

  • बाल दिवस पर हिंदी में भाषण
  • हिंदी दिवस पर भाषण
  • इंजीनियर कैसे बन सकते हैं?

जल पृथ्वी पर मानव जीवन के हर पहलू के लिए महत्वपूर्ण है। अत: जल का महत्व वायु के समान ही माना जा सकता है। इस परिभाषा में मनुष्य, जानवर और पौधे समान रूप से शामिल हैं।

जल का उपयोग

हर किसी का जीवन स्वच्छ, पीने योग्य पानी पर निर्भर है। परिणामस्वरूप, जल संरक्षण का जीवन बचाने पर निबंध मानव अस्तित्व में पानी द्वारा निभाई जाने वाली कुछ अमूर्त लेकिन महत्वपूर्ण भूमिकाओं पर प्रकाश डालता है।

पृथ्वी पर जीवन के लिए पानी से भी अधिक महत्वपूर्ण वायु है। पानी का उपयोग जलयोजन से कहीं आगे तक फैला हुआ है। इसका अर्थ है बर्तन धोना, कपड़े धोना, सफ़ाई करना आदि। पानी सिर्फ मानव अस्तित्व के लिए आवश्यक नहीं है। यह पौधों और पेड़ों के निरंतर अस्तित्व के लिए भी महत्वपूर्ण है। कृषि और अन्य औद्योगिक क्षेत्र भी इस मूल्यवान धातु पर निर्भर हैं।

जल संरक्षण की आवश्यकता क्यों है?

भूजल संसाधनों की कमी और अपर्याप्त वर्षा के स्तर के कारण दुनिया के कई क्षेत्र अब पानी की गंभीर कमी का सामना कर रहे हैं।

भूजल का अत्यधिक दोहन और प्रदूषण विश्व में विकराल समस्या बन चुकी हैं। इन कारणों से सूखे की स्थिति अपरिहार्य है और कुछ क्षेत्रों में पानी की कमी पहले से ही एक वास्तविकता है।

जनसंख्या की बढ़ती जरूरतों को पूरा करने के लिए भूजल का अत्यधिक उपयोग किया गया है, और शहरीकरण और औद्योगीकरण ने स्थिति को और खराब कर दिया है।

वर्तमान में, पृथ्वी पर पानी की गंभीर कमी ग्लोबल वार्मिंग से संबंधित सबसे गंभीर मुद्दा है। अनुचित पाइपलाइन से बर्बाद होने वाला पानी इस समस्या में महत्वपूर्ण योगदान देता है।

वर्तमान जल संकट को कम करने के लिए लोगों को जल संरक्षण (Jal Sanrakshan) करना तत्काल आवश्यक है। चूंकि स्वच्छ जल की आपूर्ति मानव आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए आवश्यक है, इसलिए उनका मूल्यह्रास लोगों के लिए भारी विनाशकारी घटनाओं का कारण बन सकता है।

यह स्पष्ट है कि भविष्य में हमें पानी की कमी का सामना करना होगा। इसके अलावा, जल संरक्षण (Jal Sanrakshan) के लिए एक तत्काल कार्य योजना की आवश्यकता है ताकि इस महत्वपूर्ण संसाधन को वर्तमान और भविष्य दोनों उपयोगों के लिए संरक्षित किया जा सके।

  • गणतंत्र दिवस (26 जनवरी) पर भाषण
  • मेरा प्रिय खेल पर निबंध
  • स्वतंत्रता दिवस पर निबंध

जल संरक्षण के लिए की गई पहल

जलभराव को रोकने और नाली के रिसाव की मरम्मत करके, पंजाब सरकार ने जल आपूर्ति को बचाने में मदद की।

छोटे-छोटे तालाब बनाने के सरकार के प्रयास से राजस्थान के लोगों को काफी लाभ हुआ है।

वर्षा के जल को बाद में उपयोग करने तथा संग्रहीत करने के लिए तेलंगाना के ग्रामीण इलाकों में टैंक बनाए गए हैं।

मेरी कहानी | इन सभी से प्रेरणा लेकर मैंने पंचायत सदस्यों की मदद से अपने इलाके में एक अभियान चलाया है। अभियान का उद्देश्य इलाके के विभिन्न घरों का दौरा करना और लोगों को उनके घरों में जल संरक्षण (Jal Sanrakshan) की सलाह देना है। यह उनकी जल उपलब्धता और उपयोग पैटर्न को समझने से संभव हुआ। इसके माध्यम से, हम उन्हें उन विभिन्न बिंदुओं से अवगत कराने में सक्षम हुए है कि कैसे पानी की बर्बादी होती है तथा किस तरह पानी की बर्बादी को रोका जा सकता है। अभियान ने परिवारों को अपने पानी के उपयोग को अनुकूलित करने में मदद की।

  • मेरा प्रिय मित्र
  • अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर निबंध
  • शिक्षक दिवस पर निबंध
  • मेरा प्रिय नेता: एपीजे अब्दुल कलाम पर निबंध

जल के बिना हम विश्व की कल्पना नहीं कर सकते। यह शर्म की बात है कि लोगों ने इस ईश्वरीय उपहार को नजरअंदाज कर दिया है। यदि आप लोगों को जीवित रखना चाहते हैं, तो आपको जल संरक्षण (Jal Sanrakshan) करना होगा। पृथ्वी पर जल सभी के जीवन के अस्तित्व के लिए आवश्यक है। यदि हम जल संरक्षण को प्राथमिकता नहीं देंगे तो हमारे बच्चे और आने वाली पीढ़ी को इसकी कमी का सामना करना होगा।

इन्हें भी देखें :

सीबीएसई क्लास 10वीं सैंपल पेपर

यूके बोर्ड 10वीं डेट शीट

यूपी बोर्ड 10वीं एडमिट कार्ड

आरबीएसई 10वीं का सिलेबस

महत्वपूर्ण प्रश्न :

हमें जल संरक्षण क्यों करना चाहिए?

जल हमारी मूलभूत आवश्यकता है। इसके बिना हम जीवन की कल्पना नहीं कर सकते। जल हमारे जीवन के लिए जरूरी है और इसका भंडार भी सीमित है इसलिए इसका संरक्षण आवश्यक है। जल का संरक्षण नहीं होने पर हमें उसकी किल्लत से जूझना पड़ेगा और जीवन में काफी समस्याओं का सामना करना पड़ेगा।

Applications for Admissions are open.

Aakash iACST Scholarship Test 2024

Aakash iACST Scholarship Test 2024

Get up to 90% scholarship on NEET, JEE & Foundation courses

JEE Main Important Physics formulas

JEE Main Important Physics formulas

As per latest 2024 syllabus. Physics formulas, equations, & laws of class 11 & 12th chapters

PW JEE Coaching

PW JEE Coaching

Enrol in PW Vidyapeeth center for JEE coaching

JEE Main Important Chemistry formulas

JEE Main Important Chemistry formulas

As per latest 2024 syllabus. Chemistry formulas, equations, & laws of class 11 & 12th chapters

TOEFL ® Registrations 2024

TOEFL ® Registrations 2024

Accepted by more than 11,000 universities in over 150 countries worldwide

PTE Exam 2024 Registrations

PTE Exam 2024 Registrations

Register now for PTE & Save 5% on English Proficiency Tests with ApplyShop Gift Cards

Download Careers360 App's

Regular exam updates, QnA, Predictors, College Applications & E-books now on your Mobile

student

Certifications

student

We Appeared in

Economic Times

जल संरक्षण पर निबंध Essay on Conservation of Water in Hindi

जल संरक्षण पर निबंध Essay on Conservation of Water in Hindi

आप इस पोस्ट में जल संरक्षण पर निबंध Essay on Conservation of Water in Hindi पढेंगे। साथ ही पानी बचाने के आवश्यकताओं और उपायों के बारे में भी हमने विस्तार से बताया है। यह लेख हमें जल के महत्व को समझाता है। इसको हमने स्कूल और कॉलेज के बच्चों के लिए 1500+ शब्दों मे लिखा है।

आईये शुरू करते हैं – जल संरक्षण पर निबंध हिन्दी में

Table of Contents

प्रस्तावना Introduction

ईश्वर ने हमें पांच महत्वपूर्ण तत्व दिए हैं जल, वायु, अग्नि, आकाश, और पृथ्वी। कभी कल्पना की है कि इन पांच तत्वों में से एक तत्व ना रहे तो क्या होगा? जी हाँ ! हर एक तत्व का एक अलग महत्व है जिसमे से जल का एक बहुत ही अनमोल महत्व है। आपने वो कहावत तो सुनी ही होगी ‘जल ही जीवन है’।

जल संरक्षण क्या है? What is Conservation of Water in Hindi?

स्वच्छ और पेयजल का व्यर्थ बहाव ना करते हुए उसको सही तरीके से उपयोग में लाकर जल के बचाव की ओर किए गए कार्य को जल संरक्षण कहते हैं। जल के बिना मनुष्य का जीवन संभव नहीं है। 

पृथ्वी का लगभग 71 प्रतिशत भाग पानी है जिसका 96.5 प्रतिशत नमकीन या समुद्री पानी है और मात्र 3.5 प्रतिशत ही पीने लायक पानी है। इससे यह साफ़ पता चलता है कि आने वाले वक्त में मनुष्य के लिए जल का कितना बड़ा अभाव होने वाला हो। इसलिए हमें आज से ही जल संरक्षण का कार्य शुरू करना होगा।

जल संरक्षण का काम किसी नेता या सरकारी संस्थान का काम नहीं है। इसे हमें घर-घर से शुरू करना होगा। अगर हम शुरू करेंगे तो धीरे-धीरे हमें देख कर हमारे आसपास के लोग और आने वाली पीढ़ी भी सीखेंगे।

जल संरक्षण का महत्व Importance of Water Conservation in Hindi

हम सभी को जल के महत्त्व को और भविष्य में जल की कमी से संबंधित समस्याओं को समझने चाहिए। धरती पर जीवन के अस्तित्व को बनाए रखने के लिए जल का संरक्षण और बचाव बहुत जरूरी होता है, क्योंकि बिना जल के जीवन संभव नहीं है। पृथ्वी पूरे ब्रह्मांड में मात्र एक ऐसा ग्रह है जहां पानी और जीवन आज की तारीख तक मौजूद है।

पृथ्वी पर हर चीजों को पानी की जरूरत होती है जैसे पेड़- पौधे, जीव- जंतु, कीड़े, इंसान और अन्य जीवित चीजें। हमें पीने, खाना पकाने, नहाने, कपड़े धोने, कृषि आदि जैसी हर गतिविधियों में पानी की आवश्यकता होती है। इसीलिए पानी बचाने के लिए केवल हम ही जिम्मेदार हैं।

आईये एक-एक करके जानते हैं हमें जल संरक्षण की ज़रुरत क्यों है?

जल संरक्षण की आवश्यकता क्यों है? Why to Conserve Water in Hindi?

  • मनुष्य जल के बिना जीवित नहीं रह सकता है। यह पानी बचाने का सबसे बड़ा कारण है।
  • शहरी क्षेत्रों में लोगों को पानी की बहुत किल्लत होती है। इसका सबसे बड़ा कारण प्रदूषण है और बढती जनसंख्या है। परन्तु जिस प्रकार आज सरकार ने पानी का बिल लेना शुरू कर दिया है और बाजारों में पीने का पानी तेज़ी से बिक रहा है यह साफ़ पता चलता है की पेयजल में तेज़ी से कमी आ रही है।
  • पीने का पानी कम होने के कारण लोग अशुद्ध पानी का सेवन कर रहे हैं जिसके कारण मनुष्य को बड़ी-बड़ी बीमारियों का सामना करना पड़ रहा है।
  • बड़े-बड़े किसान अधिक लोभ के कारण ज्यादा-ज्यादा से बोरेवेल खुदवा रहे हैं जिससे वे भू-जल का ज्यादा भाग गर्मियों के महीने में कृषि के लिए उपयोग कर रहे हैं। इसका सीधा असर पृथ्वी के जल स्तर पर पड़ रहा है और कुछ वर्षों की अच्छी खेती के बाद उनकी धरती बंजर होते जा रही है।
  • मनुष्य को पानी की आवश्यकता हर क्षेत्र में है जैसे पीने, भोजन बनाने, स्नान करने, कपड़े धोने, फसल उगाने, आदि के कार्य में।
  • जल की कमी से प्रकृति का संतुलन बुरी तरह से बिगड़ते जा रहा है जो पृथ्वी के हर जीव को संकट की और लेते जा रहा है।

जल संकट के कारण Reasons of Water Crisis in Hindi

  • हमारे देश में औद्योगिकीकरण, शहरीकरण और खनिज संपदा का बड़ी मात्राओं में विद्रोहन तथा कल कारखानों के विषैले रासायनिक अवशिष्टओ का उत्सर्जन होने से जल संकट निरंतर बढ़ रहा है इससे ना तो खेती-बाड़ी के लिए पर्याप्त पानी मिल पा रहा है और ना ही पेयजल की आपूर्ति हो पा रही है।

जल संकट के प्रभाव Effects of Water Crisis in Hindi

जल संकट के कारण तालाब सरोवर एवं कुएं सूख रहे हैं, नदियों का जलस्तर घट रहा है और जमीन का जलस्तर भी लगातार कम होते जा रही है, जिसके कारण अनेक प्रकार के जीव जंतु एवं पादपों का अस्तित्व मिट गया है, खेतों की उपज घट गई है और वन भूमि सूख रही है तथा धरती का तापमान लगातार बढ़ते जा रहा है। इस तरह से जल संकट का दुष्परिणाम देखने को मिल रहा है।

जल संरक्षण के उपाय How to Conserve Water in Hindi?

  • फ़ैक्टरी व कारख़ानों से निकलने वाले गंदे पानी को एक सुनिश्चित जगह पर निर्धारित किया जाना चाहिए जिससे वह अशुद्ध पानी, शुद्ध पानी के जल स्रोतों से ना मिल जाये।
  • समरसेबल पंप से निकलने वाले पानी को हम सब जरूरत से ज्यादा इस्तेमाल करते हैं जो कि गलत है। हमें उतना ही इस्तेमाल करना चाहिए जितना की हमें जरूरत है।
  • सार्वजनिक स्थलों पर लगाए गए पानी की टंकियों को ऑटोमेटिक करना चाहिए जिससे शुद्ध जल की बर्बादी ना हो सके।
  • हम सभी को जागरूक नागरिक की तरह जल संरक्षण का अभियान चलाते हुए बच्चों और महिलाओं में जागरूकता लानी होगी। स्नान करते समय हमें शावर टब का प्रयोग ना करके बाल्टी में पानी लेकर नहाना चाहिए जिससे हम बहुत जल बता सकते हैं।
  • रसोई में जल की बाल्टी या टब में बर्तन साफ करें तो पानी बहुत बचाया जा सकता है।
  • ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में ज्यादा से ज्यादा वर्षा जल संचयन के प्रोजेक्ट शुरू किये जाने जाने चाहिए।
  • गांव कस्बों और नगरों में छोटे बड़े तालाब बनाकर वर्षा जल का संरक्षण किया जाए।
  • नगरों और महानगरों में घरों कि नालियों में पानी को गड्ढा बनाकर एकत्रित किया जाए और पेड़ पौधे की सिंचाई के काम में लाया जाए तो साफ पानी की बचत की जा सकती है।
  • यदि प्रत्येक घर के छत पर वर्षा जल का भंडार करने के लिए एक या दो टंकी बनाया जाए और उन्हें मजबूत जालिया फिल्टर कपड़े से ढक दिया जाए तोहर नगर में जल संरक्षण किया जा सकेगा।
  • घरों मुहल्लों और सार्वजनिक पार्कों स्कूलों अस्पतालों दुकानों मंदिरों आदि में नली की टोटियां खुली या  टूटी रहती है, तो अनजाने ही प्रतिदिन हजारों लीटर जल बेकार हो जाता है। इस बर्बादी को रोकने के लिए नगर पालिका एक्ट में टोंटियों की चोरी को दंडात्मक अपराध बनाकर, जागरूकता भी बढ़ानी होगी।
  • विज्ञान की मदद से आज समुद्र के खारे जल को पीने लायक बनाया जा रहा है। गुजरात के आदि नगरों और प्रत्येक घर में पीने के जल के साथ-साथ घरेलू कार्यों के लिए खारे जल का प्रयोग करके शुद्ध जल का संरक्षण किया जा रहा है। इसे बढ़ावा देना चाहिए।
  • गंगा तथा यमुना जैसी बड़ी नदी की सफाई करना बहुत जरूरी है। बड़ी नदियों के जल का शोधन करके पेयजल के रूप में प्रयोग किया जा सके। शासन प्रशासन को लगातार सक्रिय रहना होगा।
  • जंगलों को काटने से हमें दोहरा नुकसान हो रहा है। पहला यह कि वाष्पीकरण ना होने से वर्षा नहीं हो पाती है तथा भूमिगत जल सूख जाता है। बढ़ती हुई जनसंख्या और औद्योगिकीकरण के कारण जंगल और वृक्षों के अंधाधुन काटने से भूमि की नामी लगातार कम होते जा रही है, इसीलिए वृक्षारोपण लगातार किया जाना चाहिए।
  • पानी का दुरुपयोग हर स्तर पर कानून के द्वारा प्रचार माध्यमों से प्रचार करके तथा विद्यालयों में पर्यावरण प्रदूषण की तरह जल संरक्षण विषय को अनिवार्य रूप से पढ़ाकर रोका जाना जरूरी है। अब समय आ गया है कि केंद्रीय और राज्यों की सरकारों जल संरक्षण को नए विषय बनाकर प्राथमिक से उच्च स्तर तक नई पीढ़ी को बताने का कानून बनाएं।

जल संरक्षण पर 10 लाइन 10 lines on Conservation of Water in Hindi

  • स्वच्छ  और पेयजल का व्यर्थ बहाव न करते हुए उसको सुनिश्चित तरीके से उपयोग मे लाकर जल के बचाव की ओर किए गए कार्य को जल संरक्षण कहते हैं।
  • हम सभी को जल के महत्त्व को और भविष्य में जल की कमी से संबंधित समस्याओं को समझने चाहिए।
  • धरती पर जीवन के अस्तित्व को बनाए रखने के लिए जल का संरक्षण और बचाव बहुत जरूरी होता है, क्योंकि बिना जल के जीवन संभव नहीं है।
  • पृथ्वी पर हर चीजों को पानी की जरूरत होती है जैसे पेड़ पौधे, जीव जंतु, कीड़े, इंसान और अन्य जीवित चीजें।
  • हमें पीने, खाना पकाने, नहाने, कपड़े धोने, कृषि आदि जैसी हर गतिविधियों में पानी की आवश्यकता होती है। इसीलिए पानी बचाने के लिए केवल हम ही जिम्मेदार हैं।
  • पेयजल की कमी होने से लोग इसका उपयोग कम से कम करें। शुद्ध जल कम होने के कारण लोगों को बड़ी बड़ी बीमारियां शुरू हो जाएगी।
  • धरती के अंदर जल का स्तर कम होने से धरती बंजर होने लगेगी और धीरे-धीरे करके चटकना शुरू कर देगी जो भूकंप जैसे हालातों को बढ़ावा देती है।
  • फैक्ट्री व कारखाने से निकलने वाले गंदे पानी को एक सुनिश्चित जगह पर निर्धारित कर दिया जाना चाहिए, जिससे साफ पानी गंदा ना हो।
  • समरसेबल पंपों से निकलने वाले पानी को हम सब जरूरत से ज्यादा इस्तेमाल करते हैं जो कि गलत है, हमें उतना ही इस्तेमाल करना चाहिए जितना हमें जरूरत है।

निष्कर्ष Conclusion

अंत में बस में कहूँगी –

जल है तो जीवन है और जीवन है तो पर्यावरण है पर्यावरण से धरती है और धरती से हम सब हैं

जल को जीवन का आधार मानकर समाज में नई जागृति लाने का प्रयास किया जाए। अमृत जल जैसा जनजागरण किये जाए। जल चेतना की जागृति लाने से जल संचय एवं जल संरक्षण की भावना का प्रयास होगा तथा इससे धरती का जिवन सुरक्षित रहेगा।

जल संरक्षण पर निबंध Essay on Conservation of Water in Hindi) आपको कैसा लगा कमेंट के माध्यम से बताइये और हमारे साथ जुड़े रहें।

2 thoughts on “जल संरक्षण पर निबंध Essay on Conservation of Water in Hindi”

Fantastic and very nice

Very very fantastic essay on conservation of water

Leave a Comment Cancel reply

Save my name, email, and website in this browser for the next time I comment.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed .

HiHindi.Com

HiHindi Evolution of media

जल संरक्षण पर निबंध Save Water Essay In Hindi

जल संरक्षण पर निबंध Save Water Essay In Hindi स्रष्टि के पंचभौतिक पदार्थो में जल का सर्वाधिक महत्व है. और यही जीवन का आधार है.

इस धरती पर जल संरक्षण   के कारण ही पेड़-पौधों, बाग-बगीचों आदि के साथ प्राणियों का जीवन सुरक्षित है. जीवन संरक्षण का मूल तत्वहोने से कहा गया है ‘ जल है तो जीवन है’ या ‘जल ही अमृत है’

धरती पर जलाभाव की समस्या उतरोतर बढ़ रही है. अतएवं धरती पर जल संरक्षण का महत्व  मानकर संयुक्त राष्ट्र संघ ने सनः 1992 में विश्व जल दिवस मनाने की घोषणा की, जो प्रतिवर्ष 22 मार्च के दिन मनाया जाता है.

Save Water Essay In Hindi जल संरक्षण पर निबंध

जल संरक्षण पर निबंध Save Water Essay In Hindi

जल चेतना हमारा दायित्व- Save Water Save Life Essay

हमारी प्राचीन संस्कृति में जल वर्षण उचित समय पर चाहने के लिए वर्षा के देवता इंद्र और जल देवता वरुण का पूजन किया जाता था. इसी प्रकार हिमालय के साथ गंगा, यमुना, सरस्वती आदि नदियों का स्तुवन किया जाता था. फलस्वरूप धरती पर जल संकट नही था.

प्राचीन एतिहासिक साक्ष्यो से विदित होता है कि हमारे राजा तथा समाजसेवी श्रेष्टिवर्ग पेयजल हेतु कुओ, तालाबों, पोखरों आदि का निर्माण कर पर्याप्त धन व्यय करते थे. वे जल संचय का महत्व जानते थे.

किन्तु वर्तमान काल में मानव की स्वार्थी प्रवृति, भौतिकवादी चिंतन एवं अनास्थावादी द्रष्टिकोण के कारण उपलब्ध जल का ऐसा विदोहन किया जा रहा है.

जिससे अनेक क्षेत्रों में अब पेयजल का संकट पैदा हो गया है. इसलिए हमारा दायित्व है कि हम जल को जीवन रक्षक तत्व के रूप में संरक्षण प्रदान करे और न केवल वर्तमान को आपितु भविष्य को भी निरापद बनावे.

जल संकट का प्रभाव (Water Conservation In Hindi)

हमारे देश में औद्योगीकरण, शहरीकरण और खनिज संपदा का बड़ी मात्रा में विदोहन, भूजल का अतिशय दोहन तथा कल कारखानों के विषैले रासायनिक अपशिष्टों का उत्सर्जन होने से जल संकट (Water Crisis) निरंतर बढ़ रहा है. इससे न तो खेती बाड़ी के लिए पर्याप्त पानी मिल रहा है. और न ही पेयजल की उचित आपूर्ति हो रही है.

जल संकट के कारण पुराने तालाब, सरोवर, एवं कुँए सूख रहे है. नदियों का जल स्तर घट रहा है और जमीन के अंदर का जल स्तर भी लगातार कम हो रहा है.

इस तरह जल संकट के कारण अनेक जीव जंतुओ एवं पादपों का अस्तित्व मिट गया है. खेतों की उपज घट रही है. और वनभूमि सूख रही है.धरती का तापमान निरंतर बढ़ रहा है. इस तरह जलसंकट के भयानक दुष्प्रभाव सामने आ रहे है.

जल संरक्षण के उपाय (Ways To Conserve Water)

जिन कारणों से जल संकट बढ़ रहा है, उनका निवारण करने से यह समस्या कुछ हल हो सकती है.इसके लिए भूगर्भीय जल का विदोहन रोका जावे और खानों खदानों पर नियंत्रण रखा जावे. वर्षा के जल का संचय कर भूगर्भ में डाला जावे. बरसाती नालों पर बाँध या एनिकट बनाए जावे.

तालाबों पोखरों कुओं को अधिक गहरा व चौड़ा किया जावे और बड़ी नदियों को आपस में जोड़ने का प्रयास किया जावे. जल चेतना में जल संरक्षण के प्रति जागृति लायी जावे. इस तरह के उपायों से जल संकट का समाधान हो सकता है.

उपसंहार (save water essay)

जल को जीवन का आधार मानकर समाज में नई जागृति लाने का प्रयास किया जावे. अमृत जलम जैसे जनजागरण किये जावे.

इससे जनचेतना की जागृति लाने से जल संचय एवं जल संरक्षण की भावना का प्रसार होगा तथा इससे धरती का जीवन सुरक्षित रहेगा.

save water essay in hindi wikipedia & जल संकट व जल संरक्षण पर निबंध

जल एक एक नाम जीवन भी हैं. सचमुच इस भूमंडल पर जल ही जीवन का आधार हैं. जल नही तो जीवन भी नही. प्रकृति ने मानव को भूमि वायु, प्रकाश आदि भी भांति जल भी बड़ी उदारता से प्रदान किया हैं.

लेकिन मनुष्य ने अपनी मुर्खता और स्वार्थ के कारण प्रकृति के इस वरदान को भी दूषित और दुर्लभ बना दिया हैं.

जल संरक्षण का अर्थ- जल संरक्षण का तात्पर्य हैं जल का अपव्यय रोकना और वर्षा के समय बह जाने वाले जल को भविष्य के लिए सुरक्षित कर रखना. बताया जाता है कि धरती की तीन चौथाई भाग जल से ढका हुआ हैं.

किन्तु पीने योग्य या उपयोगी जल बहुत ही सिमित हैं. हम प्रायः धरती के भीतर स्थित जल को उपयोग में लाते हैं. कुँए हैंडपंप नलकूप, सबसिम्बिल पम्प आदि से यह जल प्राप्त होता हैं.

धरती के ऊपर नदी तालाब झील झरने आदि का जल उपयोग में आता हैं. किन्तु प्रदूषण के चलते ये जल स्रोत अनुपयोगी होते जा रहे हैं.

धरती के भीतर उपस्थित जल को अंधाधुंध खिचाई के कारण जल का स्तर निरंतर नीचे जा रहा हैं. यह भविष्य में जल के घोर संकट का संकेत हैं. अतः जल का संरक्षण करना अनिवार्य हो गया हैं.

राजस्थान में जल संरक्षण- राजस्थान में धरती के अंदर जल का स्तर निरंतर गिर रहा हैं. भू गर्भ के जल का यहाँ जल संरक्षण बहुत जरुरी हैं. संतुलन वर्षा के जल से होता हैं.

जो राजस्थान में अत्यंत कम होती हैं. अतः धरती का पानी वापस नही मिल पाता, अब जल संरक्षण की चेतना जागृत हो रही हैं. लोग परम्परागत रीतियों से जल का भंडारण कर रहे हैं,.

सरकार भी इस दिशा में कार्य कर रही हैं. खेत में जल की बर्बादी रोकने के लिए सिंचाई की फव्वारा पद्धति पाइप लाइन से आपूर्ति, हौज पद्धति, खेत में ही तालाब बनाने आदि को अपनाया जा रहा हैं. मैग्सेस पुरस्कार प्राप्त श्री राजेन्द्र सिंह का तरुण भारत संघ तथा अन्य स्वयंसेवी संगठन भी सहयोग कर रहे हैं.

जल संरक्षण के अन्य उपाय- उपर्युक्त उपायों के अतिरिक्त जल संरक्षण के अन्य उपायों का अपनाया जाना भी परम आवश्यक हैं. शीतल पेय बनाने वाली कम्पनियां तथा बोतल बंद, जल बेचने वाले संस्थानों पर नियंत्रण किया जाना आवश्यक हैं.

वर्षा के जल को संग्रह करके रखने के लिए तालाब पोखर आदि अधिक से अधिक बनाये जाने चाहिए. नगरों में पानी का अपव्यय बहुत हो रहा हैं.

अतः जल के अपव्यय पर कठोर नियंत्रण हो तथा सबमसिबिल पम्प के साथ एक रिचार्ज बोरिंग अनिवार्य कर दी जानी चाहिए.

जल संरक्षण सभी का दायित्व- धरती के अंदर जल स्तर का गिरते जाना आने वाले जल संकट की चेतावनी हैं. भूमंडल का वातावरण गर्म हो रहा हैं. इससे नदियों के जन्म स्थल ग्लेशियर पिघल रहे हैं.

कही ऐसा न हो कि हमारी प्रसिद्ध नदियों के नाम ही मात्र शेष रह जाये. यदि जल संकट इसी तरह बढ़ता गया तो निकट भविष्य में यह संघर्ष का कारण बन सकता हैं.

कुछ विचारकों का कहना है कि अगर तीसरा विश्वयुद्ध हुआ तो वह जल पर अधिकार को लेकर होगा. अतः हम सभी का दायित्व हैं कि जल संरक्षण में तन मन और धन से योगदान देवे.

Save Water Essay In Hindi | जल संरक्षण पर निबंध

जल मनुष्य के लिए जीवन का प्रमुख साधन है. इसके बिना जीवन की कल्पना नही हो सकती, सभी प्राकृतिक वस्तुओं में जल अत्यंत महत्वपूर्ण हैं. राजस्थान का अधिक भाग मरुस्थल हैं. जहाँ जल नाम मात्र को भी नही हैं. इसी कारण यहाँ कभी कभी भीषण अकाल पड़ता हैं.

जल संकट के कारण- राजस्थान के पूर्वी भाग में चम्बल, दक्षिणी भाग में माही के अतिरिक्त कोई विशेष जल स्रोत नही हैं. जो जल की आवश्यकताओं को पूरा कर सके. पश्चिमी भाग तो पूरे रेतीले टीलों से भरा हुआ निर्जल परदेश हैं. जहाँ केवल इंदिरा गाँधी नहर ही एकमात्र आश्रय हैं. राजस्थान में जल संकट के कुछ प्रमुख कारण इस प्रकार हैं.

भूगर्भ के जल का तीव्र गति से दोहन हो रहा हैं. इससे जल स्तर कम होता जा रहा हैं. पेयजल के स्रोतों का सिंचाई में उपयोग होने से जल संकट बढ़ता जा रहा हैं. उद्योगों में जलापूर्ति भी आम लोगों को संकट में डाल रही हैं.

पंजाब हरियाणा आदि पड़ोसी राज्यों का असहयोगात्मक रवैया भी राजस्थान में जल संकट का बड़ा कारण हैं. राजस्थान की प्राकृतिक संरचना ही ऐसी है कि वर्षा की कमी रहती हैं और यदि वर्षा हो भी जाए तो उसकी रेतीली जमीन में जल का संग्रह नही हो पाता.

जल संकट के निवारण के उपाय- राजस्थान में जल संकट के निवारण हेतु युद्ध स्तर पर प्रयास होने चाहिए अन्यथा यहाँ घोर संकट उपस्थित हो जाएगा. कुछ प्रमुख सुझाव इस प्रकार हैं.

भूगर्भ के जल का असीमित दोहन रोका जाना चाहिए. पेयजल के जो स्रोत है उनका सिंचाई हेतु उपयोग न किया जाए. मानव की मूलभूत आवश्यकता को पहले ध्यान में रखा जाए.

वर्षा के जल को रोकने हेतु छोटे बांधों का निर्माण किया जाए ताकि वर्षा का जल जमीन में प्रवेश करे और जल स्तर में वृद्धि हो. पंजाब हरियाणा, मध्यप्रदेश की सरकारों से मित्रतापूर्वक व्यवहार रखकर आवश्यक मात्रा में जल प्राप्त किया जाए.

उपसंहार- भारत में भूगर्भ जल का स्तर निरंतर गिर रहा हैं. देश के सर्वाधिक उपजाऊ प्रदेश इस संकट के शिकार हो रहे हैं.

फिर राजस्थान जैसे मरूभूमि प्रधान प्रदेशों के भावी जल संकट की कल्पना ही सिहरा देने वाली हैं. अतः जल प्रबंधन हेतु शीघ्र सचेत और सक्रिय हो जाने में ही हमारा कल्याण निहित हैं.

Leave a Reply Cancel reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Pariksha Point

Join WhatsApp

Join telegram, जल संरक्षण पर निबंध (save water essay in hindi).

Photo of author

जल संरक्षण पर निबंध (Save Water Essay In Hindi)- “मछली जल की रानी है, जीवन उसका पानी है। हाथ लगाओ डर जाएगी, बाहर निकालो मर जाएगी।” यह नर्सरी राइम बचपन में सुनने में बहुत अच्छी लगती थी। मछली को पानी की रानी कहा जाता है। आप उसे एक बार पानी से बाहर निकालकर देखो। आप देखोगे कि कैसे वह मछली बिन पानी के छटपटाने लगेगी। जब उस मछली का जीवन पूरी तरह से जल पर ही निर्भर है, तब वह बिन पानी के कैसे जिंदा रह पाएगी। जल के बगैर कोई भी जीवित नहीं रह सकता है। पानी जीवित प्राणियों के लिए ऑक्सीजन के समान ही है।

जल संरक्षण (Essay On Save Water In Hindi)

जब भी बारिश का मौसम आता तो नीता अपने घर में पड़े घड़ों को भरना नहीं भूलती। वह ऐसा हर साल किया करती थी। नीता को डर था कि आने वाले समय में धरती पर पानी आधे से ज्यादा घट जाएगा। नीता को हर बारिश के मौसम में पानी के घड़ों को भरता देख लोग उसका खूब मजाक उड़ाया करते थे। लेकिन उसने कभी भी लोगों की बात को बुरा नहीं माना। हर साल वह ऐसा करती गई। कई साल बाद नीता के गांव में भंयकर सूखा पड़ा। गांव में पानी के लिए हाहाकार मच गया। लेकिन नीता के उन पानी के घड़ों ने गाँव वालों के जीवन को बचा लिया। यह गाँव वालों का सौभाग्य था कि उन्हें नीता जैसी समझदार लड़की मिली। सभी ने नीता को भविष्यवादी सोच के लिए धन्यवाद दिया। यह काल्पनिक कहानी थी नीता की जिसने पानी को बहुत महत्व दिया। जरा सोचो क्या होता अगर नीता भी अन्य गाँव वालों की तरह पानी का संरक्षण नहीं करती।

Join Telegram Channel

जल संरक्षण पर निबंध (Water Conservation Essay In Hindi)

इस पोस्ट में हमने जल संरक्षण पर निबंध (Save Water Essay In Hindi) एकदम सरल, सहज और स्पष्ट भाषा में लिखने का प्रयास किया है। जल संरक्षण पर निबंध के माध्यम से आप समझ पाएंगे कि हमारे जीवन में जल का क्या महत्व है, जल संरक्षण क्या है, जल संरक्षण क्यों जरूरी है और जल संरक्षण कैसे किया जा सकता है। तो चलिए जल संरक्षण पर निबंध पढ़ना शुरू करते हैं।

ऊपर दी गई कहानी में सच्चाई है। यह कहानी समाज को आईना दिखाती है। यह कहानी बताती है कि कैसे पानी का संरक्षण ना करने से एक गंभीर समस्या उत्पन्न हो सकती है। इस धरती पर अगर कुछ अमूल्य चीज है तो वह है जल। जल हीरे-जवाहरात से भी ज्यादा कीमती है। बिना जल के जीवन की कल्पना तक नहीं की जा सकती है। आपको सुबह उठते ही सबसे पहले जो चीज चाहिए वह पानी ही है। पानी जरूरत है हर इंसान के लिए।

ये निबंध भी पढ़ें

हमारी धरती पर 70% पानी है। पानी पर ही हमारा जीवन टिका हुआ है। लेकिन हम ही पानी के प्रति लापरवाह हैं। हम सभी मनुष्य पानी की कद्र नहीं करते हैं। हम सभी अपनी दैनिक दिनचर्या में पानी की बर्बादी करते हैं। इसका उदाहरण है- ब्रश करते वक्त, नहाते वक्त और कपड़े धोते वक्त। यह सभी काम करते समय हम पानी का बिल्कुल भी ख्याल नहीं रखते हैं। लेकिन क्या हमने कभी यह सोचा है कि पानी की ऐसी बर्बादी भविष्य में हमें किस मोड़ पर लेकर जाएगी। इस बात पर हमें विचार करना चाहिए।

जल का महत्व

क्या आप बता सकते हो कि इस पृथ्वी पर अगर कोई सबसे महत्वपूर्ण और कीमती चीज है तो वह क्या है? सभी का उत्तर भिन्न-भिन्न होगा। लेकिन क्या आपको पता है कि इस प्रश्न का सही उत्तर जल है। इस दुनिया में जितने भी जीव हैं वह सभी जल पर निर्भर हैं। जल से ही हमारा कल बनता है। जब ईश्वर ने इस सृष्टि की रचना की थी तो सबसे पहले वायु और पानी का निर्माण किया। बाद में इंसान अस्तित्व में आया। इंसान और जानवरों को शुरुआत से ही जल की आवश्यकता रही है। जल का इस्तेमाल कहां नहीं होता है? जल हमें खेती में चाहिए, पीने के लिए चाहिए, कपड़े धोने के लिए चाहिए, खाना पकाने के लिए चाहिए। हमें हर चीज में पानी की जरूरत महसूस होती है। सिर्फ मनुष्य ही नहीं बल्कि जानवरों और पेड़-पौधो को भी पानी चाहिए होता है।

जल संरक्षण क्या है?

संरक्षण का अर्थ होता है किसी चीज की रक्षा करना। जब हम किसी चीज की रक्षा करते हैं तो हम उसे संरक्षण की श्रेणी देते हैं। संरक्षण को अंग्रेजी में कंज़र्वेशन (Conservation) कहते हैं। आज के दौर में सोने से भी ज्यादा मंहगा है पानी। पानी का संरक्षण मतलब पानी की रक्षा करना होता है। पानी की बर्बादी कभी भी नहीं करनी चाहिए। जल को संरक्षित करना बहुत ही ज्यादा महत्वपूर्ण काम है। आज के औद्योगीकरण के बढ़ते दौर ने पानी के प्रति जागरूक होना बहुत आवश्यक हो गया है। हम अनेक तरीकों से जल संरक्षण कर सकते हैं। बस हमें यह प्रतिज्ञा लेनी है कि हम जल को बर्बाद होने से रोकें।

जल संरक्षण क्यों जरूरी है?

एक समय था जब धरती पर खूब सारा पानी हुआ करता था। क्योंकि उस समय जनसंख्या कम थी इसलिए पानी की कोई कमी भी नहीं थी। लेकिन जैसे-जैसे जनसंख्या बढ़ती गई, वैसे-वैसे पानी की कमी भी होती गई। लोगों को पानी की जरूरत हर काम में पड़ने लगी। हमारी धरती पर ऐसे तो खूब सारा पानी उपलब्ध है। लेकिन पीने योग्य पानी की मात्रा बहुत कम है। भूमि का जो मीठा जल है वह अब लगातार सूखता जा रहा है। बारिश के दौरान जो पानी धरती पर गिरता है वह हम सभी के लिए बहुत आवश्यक होता है। हमें बारिश के पानी का संरक्षण करना चाहिए। आगे भविष्य में लोगों को सूखे का सामना करना पड़ेगा। इसलिए अगर अभी से पानी की बचत की जाएगी तो भविष्य में यह बहुत काम आएगा। एक-एक बूंद से घड़ा भरता है। जल की एक बूंद भी बहुत कीमती है।

जल संरक्षण के उपाय

(1) जल के बचाव के लिए हमें वर्षा के पानी को अपने घर में स्टोर करना चाहिए।

(2) हमें नहाते समय नल की बजाय बाल्टी का प्रयोग करना चाहिए।

(3) जब हम ब्रश कर रहे हों, तो यह ध्यान में रहे कि हमें नल खुला नहीं छोड़ना है।

(4) देश की सरकार को यह करना चाहिए कि वह जल संरक्षण पर कड़ा कानून तैयार करे।

(5) हम जब भी कभी बाहर जाएं और वहां हमें किसी भी वाटर कूलर पर पानी बहता दिखे तो उसे हमें तुरंत ही बंद कर देना चाहिए।

(6) हमें बर्तन धोते समय यह एहतियात बरतना होगा कि हम सीधे नल के नीचे बर्तन ना धोकर एक बड़े टब में बर्तन धोएं।

(7) हम कपड़े बाल्टी में धो सकते हैं। और फिर कपड़ो का बचा हुआ पानी हम दूसरे काम में उपयोग में ले सकते हैं।

(8) खेतीबाड़ी और बागवानी में जल संरक्षण के लिए ड्रिप सिंचाई सबसे उपयुक्त तरीका है।

पानी पर प्रसिद्ध शायरी

ये पानी ख़ामोशी से बह रहा है इसे देखें कि इस में डूब जाएँ – अहमद मुश्ताक़

ऐसी प्यास और ऐसा सब्र दरिया पानी पानी है – विकास शर्मा राज़

संगति भई तो क्या भया, हिरदा भया कठोर नौनेजा पानी चढ़ै, तऊ न भीजै कोर – कबीर

तुम अपने दरिया का रोना रोने आ जाते हो हम तो अपने सात समुंदर पीछे छोड़ आए हैं – सईद क़ैस

खींच लाई है तिरे दश्त की वहशत वर्ना कितने दरिया ही मिरी प्यास बुझाने आते – रम्ज़ी असीम

कौन बड़ाई जलधि मिलि, गंग नाम भो धीम केहि की प्रभुता नहिं घटी, पर घर गए ‘रहीम’ – रहीमदास

दोनों चश्मों से मेरी अश्क बहा करते हैं मौजज़न रहता है दरिया के किनारे दरिया – वज़ीर अली सबा लखनवी

जल पर बहादुर पटेल की कविता

बूंदों के बीच प्यास

बूँद-बूँद टपकता पानी रात में ऐसा संगीत सन्नाटे की छाती पर टपकता बूँदों के गिरने के अंतराल से गिरता हूँ अथाह सागर में ये मद्धिम ध्वनि बूँदें जीवन की प्रतिध्वनि गिरती हैं द्वंद्व के साथ जगाती हुईं भीतर बीज तोड़ती कवच बाहर निकलने के लिए यह बूँदों की आवाज़ जिसके बीच से आती आवाज़ जैसे आती है सपनों के बीच से जागते रहने की आवाज़ बूँदों के बीच है प्यास कुएँ की जगत से देखें इतना गहरा और सूखा जिसमें सूझता न हो कुछ बूँदों के संलाप से है जीवित समुद्र का विराट साम्राज्य और यह दुनिया।।

जल संरक्षण पर निबंध 200 शब्दों में

जल से हमारा कल बनता है। यह मशहूर कथन किसी महान व्यक्ति द्वारा कहा गया था। वाकई में, जल हमारे लिए सबसे कीमती चीज में से एक है। आज अगर जितनी जरूरत हमें ऑक्सीजन की रहती है ठीक उतनी ही जरूरत हमें पानी की भी रहती है। पानी हमारी प्यास बुझाकर हमें जिंदा रखता है। बिना पानी के हम एक पल भी जिंदा नहीं रह सकते हें। जब से धरती पर जनसंख्या बढ़ती गई, तब से पानी की मांग भी ज्यादा बढ़ने लगी।

पानी की किल्लत हमें गर्मियों के मौसम में ज्यादा झेलनी पड़ती है। आज के दौर में हकीकत यह है कि पानी सोने से भी ज्यादा मंहगा है। हालांकि अभी लोगों को ऐसा लग नहीं रहा है। लेकिन जल्द ही वह पानी की असल कीमत समझने वाले हैं। पुराने समय में जल की मात्रा अधिक थी। लेकिन अब 21वीं शताब्दी में पानी का स्तर लगातार घट रहा है। वैज्ञानिकों के अनुसार धरती पर केवल 3% ही पीने लायक पानी है। आज हमें जल संरक्षण के लिए बहुत ज्यादा जागरूक होना पड़ेगा। हम सभी को यह संकल्प लेना होगा कि हम ज्यादा से ज्यादा पानी बचाएं।

जल संरक्षण पर 10 लाइनें

(1) जल से ही हमारा कल बनता है। जल हमारे लिए जीवन है।

(2) भगवान द्वारा दिया गया अगर कोई अनमोल उपहार है तो वह जल ही है।

(3) हमें हर काम के लिए पानी की जरूरत पड़ती है। जैसे कि कपड़े धोना, पानी पीना, नहाना, बर्तन धोना आदि।

(4) हमें हमारे बच्चों को पानी को संरक्षित करने की शिक्षा देनी चाहिए। ऐसा करना हमारे आने वाले कल के लिए बहुत अच्छा है।

(5) हमें यह ध्यान रखना चाहिए कि हम ब्रश करते वक्त बेवजह पानी बर्बाद ना करें।

(6) हमें हमारी नदियों और तालाबों को साफ सुथरा रखना चाहिए।

(7) जल हमारे लिए ऑक्सीजन के समान ही महत्वपूर्ण है।

(8) हमारी धरती पर केवल 3% पीने योग्य पानी है।

(9) जल की एक बूंद भी बहुत कीमती है।

(10) जल का संरक्षण करना हमारी आदत में शुमार हो जाना चाहिए।

उत्तर- जल संरक्षण की जरूरत बहुत ज्यादा है। बिना जल के हम जीवन की कल्पना भी नहीं कर सकते हैं। हमें बारिश के पानी का संरक्षण करना चाहिए। आगे भविष्य में लोगों को सूखे का सामना करना पड़ेगा। इसलिए अगर अभी से पानी की बचत की जाएगी, तो भविष्य में यह बहुत काम आएगा।

उत्तर- संरक्षण का अर्थ होता है किसी चीज की रक्षा करना। जब हम किसी चीज की रक्षा करते हैं तो हम उसे संरक्षण की श्रेणी देते हैं। संरक्षण को अंग्रेजी में conservation कहते हैं। आज के दौर में सोने से भी ज्यादा मंहगा है पानी। पानी का संरक्षण मतलब पानी की रक्षा करना होता है।

उत्तर- हमारी धरती पर केवल 3% ही पीने योग्य पानी है। बाकी धरती पर समुद्र के रूप में खारा पानी मौजूद है।

उत्तर- नदियों, झीलों, झरनों व तालाबों का जल तथा भौम जल को ही पानी के चार स्रोत कहा जाता है।

Leave a Reply Cancel reply

Recent post, डेली करेंट अफेयर्स 2024 (daily current affairs in hindi), up polytechnic result 2024 {परिणाम जारी} यूपी पॉलिटेक्निक रिजल्ट 2024 यहाँ से देखें, mp b.ed allotment letter 2024 – तीसरे राउंड का अलॉटमेंट लेटर जारी, bihar iti counselling 2024 – काउंसलिंग प्रक्रिया की पूरी जानकारी, bihar iti result 2024 {रैंक कार्ड जारी}बिहार आईटीआई रिजल्ट 2024 यहाँ से देखें, mp d.el.ed merit list 2024 {दूसरे राउंड अलॉटमेंट लेटर जारी} एमपी डीएलएड मेरिट लिस्ट 2024.

Join Whatsapp Channel

Subscribe YouTube

Join Facebook Page

Follow Instagram

water saving essay in hindi

School Board

एनसीईआरटी पुस्तकें

सीबीएसई बोर्ड

राजस्थान बोर्ड

छत्तीसगढ़ बोर्ड

उत्तराखंड बोर्ड

आईटीआई एडमिशन

पॉलिटेक्निक एडमिशन

बीएड एडमिशन

डीएलएड एडमिशन

CUET Amission

IGNOU Admission

डेली करेंट अफेयर्स

सामान्य ज्ञान प्रश्न उत्तर

हिंदी साहित्य

[email protected]

© Company. All rights reserved

About Us | Contact Us | Terms of Use | Privacy Policy | Disclaimer

पानी बचाओ पर निबंध

Save Water Essay in Hindi: पानी बचाने के बारे में तो आप सबने सुना ही होगा, क्योंकि आजकल की जनरेशन को पानी की इतनी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है, जिसकी वजह से पानी बचाओ का अभियान चलाया जा रहा है।

Essay-on-Save-Water-in-Hindi

इस आर्टिकल में हम जल बचाओ पर निबंध हिंदी में (Save Water Essay in Hindi) शेयर कर रहे हैं। इस जल संरक्षण पर निबंध (pani bachao essay in hindi) में पानी बचाओ के संदर्भित सभी माहिति को आपके साथ शेयर किया गया है। यह निबंध सभी कक्षाओं के विद्यार्थियों के लिए मददगार है।

वर्तमान विषयों पर हिंदी में निबंध संग्रह तथा हिंदी के महत्वपूर्ण निबंध पढ़ने के लिए यहां  क्लिक करें।

पानी बचाओ पर निबंध (Save Water Essay in Hindi)

पानी बचाओ पर निबंध (250 शब्द).

जल हमारे जीवन के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है। अगर पृथ्वी पर जल नहीं होगा तो हमारा जीना भी संभव नहीं है। हमें हर चीज में जल की आवश्यकता पड़ती है।

जीवन के संरक्षण के लिए वायु के बाद जल सबसे महत्वपूर्ण तत्व है। जल एक सीमित वस्तु है, जिसका यदि उचित प्रबंधन नहीं किया गया तो निकट भविष्य में इसकी कमी हो जाएगी।

पानी मनुष्यों और जीव-जंतुओं और पेड़-पौधों सभी के लिए बहुत ही आवश्यक है। कृषि उद्योग के लिए भी पानी की सबसे ज्यादा आवश्यकता होती है। कहा भी जाता है जल ही जीवन है, जल नहीं होगा तो जीवन भी नहीं होगा।

भारत के कई बड़े शहरों में विकास में नदियों ने बहुत ही बड़ा सहयोग किया है, क्योंकि नदियों के रास्ते परिवहन का कार्य बहुत ही आसानी से हो जाता है।

आज के समय में हमारे वैज्ञानिक मंगल ग्रह पर जीवन की संभावना होगी इसकी छानबीन में लगे हुए हैं, क्योंकि वहां पर बहुत ही अधिक पानी जमा हुआ है। वहां की वायु में नमी मिलती है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि हम कहीं भी जल द्वारा ही जीवन की कल्पना कर सकते हैं।

पृथ्वी के पारिस्थितिक तंत्र के संतुलन को बनाए रखने के लिए सबसे आवश्यक जल ही है। जिस तरह से समुद्र में समाहित हुआ जल वायु में मिलकर बादल का रूप ले लेते हैं।

जब बादल समुद्र से मैदानी इलाकों में पहुंचकर ठंडक देते हैं और यह पानी में बदल जाते हैं। इसी के द्वारा बारिश होती है और वह नदियों तालाबों का जल स्रोत भर देती हैं।

हमारी पृथ्वी पर प्राकृतिक संसाधन जल की सहायता से ही निर्मित होते हैं। ताजा पानी और पीने का पानी सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है हमारे जीवन जीने के लिए, क्योंकि यह हमारे स्वस्थ जीवन को ही बरकरार रख सकता है।

बिना जल संरक्षण किए पृथ्वी पर जीवन को अब और नहीं बचाया जा सकता है, इसीलिए जल संरक्षण बहुत ही महत्वपूर्ण है।

Essay on Save Water in Hindi

-->

जल बचाओ पर निबंध (500 शब्द)

मनुष्य जीवन के लिए जल बहुत ही ज्यादा जरूरी है। जल हमारे जीवन के लिए एक महत्वपूर्ण इकाई माना जाता है। पृथ्वी पर यदि जल नहीं होगा तो जीवन की संभावना करना भी मुश्किल है।

जल के बिना जीवन असंभव है। पृथ्वी पर मौजूद जीव जंतु और पेड़ पौधे से भी पानी पर निर्भर है। इसीलिए देश में जल बचाओ पृथ्वी बचाओ के नारे लग रहे हैं। क्योंकि जिस प्रकार से जनसंख्या वृद्धि हो रही है और जल का दुरुपयोग हो रहा है।

उसी तरीके से आने वाले कुछ ही सालों में यानी कि हमारी आने वाली पीढ़ी के लिए जल्द एक मुख्य समस्या के रूप में उभरने वाला है।

पृथ्वी पर जल बचाने की क्या जरूरत है?

अच्छी पर वर्तमान समय में 75% पानी है। उसमें से 97% पानी समुद्र में स्थित है, जो पीने योग्य नहीं है। सिर्फ 2.4% पानी जो पीने योग्य पानी है और उसी पानी पर पूरी पृथ्वी निर्भर है। मानव प्रजाति के साथ-साथ संपूर्ण जीव जंतु और पेड़-पौधे सिर्फ इसी पानी पर निर्भर है।

पृथ्वी पर पानी का संतुलन बनाए रखने के लिए हमें पानी को बचाना बहुत ही ज्यादा जरूरी है। क्योंकि वायु प्रदूषण की वजह से वाष्पीकरण और वर्षा की प्रक्रिया पर काफी ज्यादा असंतुलन देखने को मिल रहा है और इसी कारण से साफ पानी की कमी भविष्य में एक सबसे बड़ा मुद्दा बनकर सामने आने वाली है।

अतः हम सभी को पृथ्वी पर जल बचाने की जरूरत है। आने वाली पीढ़ी के लिए जल की समस्या को कम करने के लिए हमें अभी से ही जल को बचाने का प्रयास करना चाहिए।

हमें जल बचाने के लिए क्या करना चाहिए?

वर्षा के समय जितना भी जल पृथ्वी पर आता है, उसका काफी हिस्सा ऐसे ही व्यर्थ हो जाता है। उस पानी को हमें एकत्रित करना चाहिए ताकि उस पानी से काफी लोगों की प्यास बुझा सके और एक जगह पानी इकट्ठा होने से पानी जमीन में भी जाता है, जिसकी वजह से धरती के अंदर जो पानी है, उसका लेवल बढ़ जाता है।

स्वच्छ पानी को जितना कम हो सके, उतना कम बर्बाद करें और प्रतिदिन अपनी दिनचर्या में पानी को बिना बर्बाद की पानी का उपयोग करने का एक संकल्प हम सभी को लेना चाहिए।

पानी की एक बूंद व्यर्थ ना करें और ना ही पानी को प्रदूषित करें नदियों के प्रदूषण दिन प्रतिदिन बढ़ते जा रहे हैं। हम सभी अपने निजी स्तर पर संकल्प लेकर इस प्रदूषित पानी को बचा सकते हैं।

प्रदूषण को रोकने के साथ-साथ पानी के बचाव को लेकर भी कई प्रयास हमें करने होंगे ताकि भविष्य केंद्र आने वाली पीढ़ी को पानी की समस्या का सामना ना करना पड़े।

जीवन की मुख्य इकाई पानी है। पानी के बिना पृथ्वी पर कोई भी जीवित नहीं रह सकता है। इसीलिए भविष्य के लिए यदि आने वाली पीढ़ियों को पानी की समस्या से बचाना है, तो आज से ही हम सभी को जल संरक्षण के प्रति कई महत्वपूर्ण संकल्प लेने होंगे।

पानी बचाओ के अभियान में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हुए जल प्रदूषण को भी रोकना चाहिए। हम सभी का साथ होगा तो एक दिन जल प्रदूषण पूरी तरह से खत्म हो जाएगा।

  • पृथ्वी बचाओ पर निबंध
  • पेड़ बचाओ पर निबंध
  • जल का महत्त्व पर निबंध

पानी बचाओ पर निबंध (800 शब्द)

देश के कई हिस्सों में आज भी पानी की इतनी समस्या है कि लोग पीने के पानी के लिए कई किलोमीटर दूर जाकर रोजाना अपने घरों में पानी लाते हैं।

आज के समय में पानी की विकट समस्या आने वाली पीढ़ी के लिए विकराल रूप ले सकती है। आज हमारा देश पानी की जिस समस्या से गुजर रहा है। भविष्य में यह समस्या और भी अधिक बढ़ने वाली है।

अतः हम सभी को पानी को जितना हो सके, उतना अधिक बचाने का प्रयास करना चाहिए। इसके साथ ही जल प्रदूषण को कम करने का भी प्रयास करना चाहिए।

पृथ्वी पर जल प्रदूषण की वजह

दिन प्रतिदिन जल प्रदूषण बढ़ता जा रहा है। जल प्रदूषण के नए नए मामले सामने आ रहे हैं। लोग अपशिष्ट पदार्थों को पानी में मिलाकर उस पानी को दूषित कर देते हैं। जिसकी वजह से उस पानी का प्रयोग करना काफी मुश्किल हो रहा है।

इतना ही नहीं और योगी स्तर पर कई प्रकार के जहरीले रसायन और अपशिष्ट पदार्थ शुद्ध पानी में मिला दिए जाते हैं, जिसकी वजह से पानी पूरी तरह से प्रदूषित हो जाता है और उस पानी को पीना संभव नहीं है।

दिन प्रतिदिन बढ़ती जनसंख्या की वजह से ही जल प्रदूषण में बढ़ोतरी हो रही है। क्योंकि जिस प्रकार से जनसंख्या बढ़ रही है। उसी प्रकार के औद्योगिक क्षेत्र भी बढ़ रहे हैं और अपशिष्ट पदार्थों और रसायनों की संख्या भी बढ़ती जा रही है।

औद्योगिक क्षेत्रों से निकलने वाले प्रदूषित जल को शुद्ध जल में मिलाने की बजाएं अलग जगहों पर एकत्रित करके उसे शुद्ध करने का प्रयास करना चाहिए।

सरकार के द्वारा भी इसको लेकर काफी अहम कदम उठाए जा रहे हैं। पानी की कमी से पृथ्वी पर क्या प्रभाव पड़ रहा है। आज के समय में पानी की समस्या कई इलाकों में बहुत अधिक है। लोगों को पीने के लिए पानी की समस्या आ रही है।

राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो के अनुसार उपलब्ध करवाई गई जानकारी के माध्यम से पता चला है, कि भारत में जितनी भी आत्महत्या हो रही है। उनमें से करीब 14.4% आत्महत्या पानी की कमी और सूखे और अकाल की वजह से हो रही है।

भविष्य में पानी की कमी से पेड़ पौधों पर काफी बुरा प्रभाव पड़ने वाला है और यही पेड़ पौधे वर्षा के चक्र को संतुलित बनाए रखते हैं।

यदि पेड़ पौधे खत्म होते गए तो वर्षा का चक्र भी असंतुलित हो जाएगा और पानी की समस्या और अधिक बढ़ जाएगी। पानी की समस्या देश में गरीबी के साथ-साथ कई अन्य सामाजिक मुद्दे भी पैदा करने वाली है।

पानी बचाओ में अपनी भूमिका कैसे निभाए?

पानी बचाओ और जल ही जीवन है। इस प्रकार के कई अभियान सरकार के द्वारा चलाए जा रहे हैं। उन सभी अज्ञान में आपको अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभानी है।

ताकि आने वाली पीढ़ी के लिए पानी की समस्या को जितना हो सके, उतना कम किया जा सके हम अपने स्तर पर छोटे-छोटे प्रयास कर सकते हैं। जिससे पानी बचाओ आंदोलन में हम अपनी भी भूमिका निभा सकते हैं।

बारिश के पानी को अपने टाकों में एकत्रित करने का प्रयास करें। पानी के प्रदूषण को कम करने का प्रयास करें। अपने आसपास भी जल प्रदूषण को रोकने के लिए जागरूकता फैलाएं। जितना संभव हो सके, उतना पानी को व्यर्थ करने का प्रयास करें।

अपने आसपास इलाकों में व्यर्थ बह रहे पानी को बंद करें। लाखों लोगों के द्वारा यदि एक साथ पानी बचाओ अभियान में सहयोग दिया जाए तो इस अभियान को बड़ी सफलता मिल सकती है।

पानी की कमी को दूर करने के लिए सरकार द्वारा किए गए प्रयास

सरकार के द्वारा पानी की कमी को दूर करने के लिए कई प्रकार के प्रयास किए गए हैं। सरकार आए दिन अलग-अलग जल संरक्षण अभियान चला रही है।

उन के माध्यम से लोगों के प्रति जल प्रदूषण को कम करने और जल को बचाने के लिए जागरूकता फैलाने का प्रयास किया जा रहा है।

  • सरकार के माध्यम से सिंचाई वाले क्षेत्रों में जहां पानी के जरिए सिंचाई की जा रही है, वहां बूंद बूंद तकनीक के माध्यम से लाखों लीटर पानी प्रतिदिन बचाया जा रहा है।
  • सरकार ने हर जगह पर जल बचाओ कल बचाओ के नारे के माध्यम से भी देशभर में जागरूकता फैलाई है।
  • जल प्रदूषण को कम करने के लिए सरकार के द्वारा नदियों को साफ किया जा रहा है।
  • औद्योगिक क्षेत्रों से निकलने वाले गंदे पानी को अलग जगह एकत्रित करके उसे पुनः साफ करके उपयोग करने योग्य बनाया जा रहा है।
  • जल संरक्षण को लेकर सरकार के द्वारा पेड़ पौधे लगाने के लिए लोगों से आग्रह किया जा रहा है।
  • ताकि वर्षा का चक्र संतुलित रहे और जिसकी वजह से पानी की आपूर्ति देशभर में सुचारु रुप से चल सके।

पानी की कमी दुनिया के कई हिस्सों में आज भी एक प्रमुख मुद्दा बनकर उभर रही है और आने वाले समय में पानी की मांग आज से करीब 10 गुना और अधिक बढ़ जाएगी।

वर्तमान समय से ही यदि पृथ्वी पर उपलब्ध पानी को बचाने का प्रयास नहीं किया गया तो आने वाले समय में पानी की एक-एक बूंद के लिए मनुष्य तरसता हुआ नजर आएगा।

पानी बचाओ पर निबंध (1400 शब्द)

हम सब जानते हैं कि जल ही जीवन है और जल हमारे लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है। इसके बिना हमारा जीवन यापन संभव नहीं है। बिना जल के हम जीने की कल्पना भी नहीं कर सकते हैं।

पृथ्वी का लगभग 71% भाग समुंदरों महासागरों नदियों और ग्लेशियर के रूप में ही पाया जाता है और 71% जल से ढका हुआ है, लेकिन इसमें से मात्र 1% सी मानव के लिए उपयुक्त है, जिसका मानव प्रयोग कर सकता है।

जल केवल मनुष्य के लिए ही जरूरी नहीं है, बल्कि पृथ्वी पर जितने भी प्रजातियां हैं। वह सब जल पर ही निर्भर रहती हैं पृथ्वी पर उपस्थित लगभग सभी प्राणी अपने जीवन का निर्वाह सिर्फ जल के बलबूते पर ही करते हैं।

जिस तरह से जल की दिन-प्रतिदिन कमी होती जा रही है, इससे कई प्रजातियां विलुप्त होती जा रही हैं। इसीलिए हमें चाहिए कि हम जल संरक्षण पर ध्यान दें।

जल है तो जीवन है

हमारे जीवन का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा जल है और हमें यह जीवन यापन करने के लिए बहुत ही जरूरी है। जल के बिना जीने की कल्पना भी नहीं कर सकते हैं। अगर हमें पृथ्वी पर अपना जीवन बनाए रखना है, तो हमें जल की आवश्यकता जरूर होती है।

पानी सिर्फ पीने की ही काम नहीं आता है, बल्कि हमारे अन्य कामों के लिए भी जल को काम में लिया जाता है। जैसे कि नहाना, कपड़े धोना, खाना बनाना, बागवानी करना और भी हमारे दिन में न जाने कितने काम होते हैं, जिनमें हमें पानी की बहुत ही ज्यादा जरूरत पड़ती है।

पृथ्वी पर जितने भी पेड़ पौधे और जीव जंतु उपस्थित है, वह सब पानी पर ही निर्भर रहते हैं। अगर पानी नहीं होगा तो इनकी वृद्धि और विकास रुक जाएगा, जिससे पूरा पर्यावरण तंत्र और खाद्य श्रंखला बहुत ज्यादा प्रभावित हो जाएगी।

इसीलिए हमें चाहिए कि अगर हमें जीवन पर अपना फलता फूलता जीवन यापन करना है तो हमें पानी का संरक्षण करना होगा।

पानी संरक्षण की आवश्यकता

विश्व में कई सारी जगहों पर बहुत ही कम वर्षा होती है, जिसकी वजह से वहां सुखा आने की स्थिति हो जाती है। कई लोग निचले स्तर की वजह से पानी की भयंकर कमी से जूझ रहे हैं।

कई सारे जगहों पर भूजल या तो गंदा हो चुका है या फिर बारिश की कमी के कारण उसकी पूर्ति नहीं हो पाती है। इन सभी कारणों की वजह से कई जगहों पर पानी की दिन-प्रतिदिन कमी बढ़ती ही जा रही है।

औद्योगीकरण और शहरीकरण के जैसे वजह से भूजल में कमी में वृद्धि हुई है, क्योंकि इन सभी के विकास के लिए तेजी से पानी की मांग बढ़ती जा रही है।

डब्ल्यूएचओ की एक रिपोर्ट के अनुसार यह बताया गया कि प्रति 9 व्यक्तियों में से एक व्यक्ति लगभग 84.4 करोड़ लोगों को आज भी शुद्ध पानी बिल्कुल भी उपलब्ध नहीं हो पा रहा है।

इन आंकड़ों को देखते हुए यह पता चलता है कि पानी की समस्या कितनी गंभीर होती जा रही है और इस गंभीर समस्या को हम टाल नहीं सकते हैं।

इसके लिए हमें अभी से ही प्रयास शुरु करना होगा कि हम जल का संरक्षण करें और अपने आने वाली पीढ़ियों को और अपने भविष्य को बेहतर बना सके।

पानी संरक्षण की पहल

पानी संरक्षण की पहल के चलते लोगों में जागरूकता फैलाई जा रही है और उन्हें इसके महत्व के बारे में बताया जा रहा है कि किस तरह से जल को संरक्षित किया जाए।

जल संरक्षण अभियान लोगों को इस बात का एहसास दिलाता है कि हमारे लिए पृथ्वी पर जल की बहुत ही ज्यादा आवश्यकता है और यह हमारे लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है।

हमें अपने भविष्य के लिए जल को संरक्षण करना चाहिए और इस बात का भी ज्ञान कराता है कि स्वच्छ और साफ पानी के स्रोत काफी सीमित हो चुके हैं। उनका अत्यधिक उपयोग करने पर वह जल्द ही समाप्त हो जाएंगे, जिसकी वजह से मानव अस्तित्व के लिए संकट पैदा हो सकता है।

जैसा कि हम सभी जानते हैं पृथ्वी का 71% भाग पानी से ढका हुआ है, परंतु इस पृथ्वी पर जितना भी पानी उपलब्ध है, वह हमारे लिए बिल्कुल भी काम का नहीं है।

उसमें से सिर्फ 1% ही जल काम के लायक है और उसे हम उपयोग कर सकते हैं। इसीलिए हमें जिम्मेदार नागरिक बनकर पानी का संरक्षण शुरू कर देना चाहिए।

पानी बचाओ जीवन बचाओ

अगर हमारे पास पर्याप्त मात्रा में ही पानी रह जाएगा और आने वाली पीढ़ी के लिए बिल्कुल भी पानी नहीं बचेगा तो इससे हमारा जीवन संकट में आ जाएगा।

इसीलिए कहा जाता है पानी बचाओ और जीवन बचाओ पानी बचाओ तभी हम अपने जीवन को सुरक्षित रख सकते हैं। जिस तरह से जनसंख्या लगातार बढ़ती जा रही है, उस तरह से पानी की मांग भी बढ़ती जा रही है।

भारत का प्रत्येक नागरिक प्रतिदिन 1 लीटर पानी भी बचाएगा तो इससे बहुत बड़ा बदलाव आ सकता है, क्योंकि आप का 1 लीटर बचाया वह पानी किसी अन्य व्यक्ति के काम आ सकता है और किसी और को स्वच्छ जीवन दे सकता है।

अगर किसी के पास पीने के लिए स्वच्छ पानी और उसकी सुविधा नहीं है तो आपको चाहिए कि आप उनकी मदद करें। यह छोटे छोटे कदम ही हम लोगों के जल संरक्षण और लोगों की मददगार तरीके से साबित हो सकते हैं।

पानी को कैसे बचाएं?

  • जिस समय हम दाढ़ी बनाते हैं या ब्रश करते हैं, उस समय अगर पानी का इस्तेमाल नहीं हो रहा हो तो आपको नल बंद कर देना चाहिए।
  • हमें ऐसे फ्लशिंग सिस्टम का उपयोग करना चाहिए, जो पानी की खपत को कम करता है।
  • नहाने के लिए फव्वारे का प्रयोग नहीं करना चाहिए, बल्कि मग और बाल्टी का प्रयोग करना चाहिए।
  • सिंचाई के लिए पानी भर आई प्रणाली की जगह ट्रिप इरीगेशन प्रणाली का इस्तेमाल करना चाहिए।
  • अपने बागानों में शाम के समय पानी का छिड़काव करें और जरूरत से ज्यादा पानी का इस्तेमाल नहीं करें।
  • सार्वजनिक स्थलों पर खुले हुए पानी के नलों को आप देखते ही तुरंत बंद कर दें अथवा हो सके तो इसकी सूचना स्थानीय प्रशासन को अवश्य दें।
  • अपने घरों और क्षेत्रों में बारिश के पानी के लिए संरक्षण तंत्र की जगह बनवाएं।
  • आरो फिल्टर से निकले हुए खराब पानी को व्यर्थ नहीं करना चाहिए, बल्कि इसका उपयोग पौधों को सींचने और कपड़े धोने में कर सकते हैं।

जल हमारे जीवन का आधार है, जल नहीं तो हमारा जीवन नहीं कोई मनुष्य हो जीव जंतु हो अथवा पेड़ पौधे हो सभी काजल सिर्फ जीवन पर ही टिका हुआ है। अगर पानी उपलब्ध नहीं होगा तो हम थोड़े समय तक जीवित रह सकते हैं।

इसके पश्चात हमारा जीवन समाप्त हो जाएगा, इसीलिए हम पानी के संरक्षण की शुरुआत करें पानी को बर्बाद ना करें और पृथ्वी का संतुलन बनाए रखें।

इस लेख पानी बचाओ पर निबंध इन हिंदी (pani bachao par nibandh) में आपको पानी बचाने के महत्व और तरीकों के बारे में बताया है।

आशा करते हैं कि आप भी इन तरीकों को जरूर अपनाएंगे और पानी को व्यर्थ नहीं करेंगे और आपको इससे संबंधित कोई भी जानकारी चाहिए वह तो आप कमेंट बॉक्स में कमेंट कर सकते हैं।

पानी की समस्या पर निबंध

जल पर निबंध

जल ही जीवन है पर निबंध

जल प्रदूषण पर निबंध

Rahul Singh Tanwar

Related Posts

Comment (1).

Very nice sir

Leave a Comment जवाब रद्द करें

Search this blog

Hindimeinnibandh.in हिंदी में निबंध (essay in hindi) copy paste download.

  • Buy this template
  • Uncategorized
  • Blogger Tips

जल संरक्षण पर निबंध | Save Water Hindi Essay

Robert E. Reynolds

जल ही जीवन है।

यह सत्य हमेशा से हमें सिखाया गया है, परंतु आज के समय में यह सत्य अधिक महत्वपूर्ण हो गया है।

जल संकट की चपेट में हम सभी ने परिचित होने की सीमा को पार कर दिया है।

हमारे आज का विषय है "Save Water"।

इस ब्लॉग पोस्ट में हम जल संरक्षण के महत्व को समझेंगे और इसे बचाने के तरीकों पर चर्चा करेंगे।

चलिए, हम सब मिलकर जल के महत्व को समझने और उसे बचाने के उपायों की ओर बढ़ते हैं।

जल संरक्षण: जीवन के लिए महत्वपूर्ण

प्रस्तावना: जल, हमारे जीवन का अभिन्न हिस्सा है।

यह न केवल हमारे पीने के लिए महत्वपूर्ण है, बल्कि हमारे अन्य कार्यों में भी लगभग हर एक काम में जल की आवश्यकता होती है।

हालांकि, आजकल की बढ़ती जनसंख्या और अनियंत्रित उपयोग के कारण, जल संकट एक गंभीर समस्या बन चुकी है।

जल का महत्व: "जल ही जीवन है" यह कहावत हमें हमेशा याद दिलाती है कि जल का महत्व कितना है।

हमारे शरीर का 70% हिस्सा पानी से बना होता है और हर दिन हमें नए पानी की आवश्यकता होती है।

न केवल हमारे शरीर के लिए, बल्कि कृषि, औद्योगिक काम, और समाज के अन्य क्षेत्रों में भी जल की आवश्यकता है।

इसके अलावा, जल का सही उपयोग वायुमंडल को भी स्वच्छ और स्वस्थ रखने में मदद करता है।

जल संकट के कारण: जल संकट के पीछे कई कारण हैं।

अनियंत्रित जल संप्रेषण, विभाजन और उपयोग में बढ़ती अनियंत्रितता, और जल संरक्षण की अभावी नीतियाँ इस समस्या का मुख्य कारण हैं।

विभिन्न इलाकों में जल संकट के लिए पानी की कमी, जलाशयों की प्रदूषण, और जल संरक्षण की अनधिकृत नीतियों का प्रभाव होता है।

जल संरक्षण के उपाय: जल संकट को दूर करने के लिए हमें सामाजिक और तकनीकी उपायों का सही संयोजन करना होगा।

पानी की बचत के लिए अधिक संज्ञान, पानी के संचयन, और जल संचालन के तकनीकी उपाय जरूरी हैं।

साथ ही, जल संरक्षण की जागरूकता बढ़ाने के लिए सामाजिक अभियानों की आवश्यकता है।

"पानी बिना नहीं, जीवन नहीं।"

"जल हमें जीने का अधिकार देता है, जिन्दगी का सहारा देता है।"

निष्कर्ष: जल संरक्षण एक गंभीर समस्या है जो हमें समुदाय के साथ साझा करनी चाहिए।

हमें सही तकनीकी उपायों का उपयोग करके जल संकट को हल करने के लिए सक्रिय भूमिका निभानी चाहिए।

इसके लिए हमें जल संरक्षण की जागरूकता बढ़ाने और सभी के बीच साझेदारी को महत्व देना चाहिए।

इस तरह से हम सभी मिलकर जल संरक्षण में योगदान कर सकते हैं और आने वाली पीढ़ियों के लिए एक स्वस्थ और सुरक्षित भविष्य सुनिश्चित कर सकते हैं।

जल संरक्षण पर निबंध हिंदी में 100 शब्द

हमें जल की बचत की जरूरत है।

जल संकट से निपटने के लिए हमें उपायों का अवलोकन करना चाहिए।

छोटे छोटे कदमों से हम जल संरक्षण में योगदान कर सकते हैं।

छत पर रेनवाटर लगाना, गर्मी में बर्तनों का प्रयोग कम करना, और पौधों को नियमित जल प्रदान करना जल संरक्षण के लिए महत्वपूर्ण हैं।

यह हमारे भविष्य की सुरक्षा के लिए अत्यंत आवश्यक है।

जल संरक्षण पर निबंध हिंदी में 150 शब्द

"जल ही जीवन है।" यह कहावत हमें जल की महत्वता को समझाती है।

आजकल, जल संकट एक गंभीर समस्या बन चुकी है।

हमें जल की बचत करनी चाहिए।

जल संरक्षण के लिए हमें सावधानी से जल का उपयोग करना चाहिए।

बिना जरूरत के जल का अत्यधिक उपयोग नहीं करना चाहिए।

छत पर रेनवाटर लगाना, बागवानी करना, गर्मियों में पानी की बचत करना, इसके उपाय हैं।

जल संरक्षण हमारे भविष्य की खातिर जरूरी है।

हमें सभी मिलकर जल संरक्षण में योगदान करना चाहिए।

जल संरक्षण पर निबंध हिंदी में 200 शब्द

"जल ही जीवन है।" यह वाक्य हमें जल की महत्वता को समझाता है।

लेकिन आजकल की बढ़ती जनसंख्या और उपयोग की मात्रा ने जल संकट को एक गंभीर समस्या बना दिया है।

हमें जल संरक्षण के महत्व को समझना होगा और उसे बचाने के उपायों पर ध्यान देना होगा।

जल संरक्षण के लिए हमें उपयुक्त उपाय अपनाने चाहिए।

रेनवाटर का प्रयोग करके वर्षा का पानी संचित किया जा सकता है।

साथ ही, छत पर पानी को संचित करने के लिए सुरक्षित तालाब और जलाशयों का निर्माण करना चाहिए।

विश्व प्रसिद्ध वैज्ञानिक एल्बर्ट आइंस्टीन ने कहा था, "पानी की बचत करना हमारी जिम्मेदारी है।" इसलिए, हमें सभी मिलकर जल संरक्षण के प्रति जागरूकता बढ़ानी चाहिए और समुदाय के साथ मिलकर प्रयास करने की आवश्यकता है।

जल संरक्षण सभी के भविष्य के लिए आवश्यक है और हमें इसे ध्यान में रखना चाहिए।

जल संरक्षण पर निबंध हिंदी में 300 शब्द

जल हमारे जीवन के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है।

बिना जल के, जीवन संभव नहीं है।

हालांकि, आजकल की तेजी से बढ़ती जनसंख्या और उपयोग की मात्रा ने हमें जल संकट की ओर धकेल दिया है।

इस खतरनाक समस्या का समाधान करने के लिए हमें जल संरक्षण के प्रति सक्रिय बनना होगा।

जल संरक्षण के लिए हमें सभी को साथ मिलकर काम करना होगा।

छत पर रेनवाटर लगाने, गंदगी को सफाई करने, और जल के संचयन के उपाय अपनाने की आवश्यकता है।

वैज्ञानिक एल्बर्ट आइंस्टीन ने सही कहा है, "पानी की बचत करना हमारी जिम्मेदारी है।"

विभिन्न सामाजिक अभियानों के माध्यम से जल संरक्षण की जागरूकता बढ़ाना भी महत्वपूर्ण है।

स्कूलों, कॉलेजों, और समुदायों में जल संरक्षण के बारे में जागरूकता अभियान आयोजित किए जाने चाहिए।

जल संरक्षण को लेकर हमें विश्वास होना चाहिए कि हम एक सकारात्मक परिणाम हासिल कर सकते हैं।

अगर हम सभी मिलकर यहां वहां से प्रयास करें, तो हम जल संकट को दूर कर सकते हैं और आने वाली पीढ़ियों के लिए एक स्वस्थ और सुरक्षित भविष्य सुनिश्चित कर सकते हैं।

इसलिए, आओ हम सभी मिलकर जल संरक्षण के प्रति अपना योगदान दें और प्रकृति को हमारी सौगात बचाने का संकल्प लें।

जल संरक्षण पर निबंध हिंदी में 500 शब्द

जल हमारे जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है।

यह न केवल हमारे शरीर के लिए आवश्यक है, बल्कि हर कार्य में जल की आवश्यकता होती है।

हमारी पिछली पीढ़ियों ने जल को निरंतर बेकारी किया है, जिससे आज हम जल संकट की ओर अग्रसर हैं।

जल का महत्व: "जल ही जीवन है" यह कहावत हमें हमेशा याद दिलाती है कि जल कितना महत्वपूर्ण है।

यह न केवल हमारे शरीर के लिए आवश्यक है, बल्कि खेती, औद्योगिक कार्य, और घरेलू उपयोग के लिए भी जल की आवश्यकता होती है।

इसके अलावा, जल का सही उपयोग वायुमंडल को स्वच्छ और स्वस्थ रखने में भी मदद करता है।

जल संरक्षण के लिए उदाहरण: अनेक देशों और नगरों में जल संरक्षण के लिए अनेक उपाय अपनाए जा रहे हैं।

इनमें से कुछ उपाय हैं:

  • वर्षा के पानी को संचित करने के लिए रेनवाटर का उपयोग करना।
  • जल संचित करने के लिए सभी घरों में जल टैंक लगाना।
  • जल संचयन के लिए नदियों और झीलों के किनारे पर तालाब निर्माण करना।

निष्कर्ष: जल संरक्षण एक गंभीर समस्या है जिसे हमें समुदाय के साथ साझा करना चाहिए।

जल संरक्षण पर 5 लाइन निबंध हिंदी

  • जल है जीवन की धारा, इसे बचाने का है हमारा कार्य।
  • बूंद-बूंद से सागर बनता, बचाना है हर बूंद को जरा।
  • जल संरक्षण में है हमारी शक्ति, जल को बचाने में हो योगदान हर किसी का जरूरी।
  • बिना जल के नहीं हो सकता कोई काम, हर कार्य में है जल की हमें आवश्यकता।
  • जल संरक्षण की राह पर चलें, जीवन को इस खतरे से बचाने का संकल्प हमें निभाना चाहिए।

जल संरक्षण पर 10 लाइन निबंध हिंदी

  • जल है जीवन का आधार, इसका संरक्षण करना हमारा प्राथमिक कर्तव्य है।
  • धरती पर हर जल की बूंद मूल्यवान है, इसलिए हमें उसकी बचत का संकल्प लेना चाहिए।
  • वृष्टि के पानी को संचित करने और पुनर्चक्रण के लिए जल संरक्षण अत्यंत महत्वपूर्ण है।
  • समुद्रों का पानी अमृत से कम नहीं है, इसलिए हमें उसके संरक्षण की जिम्मेदारी निभानी चाहिए।
  • प्राकृतिक संसाधनों का संवेदनशील और जिम्मेदार उपयोग करना हमारा दायित्व है।
  • जल संरक्षण के लिए छतों पर रेनवाटर लगाना और पौधों को नियमित जल प्रदान करना अत्यंत महत्वपूर्ण है।
  • समुदाय के सदस्य के रूप में हमें जल की उपयोगिता को समझना और उसका सही उपयोग करना चाहिए।
  • स्कूलों और कॉलेजों में जल संरक्षण के महत्व को बढ़ावा देने के लिए जागरूकता अभियान आयोजित किया जा सकता है।
  • छोटे छोटे कदम भी जल संरक्षण में महत्वपूर्ण हैं, इसलिए हमें उन्हें समय-समय पर अपनाना चाहिए।
  • जल संरक्षण से न केवल वर्तमान पीढ़ियों के लिए बल्कि आने वाली पीढ़ियों के भविष्य के लिए भी हमें जिम्मेदारी से निपटना होगा।

जल संरक्षण पर 15 लाइन निबंध हिंदी

  • जल ही जीवन की धारा है, इसे बचाने का हमारा नियमित कर्तव्य है।
  • प्राकृतिक संसाधनों की सही उपयोग के लिए हमें जल संरक्षण का महत्व समझना चाहिए।
  • वृष्टि के पानी को संचित करने और जल संरक्षण के उपायों को अपनाने के लिए हमें सभी मिलकर काम करना चाहिए।
  • छत पर रेनवाटर लगाकर वर्षा के पानी को संचित करना एक प्रभावी उपाय है।
  • पानी की बचत के लिए स्कूलों और कॉलेजों में जल संरक्षण के प्रति जागरूकता बढ़ाने के लिए अभियान चलाना चाहिए।
  • जल संरक्षण में हमें विभाजन और उपयोग के प्रति जिम्मेदार बनना चाहिए।
  • प्रतिदिन की जीवन शैली में जल की बर्बादी को कम करने के लिए हमें उपाय अपनाने चाहिए।
  • जल संरक्षण से हम न केवल अपने भविष्य को सुरक्षित रख सकते हैं, बल्कि प्रकृति को भी बचा सकते हैं।
  • समुदाय के सदस्य के रूप में हमें जल के प्रति सही धारणा बनानी चाहिए।
  • जल संरक्षण को लेकर स्कूलों और कॉलेजों में जागरूकता अभियान चलाना चाहिए।
  • जल संरक्षण के लिए तकनीकी और सामाजिक उपायों का संयोजन करना आवश्यक है।
  • जल की बर्बादी को रोकने के लिए हमें प्रत्येक क्षेत्र में जल संरक्षण के उपाय अपनाने की आवश्यकता है।
  • छोटे छोटे कदमों से हम जल संरक्षण में महत्वपूर्ण योगदान कर सकते हैं।
  • जल संरक्षण को लेकर हमें सही जागरूकता और शिक्षा प्रदान करनी चाहिए।
  • जल संरक्षण का महत्व हमें अपने समुदाय के सभी सदस्यों को समझाना चाहिए।

जल संरक्षण पर 20 लाइन निबंध हिंदी

  • जल है जीवन का मूल आधार, इसे बचाना हमारा नियमित कर्तव्य है।
  • जल संरक्षण के लिए हमें समय-समय पर सभी प्रयास करने चाहिए।
  • वृष्टि के पानी को संचित करके हम जल संरक्षण में योगदान कर सकते हैं।
  • जल संरक्षण के लिए स्कूलों और कॉलेजों में जागरूकता अभियान आयोजित किया जा सकता है।
  • प्राकृतिक संसाधनों की सही उपयोगिता के लिए हमें जल का सही उपयोग करना चाहिए।
  • जल संरक्षण के उपायों में वृद्धि के लिए सरकारी प्रोग्रामों का सहयोग करना चाहिए।
  • जल संरक्षण की जागरूकता बढ़ाने के लिए सामुदायिक स्तर पर अभियान चलाना चाहिए।
  • बिना जल के किसी भी कार्य को संभव नहीं है, इसलिए हमें जल का सही उपयोग करना चाहिए।
  • जल संरक्षण में छोटे छोटे कदम भी महत्वपूर्ण होते हैं।
  • जल संरक्षण के लिए पेड़ लगाना और पौधों का प्रतिरक्षण करना चाहिए।
  • जल संरक्षण के लिए विभाजन और उपयोग के प्रति जिम्मेदार बनना चाहिए।
  • जल की बर्बादी से हमारा भविष्य कुठाराओं की तरह है, इसलिए हमें इसका संरक्षण करना चाहिए।
  • जल संरक्षण से हम अपने भविष्य को सुरक्षित बना सकते हैं।
  • जल संरक्षण के लिए सही तकनीकी और सामाजिक उपायों का संयोजन करना आवश्यक है।
  • जल संरक्षण की जागरूकता और शिक्षा प्रदान करने के लिए सभी को सामूहिक रूप से योगदान करना चाहिए।

इस निबंध में हमने देखा कि जल संरक्षण हमारे जीवन का अभिन्न हिस्सा है और इसका महत्व अत्यंत बड़ा है।

जल संरक्षण के महत्व को समझना और उसे अपनाना हमारा कर्तव्य है।

विभिन्न उपायों और जागरूकता अभियानों के माध्यम से हम सभी इस महत्वपूर्ण मुद्दे को समझ सकते हैं और उसमें योगदान कर सकते हैं।

आने वाली पीढ़ियों के भविष्य के लिए जल संरक्षण के प्रति हमारा संवेदनशीलता और सक्रिय योगदान अवश्यक है।

इसलिए, हमें सभी मिलकर जल संरक्षण को लेकर जागरूक होना चाहिए और इसमें हमारा सहयोग देना चाहिए।

आखिरकार, यह एक महत्वपूर्ण पहल है जो हमें हमारे प्राकृतिक संसाधनों की रक्षा और हमारे भविष्य की सुरक्षा के लिए उठानी चाहिए।

You may like these posts

ताज़ा हवा और रोशनी के लिए

जल संरक्षण पर निबंध Essay on Save Water in Hindi

essay on save water in hindi

पानी की कमी एक सार्वभौमिक समस्या है। तो यह हमारे ग्रह के सभी जिम्मेदार नागरिकों द्वारा संयुक्त रूप से निपटने के लिए है। हमें न केवल अपने लिए बल्कि अपनी आने वाली पीढ़ियों के लिए भी जल संरक्षण की जरूरत है।

जल संरक्षण जीवन संरक्षण के बराबर है!

Save Water Essay in Hindi (200 Words)

Essay on save water in hindi (350 words), जल संरक्षण पर निबंध essay on water conservation in hindi (450 words), जल संरक्षण के तरीके, जल संरक्षण के घरेलु तरीके, save water essay – water conservation in hindi (800 words), जल संकट के बारे में चौंकाने वाले तथ्य, जल संरक्षण कैसे करें.

मानवता के लिए प्रकृति का सबसे कीमती उपहार पानी है। पानी को ‘जीवन’ भी कहा जा सकता है क्योंकि इस धरती पर जीवन की कल्पना पानी के बिना कभी नहीं की जा सकती है।

पृथ्वी को “नीला ग्रह” कहा जाता है। क्योंकि यह ब्रह्मांड का एकमात्र ज्ञात ग्रह है जहां पर्याप्त मात्रा में प्रयोग करने योग्य पानी मौजूद है। पृथ्वी के सतह के स्तर का लगभग 71 प्रतिशत पानी है। इस पृथ्वी का अधिकांश पानी समुद्रों और महासागरों में पाया जाता है। नमक की अत्यधिक उपस्थिति के कारण उन पानी का उपयोग नहीं किया जा सकता है। पृथ्वी पर पीने योग्य पानी का प्रतिशत बहुत कम है।

इस पृथ्वी के कुछ हिस्सों में, लोगों को शुद्ध पीने योग्य पानी इकट्ठा करने के लिए लंबी दूरी तय करनी पड़ती है। लेकिन इस धरती के अन्य हिस्सों में, लोग पानी के मूल्य को नहीं समझते हैं। इस ग्रह पर पानी की बर्बादी एक ज्वलंत मुद्दा बन गया है। पानी की एक बड़ी मात्रा मनुष्य द्वारा नियमित रूप से बर्बाद की जाती है।

हमें इस खतरे से बचने के लिए पानी की बर्बादी को रोकने की जरूरत है। पानी को बर्बाद होने से बचाने के लिए लोगों में जागरूकता फैलाई जानी चाहिए।

इस धरती पर भगवान की ओर से हमारे लिए सबसे कीमती उपहार है – पानी। हमारे पास पृथ्वी पर पानी की प्रचुरता है, लेकिन पृथ्वी पर पीने के पानी का प्रतिशत बहुत कम है। उन पानी का केवल 0.3% उपयोग करने योग्य है।

इस प्रकार पृथ्वी पर पानी को बचाने की आवश्यकता है। ऑक्सीजन के अलावा, पृथ्वी पर प्रयोग करने योग्य पानी की मौजूदगी से जीवन का अस्तित्व होता है। इसलिए पानी को ‘जीवन’ के रूप में भी जाना जाता है। पृथ्वी पर, हमें समुद्रों, महासागरों, नदियों, झीलों, तालाबों आदि में हर जगह पानी मिलता है, लेकिन हमें शुद्ध या रोगाणु मुक्त पानी की आवश्यकता होती है।

हमें अपने दैनिक कार्यों में सुबह से रात तक पानी की आवश्यकता होती है। हम पीने के लिए पानी का उपयोग करते हैं, स्नान करते हैं, अपने कपड़े साफ करते हैं, खाद्य पदार्थ, बागवानी, फसल, और कई अन्य गतिविधियाँ करते हैं। इसके अलावा, हम जल का उपयोग जल-विद्युत उत्पन्न करने के लिए करते हैं। पानी का उपयोग विभिन्न उद्योगों में भी किया जाता है। इस प्रकार यह बहुत स्पष्ट है कि हम पानी का उपयोग किए बिना एक दिन की भी कल्पना नहीं कर सकते। तो इस नीले ग्रह पर हमारे अस्तित्व के लिए पानी की बचत की आवश्यकता है।

लेकिन दुर्भाग्य से लोग इसे नजरअंदाज करते हुए नजर आते हैं। हमारे देश के कुछ हिस्सों में पीने का पानी मिलना अभी भी एक चुनौती भरा काम है। लेकिन कुछ अन्य हिस्सों में जहां पानी उपलब्ध है, लोग पानी बर्बाद करते नजर आते हैं। निकट भविष्य में, वे इस चुनौती का भी सामना करेंगे।

हमें ध्यान रखना चाहिए, ‘पानी बचाओ जीवन बचाओ’ और इसे बर्बाद न करने का प्रयास करना चाहिए।

पानी को कई तरह से बचाया जा सकता है। पानी के संरक्षण के 100 तरीके हैं। जल संरक्षण का सबसे सरल तरीका वर्षा जल संचयन है। हम वर्षा जल को संरक्षित कर सकते हैं और उन पानी का उपयोग हमारी दैनिक गतिविधियों में किया जा सकता है। शुद्धिकरण के बाद पीने के लिए भी वर्षा जल का उपयोग किया जा सकता है। हमें पता होना चाहिए कि अपने दैनिक जीवन में पानी की बचत कैसे करें ताकि निकट भविष्य में हमें पानी की कमी का सामना न करना पड़े।

यह भी पढ़ें – पर्यावरण बचाओ पर नारे

हमारे ग्रह का 97% भाग खारे पानी में समाया हुआ है जिसे हम पीने के लिए उपयोग नहीं कर सकते हैं। बायाँ 3% पानी प्रयोग करने योग्य है लेकिन 2% भी ग्लेशियरों और बर्फ से अवरुद्ध है। इसलिए, हमारे पास केवल 1% बचा है।

तो, अब, कुछ ऐसा महसूस करें जो बताता है कि जल संरक्षण हमारे लिए क्यों महत्वपूर्ण है। हम केवल पानी के एक छोटे प्रतिशत पर निर्भर हैं, इसलिए यह हमारी जिम्मेदारी है कि हम इसे प्रदूषित और दुरुपयोग न करें। हममें से प्रत्येक को यह जानना चाहिए कि जल को कैसे बचाया और संरक्षित किया जाए ।।

यह भी पढ़ें – शिक्षा का महत्त्व

आइए जानते हैं जल संरक्षण के कुछ तरीके। (Jal Sanrakshan in Hindi/Water Conservation Methods in Hindi/How to save water in Hindi)

जल संरक्षण करने के लिए कई तरीकों का इस्तेमाल किया जा सकता है:-

  • पानी को प्रदूषण से बचाकर हम बहुत सारे पानी को बचा सकते हैं।
  • यदि कृषि-जलवायु परिस्थितियों में किसानों द्वारा फसलें उगाई जाती हैं, तो अतिरिक्त पानी की आवश्यकता नहीं होगी।
  • भूतापीय पानी का उपयोग करके।
  • हम विशेष रूप से भारत जैसे देश में, पारंपरिक जल संसाधनों को नवीनीकृत करके पानी का संरक्षण कर सकते हैं।
  • उद्योगों में उपयोग होने वाले पानी की बचत करके
  • भूजल के तर्कसंगत उपयोग पर विचार करें। यह पानी बचाने में मददगार हो सकता है।
  • कृषि क्षेत्र में आधुनिक सिंचाई विधियों का उपयोग पानी बचाने में भी मदद कर सकता है।
  • बाढ़ प्रबंधन की मदद से पानी को बचाया भी जा सकता है।
  • नगरपालिका एजेंसियों का मार्गदर्शन करके भी पानी बचाया जा सकता है।
  • वर्षा जल के संग्रहण के माध्यम से भी जल संरक्षण किया जा सकता है। फिल्ट्रेशन सिस्टम स्थापित करने के बाद, इस पानी को आसानी से बागवानी, लॉन सिंचाई या शौचालय के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। आप छोटे पैमाने पर खेती के लिए वर्षा जल संचयन के माध्यम से संग्रहीत पानी का उपयोग भी कर सकते हैं।
  • अपने दाँत ब्रश करते समय नल बंद करें। इससे बहुत सारा पानी संरक्षित किया जा सकता है। इसके अलावा, अपने बच्चों को भी ऐसा करने के लिए शिक्षित करें। इस अभ्यास का पालन करके, आप हर महीने कम से कम 400 लीटर से अधिक पानी बचा सकते हैं।
  • सिंक या शौचालय में एक छोटे से रिसाव से अतिरिक्त पानी का उपयोग हो सकता है। इस तरह के छोटे लीक से सावधान रहें क्योंकि इससे पानी के संरक्षण में मदद मिल सकती है।
  • आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि सिर्फ थोड़े समय के स्नान से आप बहुत सारे पानी के संरक्षण में मदद कर सकते हैं। अगली बार, थोड़े समय के लिए स्नान करने का वादा करें।
  • आपको पानी का उपयोग करने के बजाय फर्श की सफाई करने के लिए झाड़ू या लत्ता का उपयोग करना याद रखना चाहिए।
  • अपनी दैनिक जरूरतों के लिए ऊर्जा-कुशल उपकरण जैसे कि बाथटब, सिंक सिस्टम आदि खरीदना बहुत सारा पानी बचा सकता है।

पानी मानवता के लिए प्रकृति का एक अनमोल उपहार है। पानी प्रकृति में उन सबसे महत्वपूर्ण तत्वों में से एक है जो इस धरती पर जीवन का समर्थन करता है। हमें खाना पकाने, कपड़े धोने, स्नान करने, खेती करने और अन्य चीजों के लिए पानी की आवश्यकता होती है।

हाल के कुछ वर्षों में, पानी के उपयोग के लापरवाह तरीके से दुनिया के विभिन्न हिस्सों में पानी की कमी हो गई है। यहीं पर जल संरक्षण की जरूरत आती है। जल के बिना पृथ्वी पर जीवन संभव नहीं है। इसलिए, पृथ्वी पर जीवन को बनाए रखने के लिए पानी का संरक्षण काफी महत्वपूर्ण है।

पृथ्वी की सतह का लगभग तीन-चौथाई भाग पानी से ढका हुआ है। हालाँकि, इस जल का लगभग 97% भाग खारे पानी का है। और यह मानव उपभोग के लिए उपयुक्त नहीं है जो महासागरों के रूप में मौजूद है। पृथ्वी पर कुल पानी का केवल 3% पानी पीने के लिए उपयुक्त है।

उपलब्ध पेयजल का 70% उपभोग के लिए उपयुक्त नहीं है क्योंकि यह ग्लेशियरों और बर्फ की चादरों के रूप में मौजूद है। प्राप्य पेयजल का केवल 1% स्वच्छ पेयजल के रूप में उपलब्ध है और मानव उपभोग के लिए उपयुक्त है।

यह अनुमान है कि दुनिया में एक अरब से अधिक लोग अपने अस्तित्व के लिए इस 1% स्वच्छ पेयजल पर निर्भर हैं। यहाँ से यह स्पष्ट होता है कि हमें पानी का विवेकपूर्ण उपयोग करने की आवश्यकता है ताकि अन्य लोगों को पानी की कमी का सामना न करना पड़े।

कुछ साल पहले दुकानों में लोगों को शुद्ध पानी की बोतलें बेचते हुए देखना काफी चौंकाने वाला था। हालाँकि आज, पानी के संकट में वृद्धि के साथ, यह दृष्टि दुनिया के विभिन्न हिस्सों में काफी आम हो गई है। अनुमान है कि बोतलबंद पानी की कीमत 4 लाख करोड़ – 6 लाख करोड़ रुपये है जो हर साल दुनिया भर के लोगों द्वारा उपयोग किया जा रहा है। वैज्ञानिकों द्वारा किए गए हालिया अध्ययनों के अनुसार, अगर हम विवेकपूर्ण तरीके से पानी नहीं बचाते हैं, तो 2025 तक दुनिया भर में 30 करोड़ से अधिक लोग पानी की कमी के संकट की चपेट में आ जाएंगे।

हाल के निष्कर्षों के अनुसार, यह पता चला है कि लगभग 25% शहरी आबादी को पीने के पानी तक पहुंच नहीं है। इसके अलावा, यह भी पाया गया है कि 40 लाख से अधिक लोग पानी से संबंधित बीमारियों के कारण मर रहे हैं। विकासशील देश अस्वच्छ और गंदे पानी से होने वाली बीमारियों से बेहद ग्रस्त हैं। भारत में भी विभिन्न जल जनित रोगों से पीड़ित लोगों की संख्या काफी अधिक है। इससे भारतीय अर्थव्यवस्था पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा है।

किए गए एक अध्ययन के अनुसार, यह बताया गया है कि राजस्थान में लड़कियों को पानी लाने के लिए लंबी दूरी तय करनी पड़ती है। यह उनका पूरा दिन खाता है और उन्हें स्कूल जाने के लिए समय नहीं मिलता है। यह पता चला है कि किसानों की आत्महत्या के कुछ मामले सूखे या पानी की कमी के कारण हैं। इससे यह स्पष्ट है कि पानी की कमी भारत और अन्य विकासशील देशों में कुछ सामाजिक समस्याओं का कारण है।

जल संरक्षण के लिए बस हमें अपनी दैनिक गतिविधियों में कुछ सकारात्मक बदलाव लाने होंगे।

  • हर उपयोग के बाद पानी के नल को बंद करना और सब्जियों और फलों को पानी से धोने की बजाय पानी से भरे बर्तन में धोना शामिल है।
  • नहाने और धोने के लिए मग और बाल्टी का उपयोग करने से 450 लीटर पानी बचाया जा सकता है। इसी तरह, पूरी तरह से भरी डिशवॉशर और वॉशिंग मशीन का उपयोग करने से प्रति माह लगभग 2 से 2.4 किलोलीटर पानी की बचत होगी।
  • लोगों को अपने बगीचों और लॉन में पानी की जरूरत होने पर ही पानी देना चाहिए। दोपहर के समय पौधों को पानी देने से बचें, खासकर 11 बजे से 4 बजे के बीच, क्योंकि अधिकांश पानी वाष्पित हो जाता है।
  • पृथ्वी के जिम्मेदार नागरिकों के रूप में, हमें त्योहार के दौरान पानी की भारी बर्बादी को रोकने के लिए सूखी होली खेलने को बढ़ावा देना होगा।
  • पानी को बचाने के लिए रिसाव को रोकने के लिए रिसाव वाले जोड़ों और नल को सही से ठीक किया जाना चाहिए। इससे हर दिन लगभग 60 लीटर पानी बचाया जा सकता है।
  • ग्रामीण स्तर पर सरकार या नागरिक प्रबंधन अधिकारियों द्वारा वर्षा जल संचयन शुरू किया जाना चाहिए। वर्षा जल को संग्रहित करने के लिए बड़े या छोटे तालाब खोदे जा सकते हैं। बचाए गए पानी का उपयोग स्नान, कपड़े धोने, शौचालय, विभिन्न वस्तुओं को धोने, पौधों को पानी देने आदि के लिए किया जा सकता है।

अपने कुल पानी के उपयोग का अनुमान लगाने के लिए, यहां जाएं .

पानी बचाना जीवन बचाने के बराबर है! तो आइए हम अपनी पृथ्वी को रहने के लिए सुरक्षित और सुंदर जगह बनाने की प्रतिज्ञा करें।

उम्मीद है कि आप इन विषयों पर जानकारी से प्रभावित हुए होंगे और इन पर अमल करेंगे. (Essay on Save Water in Hindi / Jal Sanrakshan in Hindi / Water Conservation Methods in Hindi / How to save water in Hindi / जल संरक्षण पर निबंध)

अन्य लेख पढ़ें –

  • महात्मा गांधी का जीवन – निबंध
  • होली उत्सव का महत्त्व
  • बाल मजदूरी पर निबंध
  • आतंकवाद पर निबंध और भाषण
  • बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर निबंध/भाषण/pdf
  • Tags: Essay on Save Water in Hindi , jal hi jeevan hai essay , jal sanrakshan , Save Water Essay , जल संरक्षण पर निबंध

Editorial Team

Editorial Team

Leave a reply cancel reply.

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Save my name, email, and website in this browser for the next time I comment.

Related Posts

three friends stands and a True Friendship Quotes in Hindi is written on it

True Friendship Quotes in Hindi | फ्रेंडशिप कोट्स

हर इंसान के लिए दोस्ती की एक अलग परिभाषा होती है जिसे वो शायद शब्दों में बयाँ भी न कर

a boy sleeping and Dream Quotes & Status in Hindi writes here

Dream Quotes & Status in Hindi | सपने स्टेटस

सपना बड़ा हो या छोटा, सपना तो सपना होता है। यहां तक ​​​​कि सबसे सफल व्यक्तियों के भी सपने थे,

a mother and his daughter sitting in a garden and a Maa Quotes in Hindi is written

Maa Quotes in Hindi | माँ सुविचार & कोट्स

माँ, जननी, अम्मा और ना जाने कितने और अनेक नाम है एक माँ के। कहते हैं धरती पर अपनी कमी

a women doing spiritual and a Deep Spiritual Quotes in Hindi is written on it

Deep Spiritual Quotes in Hindi | सद्भावना सुविचार

ऐसा माना जाता है कि अंतरिक्ष का आपकी अंतरात्मा पर कोई काबू नहीं होता है। मनुष्य की अंदर की शक्तियों

water saving essay in hindi

Education Thought in Hindi | शिक्षा पर दो लाइन

दिन की शुरुआत में खुद को शिक्षित करने का अर्थ होता है दिन के अंत में उसका फल पाना। आज

a person stands on a mountain and a Hard Work Motivational Quotes in Hindi is written on it

Hard Work Motivational Quotes in Hindi

हमारे बड़े यह बात कह रहे हैं कि तुम्हारी सफलता का राज केवल तुम्हारे बड़ों के आशीर्वाद और उनके विश्वास

  • Privacy Policy

The best Hindi Blog for Quotes,Inspirational stories, Whatsapp Status and Personal Development Articles

10 मोटिवेशनल किताबें जो आपको ज़रूर पढ़नी चाहिएं

पानी की बर्बादी रोकने के 18 तरीके जिनपर आपने ध्यान नहीं दिया.

Last Updated: April 29, 2024 By Gopal Mishra 38 Comments

हम हमेशा से सुनते आये हैं “जल ही जीवन है” । जल के बिना जीवन की कल्पना भी मुश्किल है जीवन के सभी कार्यों का निष्पादन करने के लिये जल की आवश्यकता होती है।

rummy gold

कवि एवं सन्त  रहीम दास जी ने सदियों पहले पानी का महत्व बता दिया था किन्तु हम आज भी जल संरक्षण के प्रति गम्भीर नहीं हैं।

  रहिमन पानी राखिये, बिन पानी सब सून |

पानी गये ना ऊबरे, मोती मानुष चून ||

Rummy Perfect

How To Save Water in Hindi / Hindi Story on Save Water

कैसे बचाएं पानी .

जैसे जैसे गर्मी बढ़ रही है देश के कई हिस्सों में पानी की समस्या विकराल रूप धारण कर रही है। प्रतिवर्ष यह समस्या पहले के मुकाबले और बढ़ती जाती है। लातूर जैसी कई जगह तो पानी की कमी की वजह से हालात अत्यन्त भयावह हो रहे हैं। लेकिन हम हमेशा यही सोचते हैं बस जैसे तैसे गर्मी का सीजन निकाल जाये बारिश आते ही पानी की समस्या दूर हो जायेगी और यह सोचकर जल सरंक्षण के प्रति बेरुखी अपनाये रहते हैं।

 ➡ पढ़ें:  पानी बचाओ व जल संरक्षण पर 60 अनमोल विचार व नारे

किन्तु आज मानव जाति के लिये जल सरंक्षण अत्यन्त महत्वपूर्ण हो गया है। यदि अब भी हम लोग जल सरंक्षण के प्रति गम्भीर नहीं हुए तो यह बात बिलकुल सही साबित होगी कि-

तीसरा विश्व युद्ध पानी के लिये होगा।

जल संसाधन / Water Resources in Hindi :

जल संसाधन पानी के वह स्रोत हैं जो मानव जाति के लिये उपयोगी हैं या जिनके उपयोग में आने की सम्भावना है। पूरे विश्व में धरती का लगभग तीन चौथाई भाग जल से घिरा हुआ है किन्तु इसमें से 97% पानी खारा है जो पीने योग्य नहीं है, पीने योग्य पानी की मात्रा सिर्फ 3% है। इसमें भी 2% पानी ग्लेशियर एवं बर्फ के रूप में है। इस प्रकार सही मायने में मात्र 1% पानी ही मानव के उपयोग हेतु उपलब्ध है।

जल के स्रोतों को हम तीन भागों में विभाजित कर सकते हैं –

1. धरातल के ऊपर से प्राप्त जल – यह बारिश का जल है जो शुद्ध होता है किन्तु सतर्कता ना रखने पर जमीन पर आते आते इसमें कई प्रकार की अशुद्धियाँ घुलने का डर रहता है।

2. धरातलीय जल – नदी, तालाब, झील, झरने आदि धरातलीय जल के प्रकार हैं।

3. अन्त: धरातलीय जल – कच्चे तथा पके  कुएं , बावड़ी, बोरिंग आदि।

जल सरंक्षण की आवश्यकता क्यों है ?  Why water conservation is needed in Hindi ? 

जनसंख्या वृद्धि, शहरीकरण तथा औधोगिकीकरण के कारण प्रति व्यक्ति के लिये उपलब्ध पेयजल की मात्रा लगातार कम हो रही है जिससे उपलब्ध जल संसाधनों पर दबाव बढ़ता जा रहा है। जहाँ एक ओर पानी की मांग लगातार बढ़ रही है वहीँ दूसरी ओर प्रदूषण और मिलावट के कारण उपयोग किये जाने वाले जल संसाधनों की गुणवत्ता तेजी से घट रही है।

साथ ही भूमिगत जल का स्तर तेजी से गिरता जा रहा है ऐसी स्तिथि में पानी की कमी की पूर्ति करने के लिये आज जल संरक्षण की नितान्त आवश्यकता है।

सम्पूर्ण विश्व में 22 मार्च को विश्व जल दिवस ( World Water Day ) मनाया जाता है। इसका मुख्य उद्देश्य लोगों को जल संरक्षण के प्रति जागरूक करना है। अटल जी कहा करते थे-

यदि हम लोग जल संरक्षण के प्रति गम्भीर नहीं हुए तो तीसरा विश्व युद्ध पानी के लिये होगा।

और अब यह बात अब बिलकुल सही लगने लगी है।

जल संरक्षण के उपाय / How To Conserve and Save Water in Hindi

जल संरक्षण आज विश्व की सर्वोपरि प्राथमिकताओं में से होनी चाहिये। जल संरक्षण हमे घर में, घर के बाहर, बाग़ बगीचों, खेत खलिहान हर जगह करना चाहिये।

1. घरेलू जल सरंक्षण / How to save water at home

  • दाढ़ी बनाते समय, ब्रश करते समय, सिंक में बर्तन धोते समय, नल तभी खोलें जब सचमुच पानी की ज़रूरत हो।
  • गाड़ी धोते समय पाइप की बजाय बाल्टी व मग का प्रयोग करें, इससे काफी पानी बचता है।
  • नहाते समय शॉवर की बजाय बाल्टी एवं मग का प्रयोग करें,काफी पानी की बचत होगी। इस काम के लिए आप भारत रत्न सचिन तेंदुलकर से प्रेरणा ले सकते हैं जो सिर्फ १ बाल्टी पानी से ही नहाते हैं।
  • वाशिंग मशीन में रोज-रोज थोड़े-थोड़े कपड़े धोने की बजाय कपडे इकट्ठे होने पर ही धोएं।
  • ज्यादा बहाव वाले फ्लश टैंक को कम बहाव वाले फ्लश टैंक में बदलें। सम्भव हो तो दो बटन वाले फ्लश का टैंक खरीदें। यह पेशाब के बाद थोड़ा पानी और शौच के बाद ज्यादा पानी का बहाव देता है।
  • जहाँ कहीं भी नल या पाइप लीक करे तो उसे तुरन्त ठीक करवायें। इसमें काफी पानी को बर्बाद होने से रोका जा सकता है।
  • बर्तन धोते समय भी नल को लगातार खोले रहने की बजाये अगर बाल्टी में पानी भर कर काम किया जाए तो काफी पानी बच सकता है।

2. घर के बाहर जल संरक्षण

  • सार्वजनिक पार्क, गली, मौहल्ले, अस्पताल, स्कूलों आदि में जहाँ कहीं भी नल की टोंटियाँ खराब हों या पाइप से पानी लीक हो रहा हो तो तुरन्त जलदाय ऑफिस में या सम्बन्धित व्यक्ति को सूचना दें, इसमें हजारों लीटर पानी की बर्बादी रोकी जा सकती है।
  • बाग़ बगीचों एवं घर के आस पास पौधों में पाइप से पानी देने के बजाय वाटर कैन द्वारा पानी देने से काफी पानी की बचत हो सकती है
  • बाग़ बगीचों में दिन की बजाय रात में पानी देना चाहिये। इससे पानी का वाष्पीकरण नहीं हो पाता। कम पानी से ही सिंचाई हो जाती है
  • सिंचाई क्षेत्र हेतु कृषि के लिये कम लागत की आधुनिक तकनीकों को अपनाना जल सरंक्षण हतु उपयोगी है।

3. वृक्षा रोपण / Plantation

वृक्ष हमारे अभिन्न मित्र हैं ये हमें छाया,फल,लकड़ी प्रदान करते हैं जमीन का कटाव रोकते हैं, बाढ़ से सुरक्षा करते हैं। जहाँ ज्यादा वृक्ष होते हैं वहां अच्छी बारिश होती है जिससे बारिश में नदी नाले भर जाते हैं और पानी की कमी नहीं हो पाती। इसलिए लगातार वृक्षा रोपण करते रहना चाहिये।

4. जल संरक्षण हेतु कानून 

कई क्षेत्रों में बिना रोकथाम के पानी निकालने से भूजल के स्तर में भारी गिरावट आ जाती है। इसके लिये भूजल के वितरण प्रबन्धन नियमों का पालन करना जरूरी है। साथ ही नए कानून बनाने की ज़रूरत है जो किसी भी प्रकार के वाटर वेस्टेज को एक गैर-कानूनी काम के रूप में देखें और ऐसा करने वालों को जुरमाना और सजा देने का प्रावधान करें।

5. औधोगिक क्षेत्र में नई तकनीक

पानी की जरूरत को कम करने लिये, औद्योगिक क्षेत्र, कारखानों आदि में आधुनिक तकनीक को प्रयोग में लेना चाहिये।

6. वर्षा जल संचयन / Rain water harvesting in Hindi

हम लोगों की अकेली यह आदत ही जल संरक्षण हेतु मील का पत्थर साबित हो सकती है। एक बारिश के बाद अगली बारिश से छतों से वर्षा जल का संचय करें। यह पीने, कपड़े धोने, बागवानी आदि सभी कार्यों हेतू उत्तम है। इसके लिये गाँव, शहरों में भवन निर्माण सम्बन्धी नियमों में वर्षा जल संचयन को अनिवार्य किया जाना चाहिये तथा लोगों को वर्षा जल संचय हेतु प्रोत्साहित किये जाने वाले उपाय ढूंढे जाने चाहियें।

7. जल जागरूकता कार्यक्रम

पानी की बर्बादी रोकने, वर्षा जल का संचयन करने, लगातार वृक्षारोपण करने तथा पानी को प्रदुषण से बचाने हेतु लगातार जागरूकता कार्यक्रम चलाते रहना चाहिये और यह प्रयास हम सबको मिलकर करना चाहिए।

8. वाटर ओवरफ्लो अलार्म लगाएं

छतों पर लगी टंकियों से पानी गिरकर बर्वाद होना एक आम दृश्य है। हमें इसे रोकना होगा और इसके लिए सबसे सरल उपाय है कि आप अपनी टंकी को एक water overflow alarm से जोड़ दें। इस बारे में हम डिटेल में अगली पोस्ट में बात करेंगे।

9 . Flush के अन्दर पानी की बोतल में बालू-कंकड़ भर कर डाल दें

अमूमन फ्लश से ज़रूरत से अधिक पानी बहता है, इसलिए अगर आप उसमे १ लीटर की बोतल में बालू-कंकड़ आदि भर के डाल देते हैं तो हर एक फ्लश पे आप १ लिटर पानी बचा सकते हैं, और पूरे वर्ष में हज़ारों लीटर पानी बचाया जा सकता है।

फ्लश से रिलेटेड इस बात पर भी ध्यान दें कि कहीं फ्लश का नौब पूरी तरह से न उठने के कारण वो leak तो नहीं हो रहा है। कई बार इस कारण से रात भर में पूरी टंकी खाली हो जाती है।

10. Water Supply के पानी को अपना पानी समझें 

जो लोग भाग्यशाली हैं उनके घरों में सरकार की तरफ से वाटर-सप्लाई का पानी भी आता है। देखा गया है कि अक्सर लोग लगभग मुफ्त में मिलने वाले इसे पानी को बहुत अधिक बवाद करते हैं…वे इसे क्यारी में लगा कर छोड़ देते है (बरसात के मौसम में भी), अपने कूलर में पानी भरने के लिए लगा कर भूल जाते हैं या वाशिंग मशीन में लगा कर छोड़ देते हैं। और चूँकि ये पाने टाइम-टाइम से आता है, इसलिए कई बार लोग टोटियां खुली छोड़ कर बाकी काम में व्यस्त हो  जाते हैं और जब पाने आने का टाइम होता है तो पानी बस यूँही गिरता रहता है।

इन लापरवाहियों की वजह से वे एक ही दिन में सैकड़ों लीटर पानी बर्वाद कर देते हैं। वहीँ दूसरी और वे अपनी टंकियों में भरे पानी को लेकर बहुत सजग होते हैं।  यदि आप भी ऐसे लोगों में शामिल हैं तो कृपया ऐसा करना बंद करें। पानी तो पानी है, इसमें सरकारी और अपने का भेद नहीं करना चाहिए।

11. उतना ही पानी लें जितना पीना है

जब आप 1 glass RO water पीते हैं तो ध्यान रखिये कि इसे फ़िल्टर करने के प्रोसेस में 3 glass पानी waste किया जाता है। इसलिए जब भी आप गिलास में RO वाटर लें तो पूरा भर के लेने की बजाये उतना ही लें जितना पीना है। और किसी को देना भी हो तो उसे पानी ग्लास में भर कर देने की बजाये जग या water bottle के साथ गिलास दे सकते हैं। इस तरह से काफी पानी बचाया जा सकता है।

यदि आप किसी रेस्टोरेंट में जाते हैं तो सबसे पहले वेटर पानी ला कर रख देता है, तब भी जब आपको उसकी ज़रूरत न हो! इसलिए जब आप ऐसी जगह जाइए तो तभी पानी लीजिये जब वाकई में आपको उसकी need हो।

12. RO Machine या AC से निकलने वाले  waste water को उपयोग करें

RO machine द्वारा लिए गए कुल पानी का 75% part waste हो जाता है। इसलिए कोशिश करिए कि मशीन की वास्ते पाइप से जो पानी निकला रहा है उसे बकेट में इकठ्ठा कर लिया जाए या पाइप लम्बी करके उसे पौधों को सींचने के काम में लाया जाये। इसी तरह AC से निकलने वाले पानी को भी सही तरीके से इस्तेमाल किया जा सकता है।

13. Hand-Pump का प्रयोग करें 

पहले के जमाने में लोग हैण्ड पंप का ही प्रयोग करते थे। इस वाजह से पानी की बर्बादी बहुत कम होती थी, जिसको जितनी ज़रूर होती थी वो उतना ही पानी निकालता था। पर समय के साथ लोग मोटर से पानी भरने लगे और हैण्ड पंप को भूल गए। यदि आपके यहाँ हैण्ड पंप लगा ही न हो तो कोई बात नहीं लेकिन अगर लगा है और बेकार पड़ा है तो उसे ठीक करा कर कभी-कभार प्रयोग करें। अच्छा होगा अगर हम intentionally हफ्ते का एक दिन सिर्फ हैण्ड पंप use करके पानी निकालें। ऐसा करने से कम से कम एक दिन हम सिर्फ उतना ही पानी निकालेंगे जितने की हमें सचमुच ज़रूरत है।

14. सब्जियां-फल किसी बर्तन में धोएं

कई बार लोग सब्जियों और फलों को running water से धोते हैं, अगर इसकी जगह आप किसी बड़े भगौने या बर्तन में पानी भर कर सब्जियां धोएँगे तो पानी भी कम लगेगा और वो ठीक से साफ़ भी हो पाएंगी।

15. Wash-basin का फ्लो कम कर दें 

वाश बेसिन के नीचे भी पानी कण्ट्रोल करने के लिए एक टोटी लगी होती है, अकसर वो पूरी खुली होती है, अगर आप उसे थोड़ा सा घुमा देंगे तो पानी का फ्लो अपने आप कुछ कम हो जाएगा और काफी पानी बर्वाद होने से बच पायेगा।

16. Bathroom में एक-आध बाल्टी एक्स्ट्रा रखें

अकसर गर्मियों के दिनों में टंकी का पानी बहुत गरम हो जाता है और लोग नहाते समय पहले कुछ पानी गिरा देते हैं कि उसके बाद ठंडा पानी आने लगे। ऐसा करना पड़े तो पानी गिराने की बजाये किसी बाल्टी में भर कर रख लें। और बेहतर तो ये होगा कि सुबह के टाइम ही आप बाल्टियों में पानी भर कर रख लें ताकि नहाते वक्त आपको ठंडा पानी मिल सके।

17. प्लम्बर का हल्का-फुल्का काम खुद सीखें 

अकसर देखा जाता है कि घर में मौजूद पानी के taps टपकते रहते हैं और हम उसे यूँही ignore करते रहते हैं क्योकि हम आलस में प्लम्बर को बुलाते नहीं या ये सोचते हैं कि अगर प्लम्बर को बुलायेंगे तो वो अनाप-शनाप पैसे मांगेगा और हम खुद उसे ठीक करने की हिम्मत नहीं दिखाते। लेकिन अगर हम plumbing के बेसिक सामान घर पे रखें और खुद ही छोटी-मोटी चीजें ठीक करना सीख लें तो हम बहुत सारा पानी बर्वाद होने से रोक सकते हैं। मेरी तो सलाह है कि हमें स्कूलों में बच्चों को plumbing से रिलेटेड बेसिक काम ज़रूर सिखाने चाहिए।

18. जो भी पानी बर्वाद करता है उसे रोकें

AKC पर कुछ महीनों पहले एक पोस्ट शेयर की गयी थी –  प्लेट में खाना छोड़ने से पहले Ratan Tata का ये संदेश ज़रूर पढ़ें!

जिसमे उन्होंने जर्मनी के एक रेस्टोरेंट का अनुभव बताया था जिसमे खाना वेस्ट करने पर वहां के नागरिकों ने आपत्ति जताई थी कि भले आपने पैसे देकर खाना खरीदा हो, फिर भी आप उसे बर्वाद नहीं कर सकते क्योंकि  भले पैसा पैसा आपका है पर संसाधन देश के हैं !

और यही बात हम Indians को भी समझनी होगी। पानी की बर्बादी सिर्फ उसे बर्वाद करने वाले को ही नहीं बल्कि पूरे समाज को प्रभावित करती है। अगर आपका पड़ोसी पानी बर्वाद करता है तो आपका भी वाटर-लेवल कम होता है…इसलिए इस अनमोल संसाधन को न waste करिए और न waste करने दीजिये।

आइये जल बचाएँ, “क्योंकि जल होगा तो कल होगा “

Watch How To Save Water in Hindi /Hindi Story on Save Water on YouTube

Dr. Manoj Gupta

Dr. Manoj Gupta

Dr.Manoj Gupta

B-3 Palam Vihar, Gurgaon (Haryana) Mob & WhatsApp#:  09929627239 Email:   [email protected] Blog:  drmanojgupta.blogspot.in  (plz visit for Health Articles in Hindi)

डॉ० मनोज गुप्ता राज्य स्तरीय आयुर्वेद के सर्वोच्च पुरस्कार धन्वंतरि पुरस्कार से सम्मानित सीनियर आयुर्वेद विशेषज्ञ हैं। आयुर्वेद एवं स्वास्थ्य लेखन के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्यों के लिए आपको माननीय स्वास्थ्य मन्त्री तथा अनेक संस्थाओं द्वारा सम्मानित किया जा चुका है। आपके लेख राजस्थान पत्रिका, निरोगसुख   जैसे प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं में पब्लिश होते रहे हैं।

Related Posts:

  • प्रकृति से लें प्रेरणा
  • पांच चीजें जो हम प्रकृति से सीख सकते हैं
  • प्रकृति पर अनमोल विचार
  • कैसे बचाएं हजारों लीटर पानी और करें एक profitable business

पानी बचाने पर यह लेख, “How to save water in Hindi” आपको कैसा लगा? यदि आपके पास भी पानी की बर्बादी रोकने से related कोई ideas हों तो कृपया कमेंट के माध्यम से हमें बताएँ. Thanks!

डॉ. मनोज गुप्ता द्वारा लिखे अन्य लेख पढने के लिए यहाँ क्लिक करें ।

We are grateful to Dr. Manoj Gupta for sharing a very informative article on How to save water in Hindi / Hindi Story on Save Water

You may use this article to write a Hindi Essay on Water Conservation / जल संरक्षण पर निबंध.

यदि आपके पास  Hindi  में कोई  article,  inspirational story  या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: [email protected] .पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!

Follow

Related Posts

  • गरीबी और नेत्रहीनता के बावजूद भावेश भाटिया ने खड़ी की करोड़ों की कम्पनी
  • शॉपक्लूज फाउंडर राधिका अग्रवाल के सफलता की कहानी
  • दृष्टिबाधितों की मदद के लिए एक बड़ा कदम!
  • छत्तीसगढ़ के दशरथ माँझी श्यामलाल राजवाड़े की कहानी 
  • कैसे हुई भगवान विष्णु के चक्र की उतपत्ति | भगवान विष्णु की कहानी

water saving essay in hindi

August 26, 2022 at 4:02 pm

water saving essay in hindi

June 6, 2022 at 9:07 am

water saving essay in hindi

June 29, 2021 at 12:59 pm

I love this because nowadays my project is going on and I have searched many times but I don’t get any ppt like this . IN this style .

Name – Ayanya Borah

water saving essay in hindi

May 25, 2020 at 2:52 am

ismein mein kuchh aur sudhar karna hoga ismein main aur aapko kuchh bataunga intezar kijiye

water saving essay in hindi

July 3, 2019 at 11:48 am

Very very good effort for better community “ek kadam “SHREE MISSION TIRANGA” KI OR.

Join the Discussion! Cancel reply

Watch Inspirational Videos: AchhiKhabar.Com

Copyright © 2010 - 2024 to AchhiKhabar.com

water saving essay in hindi

ESSAY KI DUNIYA

HINDI ESSAYS & TOPICS

Save Water Essay in Hindi – पानी बचाओ पर निबंध

September 18, 2017 by essaykiduniya

Information about Save Water in Hindi Language. Here you will get Paragraph, Short and Long Pani Bachao Essay in Hindi, Save Water Essay in Hindi Language for students of all Classes in 120, 250, 300 and 500 words. यहां आपको सभी कक्षाओं के छात्रों के लिए हिंदी भाषा में पानी बचाओ पर निबंध मिलेगा।

Save Water Essay in Hindi – पानी बचाओ पर निबंध

Save water essay in hindi language – पानी बचाओ पर निबंध (125 words).

जल ही जीवन है! अगर पानी नहीं होगा, तो कोई जिंदगी नहीं होगी! क्या आप जानते हैं कि वनस्पतियों और जीवों की सभी प्रजातियों के सभी जीवन रूप पानी के कारण जीने में सक्षम हैं? पानी कोशिकाओं का मुख्य घटक है, आमतौर पर सेल के द्रव्यमान का 70% और 95% के बीच बना होता है। इसका मतलब है कि हमारे शरीर द्रव्यमान का 80% पानी है। न केवल हम पानी से बने होते हैं, यह एकमात्र परिवहन माध्यम है जो रक्त की मदद के लिए प्रत्येक शरीर के अंगों की कोशिकाओं में खाद्य अणुओं और ऑक्सीजन को ले जाता है। यह दर्शाता है कि प्रत्येक जीव की जीवन प्रक्रियाओं के कामकाज के लिए पानी सबसे आवश्यक घटक है। तो आप देखते हैं कि यह अद्भुत जीवन पानी के बिना असंभव है!

Save Water Essay in Hindi – Pani Bachao Essay in Hindi (250 words)

जल मानवता के लिए प्रकृति की अनमोल उपहारों में से एक है। मानव शरीर की मात्रा दो तिहाई पानी है यह हमारे जीवन में पानी के महत्व को साफ करता है पृथ्वी के हर प्राण के लिए बहुत सी पानी की आवश्यकता होती है पेड़ – पौधों को बहुत पानी की आवश्यकता होती है तरल में पानी का गठन किया जा सकता है, ठोस और गैस का रूप है।

Save Water Essay in Hindi Language – पानी बचाओ पर निबंध ( 300 words )

जल हमारे जीवन की एक मूलभूत आवश्यकता है जिसके बिना पृथ्वी पर जीवन संभव नहीं है। जल जीवित रहने के लिए बहुत ही जरूरी है और हम पूरी तरह से इस पर निर्भर करते हैं। हम अपनी दिनचर्या मों विभिन्न कार्यों में जल का प्रयोग करते हैं। खाना बनाने, कपड़े धोने, नहाने, झाडू पोछा आदि में हम पानी का प्रयोग करते हैं। बिना पानी के हम कोई भी कार्य नहीं कर सकते हैं। पानी मनुष्य के साथ साथ पेड़ पौधों और पशुओं के लिए भी अत्यंत आवश्यक है। पेड़ पौधे पानी की सहायता से ही बढ़ते हैं।

आज के युग में धीरे धीरे लोग पानी की अहमियत को भूलते जा रहे हैं और पानी को बर्बाद और दुषित करते जा रहे हैं। वह भूल जाते हैं कि पृथ्वी पर स्वच्छ पानी का अभाव है और यदि हम ऐसे ही पानी को बर्बाद करते रहें तो आने वाले समय में स्वच्छ पानी नहीं बचेगा। हमें पानी को स्वच्छ और सुरक्षित रखना चाहिए ताकि आने वाले समय में हमार पास जल का अभाव न हो और प्रयोग में लाने के लिए स्वच्छ जल हो। हमें जल को रसायन आदि मिलाकर या उसमें कूड़ा करकट फेंक कर दुषित नहीं करना चाहिए।

यदि हम आज पानी को नहीं बचाऐंगे तो तीसरा विश्व युद्ध पानी को लेकर ही होगा। हमें जल का अनावश्यक प्रयोग नहीं करना चाहिए और खुले हुए नलों को बंद कर देना चाहिए। हम वर्षा के जल को एकत्रित करके उसे भी सरंक्षित कर सकते है और फिर उसे शुद्ध कर सकते हैं। हमें उद्योगों को भी नदी से दुर लगाना चाहिए ताकि जल को स्वच्छ रखा जा सके। पानी वनस्पतियों के लिए भी जरूरी है। पानी को व्यर्थ न बहाए। पानी को स्वच्छ और सरंक्षित रखना हम सबका कर्त्वय है क्योंकि यह हम सभी की जरूरत है।

Save Water Essay in Hindi Language – पानी बचाओ पर निबंध ( 500 words)  

पानी प्राकृतिक संसाधनों में से एक है, जो कहने की जरूरत नहीं है, जल्द ही रखरखाव की कमी और अधिक लापरवाह रवैये की वजह से हमारी माँ की प्रकृति से गायब होने जा रहा है। इसमें कोई संदेह नहीं है कि लोग पानी बचाने के लिए नए विकल्पों के साथ आ रहे हैं लेकिन यह भी उतना ही सच है कि यहां इतने सारे लोग हैं जो पानी को सही तरीके से बचाने की परवाह नहीं करते हैं। इतने सारे नई प्रौद्योगिकियों और बेहतर विचारों के साथ आने पर, यदि इस तरह के विकल्प समय पर एकीकृत नहीं होते हैं, तो इस तथ्य का कोई अमान्य नहीं है कि आने वाले वर्ष में बड़े पैमाने पर पानी की कमी होगी।

( Water: A Natural Resource )  पानी: एक प्राकृतिक संसाधन

जब मनुष्य को पानी के महत्व का एहसास शुरू हुआ, तो शायद वह समय होना चाहिए, जब उन्हें अपने अस्तित्व का वास्तविक उद्देश्य भी नहीं पता था। जल, वायु और भोजन मानव की बुनियादी आवश्यकताएं हैं और अगर इनमें से कोई भी जल्द ही बंद हो जाए तो इसमें कोई संदेह नहीं है कि इंसान की जिंदगी चुनौतीपूर्ण होगी और इसके बिना जीना असंभव होगा। यही कारण है कि इन संसाधनों को विलुप्त होने से बचाने के लिए पहली प्राथमिकता है, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि हम कितनी प्रगति करते हैं। यह हमें न केवल स्वस्थ और जीवित रहता है बल्कि हमें अच्छे और बुरे समय में भी जीवित रहने देता है।

यह जानवरों, पौधों या किसी अन्य को जीवित रखने के लिए, पानी एक बुनियादी संसाधन है जो शरीर के कामकाज को बनाए रखने में मदद करता है। ऐसे प्राकृतिक संसाधनों को सहेजकर हम केवल अपने वातावरण को संतुलित रहने में मदद नहीं कर रहे हैं, बल्कि मानव के संरक्षण भी कर रहे हैं। इससे ऊर्जा को कम करने में मदद मिलती है जो इसे बनाने और वितरित करने के लिए आवश्यक है जो कि प्रदूषण को बढ़ने के लिए किसी भी तरह योगदान देता है। यह अंततः भविष्य में मनोरंजक उद्देश्य के लिए जल को बचाने और उपयोग करने में मदद करेगा। तथ्य यह है कि धरती का केवल 1% ही पीने योग्य पानी है और सभी नमक पानी हैं जो हमारा शरीर स्वीकार नहीं करता है। इसके अलावा, हम इसके साथ पानी धोने के लिए भी इस्तेमाल नहीं कर सकते।

पानी कई मायनों में मदद करता है और विभिन्न प्रयोजनों में कार्य करता है। इसलिए सुनिश्चित करें कि आप इसका उपयोग कब करेंगे, यह आपके लिए बहु प्रयोजनों की सेवा कर सकता है। इंतजार न करें और गलत तरीके से इसका इस्तेमाल करने के किसी भी प्रकार का कठोर निर्णय न करें। अधिक पानी बचाएं ताकि आपकी भविष्य की पीढ़ी आपको बेहतर तरीके से मदद कर सके। यह उम्मीद है कि निकट भविष्य में बेहतर विकल्प आएंगे, इसलिए चिंता न करें, लेकिन तब तक पानी बनाए रखने से ग्लोबल वार्मिंग को बनाए रखने की कोशिश करें।

हमें आशा है कि आपको यह निबंध ( Essay on Save Water in Hindi Language – Save Water Essay in Hindi Language – पानी बचाओ पर निबंध ) पसंद आएगा।

More Articles : 

Essay on Water in Hindi – जल का महत्व पर निबंध

( Jal Sanrakshan ) Water Conservation Essay in Hindi – जल संरक्षण पर निबंध

Rainy Season Essay in Hindi – वर्षा ऋतु पर निबंध

Essay on Garden in Hindi – बागीचे पर निबंध

Essay on Kashmir in Hindi – कश्मीर पर निबंध

Republic Day Speech For Teachers In Hindi- गणतंत्र दिवस पर भाषण

Republic Day Speech In Hindi – गणतंत्र दिवस पर भाषण

Short Essay on Republic Day in Hindi – गणतंत्र दिवस पर लघु निबंध

दा इंडियन वायर

जल ही जीवन है पर निबंध

water saving essay in hindi

By विकास सिंह

water is life essay in hindi

विषय-सूचि

जल ही जीवन है पर छोटा निबंध, save water save life essay in hindi (200 शब्द)

water saving essay in hindi

सभी जीवों के लिए पृथ्वी पर जीवित रहने के लिए वायु के बाद पानी दूसरा सबसे जरूरी पदार्थ है। पीने के रूप में उपयोग किए जाने वाले पानी के अलावा, इसके विभिन्न उपयोग भी हैं जैसे कि धुलाई, खाना बनाना, सफाई करना आदि। पानी न केवल जीवित प्राणी के लिए महत्वपूर्ण है, बल्कि पौधे या पेड़ों के लिए भी महत्वपूर्ण है। यह कीमती तत्व कृषि क्षेत्र के लिए और विभिन्न उद्योगों के लिए भी आवश्यक है।

जल का महत्व:

जीवन की शुरुआत से ही पानी इतना महत्वपूर्ण है कि सभी प्रमुख सभ्यता दुनिया में नदी के पास होती है। भारत में प्रमुख शहरों को विकसित करने में नदियाँ महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं क्योंकि नदी के माध्यम से परिवहन बहुत आसान है। आजकल वैज्ञानिक मंगल ग्रह पर जीवन के बारे में बात कर रहे हैं क्योंकि उन्हें हवा में कुछ जमे हुए पानी के कण और नमी मिली थी।

वैज्ञानिक अभी भी जीवन की खोज कर रहे हैं, लेकिन मुख्य बिंदु यह है कि पानी की उपलब्धता के कारण हम जीवन की कल्पना कर सकते हैं अन्यथा जीवन की कोई संभावना नहीं है, इसलिए हम यह भी कह सकते हैं की जल ही जीवन है।

पृथ्वी के पारिस्थितिक संतुलन के लिए पानी महत्वपूर्ण है यानी समुद्र से पानी वाष्पित होता है और वायु को जल वाष्प के रूप में जोड़ता है और बादल में बदल जाता है। जब बादल समुद्र से सादे क्षेत्र में स्थानांतरित हो जाता है, और ठंडा हो जाता है, तो यह बारिश में परिवर्तित हो जाता है और नदी और भूजल को फिर से भर देता है।

जल ही जीवन है पर निबंध, water is life essay in hindi (300 शब्द)

water crisis essay in hindi

प्रस्तावना:

’पृथ्वी पर जीवन बचाने के लिए पानी बचाओ’, यह नियम अब हम सभी के लिए प्रमुख आवश्यकता बन गया है। हम सभी जानते हैं कि पृथ्वी पर रहने के लिए पानी उतना ही आवश्यक है, लेकिन सबसे बुरी बात यह है कि दिन पर दिन ताजा पानी कम होता जा रहा है।

पानी की कमी के कारण दुनिया में सूखे, विभिन्न बीमारियों, पर्यावरण प्रदूषण और ग्लोबल वार्मिंग जैसे कई प्राकृतिक संकट पैदा हो रहे हैं, फिर भी दुनिया की आबादी का एक बड़ा हिस्सा पानी की बचत के महत्व को नहीं समझ रहा है।

जल संरक्षण का महत्व:

प्रकृति का चक्र पूरी तरह से पानी पर निर्भर करता है। जब तक पानी का वाष्पीकरण और हवा में मिश्रण नहीं होगा तब तक पृथ्वी पर बारिश नहीं होगी, जिससे क्षतिग्रस्त फसलें और सभी जगह सूखे की सबसे खराब स्थिति हो सकती है। प्रत्येक जीवित प्राणी चाहे वे मानव हों, पशु हों या पौधों को यहाँ जीवित रहने के लिए पानी की आवश्यकता होती है।

न केवल पानी पीने के लिए आवश्यक है बल्कि यह घरेलू उपयोग के लिए भी आवश्यक है जैसे धुलाई, सफाई, मोपिंग, खाना बनाना और यहां तक ​​कि बिजली संयंत्र सहित कृषि और औद्योगिक उपयोग के लिए भी यह ज़रूरी है।

भारत के कई क्षेत्रों में पानी की मात्रा इतनी कम है कि ताजा पानी बिलकुल नहीं है। उन स्थानों पर लोगों को अपने दैनिक उपयोग के लिए पीने योग्य पानी प्राप्त करने के लिए या तो बहुत अधिक शुल्क देना पड़ता है या सैकड़ों मील दूर जाना पड़ता है। जल सभी जीवित प्राणियों के लिए इतना महत्वपूर्ण घटक है कि अगर हम अभी भी इसे संरक्षित करने का उपाय नहीं खोजते हैं, तो पृथ्वी पर अस्तित्व खतरे में पड़ जाएगा।

शहरीकरण के लिए पानी का उपयोग:

शहरी क्षेत्र आमतौर पर नदी के किनारे पाए जाते हैं। प्रत्येक उद्योग को विभिन्न प्रकार के निर्माण के लिए पानी की आवश्यकता होती है, जहाँ पानी का उपयोग किसी उत्पाद के निर्माण, प्रसंस्करण, धोने, पतला करने, ठंडा करने या परिवहन के लिए किया जाता है। पानी का एक प्रमुख उपयोग बिजली उत्पादन में बिजली उत्पादन के लिए है।

निष्कर्ष:

पृथ्वी पर जल एक असीम प्राकृतिक संसाधन है जो पुन: चक्रण द्वारा बनता है लेकिन ताजा और पीने योग्य पानी हमारी प्रमुख आवश्यकता है जिसे हमारे सुरक्षित स्वस्थ जीवन के लिए बचाया जाना चाहिए। पानी को बचाने के प्रयास के बिना, एक दिन पृथ्वी पर जीवन संभव नहीं होगा।

जल ही जीवन है पर निबंध, water is life essay in hindi (400 शब्द)

water crisis in hindi

जल सभी जीवित प्राणियों के लिए पृथ्वी पर अनमोल पदार्थ है। कोई भी बिना पानी के जीने की सोच भी नहीं सकता। यह कहना कठिन है, लेकिन यह तथ्य यह है कि पीने योग्य पानी दिन-प्रतिदिन पूरी दुनिया में कम हो रहा है, यहां तक ​​कि पृथ्वी भी 71% पानी से ढकी हुई है। पानी बचाओ जीवन बचाओ ’के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए विभिन्न देश विभिन्न कार्यक्रम और कार्यक्रम आयोजित कर रहे हैं।

सामाजिक जागरूकता के लिए विभिन्न कदम:

वर्तमान समय में हर जगह लोग जल संसाधनों की कमी, भूजल स्तर में कमी, दुनिया के कई हिस्सों में सूखे और वर्षा जल संचयन आदि के बारे में बात कर रहे हैं। जल संसाधनों की कमी अब दुनिया के लिए एक वैश्विक समस्या बन गई है और प्रमुख तथ्य है। यह तब हो रहा है जब पृथ्वी लगभग 71% पानी से ढकी हुई है। वास्तव में उपयोगी पानी केवल 3.5% उपलब्ध है, अन्य महासागर का पानी है जिसका उपयोग नहीं किया जा सकता है।

ऐसे किसी भी मुद्दे का सामना करना और हल करना सभी के लिए सामाजिक जागरूकता है। पूरी दुनिया अब पानी की कमी के ऐसे वैश्विक मुद्दे को सुलझाने के लिए एकजुट है।

संयुक्त राष्ट्र (UN) 22 मार्च को “विश्व जल दिवस” ​​के रूप में मनाता है ताकि ताजे पानी के महत्व और ताजे जल संसाधनों के प्रबंधन का समर्थन किया जा सके। भारत सरकार (GOI) लोगों में सामाजिक जागरूकता पैदा करके जल संसाधनों के संवर्द्धन, संरक्षण और कुशल प्रबंधन के लिए कई कदम उठा रही है।

भारत सरकार और राज्य सरकार ने “गंगा और अन्य नदियों” का कायाकल्प करने के लिए “पेयजल और स्वच्छता मंत्रालय” के लिए समर्पित मंत्री जैसे लोगों में जागरूकता पैदा करने के लिए कई विभाग तैयार किए हैं। केंद्रीय भूजल बोर्ड भूजल विकास के नियमन और वर्षा जल संचयन और कृत्रिम पुनर्भरण को बढ़ावा देने के लिए भी कदम उठा रहा है।

आध्यात्मिक नेता “सद्गुरु जग्गी वासुदेव” ने “रैली फॉर रिवर्स” अभियान द्वारा जागरूकता पैदा की है। इस अभियान में, उन्होंने नदी के किनारों पर कम से कम एक किलोमीटर पेड़ के कवर को बनाए रखते हुए भारत की नदियों का कायाकल्प करने का सबसे सरल समाधान दिया। जंगल के पेड़ या तो सरकारी भूमि पर लगाए जा सकते हैं या खेत की भूमि पर लाए गए कृषि आधारित पेड़ हो सकते हैं। यह सुनिश्चित करेगा कि हमारी नदियों को नम मिट्टी द्वारा पूरे वर्ष भर खिलाया जाए। इससे बाढ़, सूखा और मिट्टी की हानि भी कम होगी जिसके परिणामस्वरूप किसानों की आय में वृद्धि होगी।

सभी को हमारे जीवन में पानी के महत्व और पानी की कमी के दौरान आने वाली समस्या को समझना चाहिए। सरकार और एनजीओ पानी के महत्व के बारे में जागरूकता फैला रहे हैं और कैसे दैनिक जीवन में पानी की बचत करते हैं। पानी कीमती है और हमें इसे बर्बाद नहीं करना चाहिए।

जल ही जीवन है पर निबंध, save water save life essay in hindi (500 शब्द)

water saving essay in hindi

ग्लोबल वार्मिंग की सबसे बड़ी समस्या निस्संदेह पृथ्वी पर एक विशाल जल ह्रास है जो मुख्य रूप से पूरे ग्रह पर पानी के दुरुपयोग के कारण है। आज के समय में “जल बचाओ पृथ्वी बचाओ” के सूत्र को समझने की अत्यधिक आवश्यकता है। शुद्ध पानी सभी आवश्यकताओं का प्रमुख स्रोत है, जो एक स्वस्थ जीवन जीने के तरीके से जीवित होना चाहता है।

जल संरक्षण के उपाय क्या हैं?

पृथ्वी पर सूखे की सबसे खराब स्थिति को रोकने के लिए पानी का बेहतर और कम उपयोग हमारी आवश्यकता है। इस निबंध में, हम इस बात पर ध्यान केंद्रित करेंगे कि सौंदर्य हरियाली के वातावरण और पृथ्वी पर सबसे महत्वपूर्ण रूप से जीवन को बचाने के लिए पानी का संरक्षण कैसे किया जाए। अगर हम इस पर गंभीरता से सोचते हैं तो हमने पाया कि यह बिल्कुल भी मुश्किल नहीं है। पहले हमें अपने दैनिक जीवन से शुरुआत करने की जरूरत है।

हमारी नई पीढ़ी को “पृथ्वी बचाओ धरती बचाओ” के सूत्र को समझने की अत्यधिक आवश्यकता है। हम इसे अपने जीवन के हर सेकंड में सहेज सकते हैं। एक छोटा कदम पानी की बचत में सैकड़ों गैलन जोड़ सकता है। यहाँ कुछ बिंदु हैं जिन्हें हमें अपने दैनिक जीवन में ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता है।

नियमित गतिविधियों के दौरान थोड़ी सावधानी बरतें जैसे कि ब्रश करते समय नल बंद करना, हाथ धोना और शेविंग करने से प्रति माह भारी मात्रा में लगभग 160 गैलन पानी बच सकता है। शॉवर लेने के बजाय बाल्टी का उपयोग भी पानी बचाने के संबंध में जरूरतमंदों को करेगा।

दोपहर के बजाय सुबह और शाम के समय में पौधों को पानी देना हमेशा पानी को बचाने के लिए बेहतर उपाय है, हालांकि वसंत के मौसम में पेड़ लगाना भी समाधान में जोड़ा जा सकता है। बिना देरी किए अनावश्यक पानी की कमी को रोकने के लिए घर में सभी रिसाव को ठीक करना आवश्यक है।

बाल्टी का उपयोग करने के बजाय, पानी की बचत के मामले में कार को पाइप से धोना हमेशा खराब विकल्प होता है। वॉशिंग मशीन और डिशवॉशर का उपयोग हमेशा पानी से बचाने में मदद करता है जब वे पूरी तरह से लोड होते हैं। अपने घर में पानी के पुनर्चक्रण की सही प्रक्रिया को लागू करें हमेशा पानी के संरक्षण के संदर्भ में एक सही निर्णय साबित होता है।

पानी का संरक्षण कुछ ऐसा है जो प्रकृति और हमारे भविष्य को सुरक्षित बनाता है। हम सभी जानते हैं कि दिन-प्रतिदिन पृथ्वी पर पानी का स्तर गिरता जा रहा है और इसके कारण हमारी प्रकृति बुरी तरह से पीड़ित है। पानी को संरक्षित करने और हमारी भावी पीढ़ी के स्वस्थ जीवन के लिए इसकी शुद्धता बनाए रखने के लिए सीखना और लागू करना बेहतर होना चाहिए।

ग्रह पर उपलब्ध पानी की वर्तमान स्थिति को देखने के बाद, पानी की एक-एक बूंद को अब सहेजने की जरूरत है। जैसा कि हम जानते हैं कि पृथ्वी का 71% क्षेत्र पानी से ढका हुआ है, लेकिन यह तथ्य की पानी का केवल 3.5% हिस्सा बचा है, जो जीवित रहने के लिए उपयोगी है, इस प्रकार, हमें अपनी भावी पीढ़ी की खातिर पानी के महत्व को समझना आवश्यक है प्राकृतिक संसाधनों का चक्र विशेष रूप से पृथ्वी का नीला भाग है जो ‘जल’ है।

जल ही जीवन है पर निबंध, save water save life essay in hindi (600 शब्द)

importance of water essay in hindi

पृथ्वी पर प्रमुख प्राकृतिक संसाधनों में से एक पानी है जो मानव, पशु, पौधे आदि सभी जीवों के लिए पृथ्वी पर सबसे महत्वपूर्ण पदार्थ है। पानी हमारी दैनिक जरूरतों के लिए आवश्यक है यहां तक ​​कि हम पानी के बिना जीवित रहने की कल्पना भी नहीं कर सकते हैं।

हमें प्रत्येक चीज़ के लिए पानी की आवश्यकता होती है जैसे कि खाना पीना, खाना पकाना, स्नान करना, सफाई करना आदि जहाँ पानी जीवित प्राणियों के लिए आवश्यक होता है, कृषि, विनिर्माण कंपनियों, विभिन्न प्रकार के रासायनिक उद्योगों, बिजली संयंत्रों और कई अन्य क्षेत्रों में भी इसकी अधिक आवश्यकता होती है। दुर्भाग्य से पृथ्वी पर पानी की कमी आजकल पूरी दुनिया के लिए एक बड़ी समस्या बन गई है।

पानी बचाओ जीवन बचाओ दुनिया बचाओ:

पृथ्वी पर जीवन के लिए पानी की प्रमुख आवश्यकता है। जीवन को स्वस्थ और सुरक्षित बनाने के लिए सभी जीवित लोगों को पानी की आवश्यकता होती है। जैसे-जैसे जनसंख्या दिन-प्रतिदिन बढ़ती जा रही है, पानी की खपत भी बढ़ रही है और शहरीकरण के कारण पेड़ नियमित रूप से घटते जा रहे हैं, जिसके परिणामस्वरूप प्रदूषण, विभिन्न क्षेत्रों में सूखा, क्षतिग्रस्त फसल और ग्लोबल वार्मिंग की सबसे खराब स्थिति है।

इस प्रकार यह जीवन को बचाने और दुनिया को बचाने के लिए पानी को बचाने के लिए सभी को आदतें बनाने का उचित समय है।

पानी की कमी:

हमने हमेशा दुनिया के विभिन्न हिस्सों में पानी की कमी के बारे में समाचार सुना है। यहाँ हम परिभाषित करते हैं कि पानी की कमी क्या है। यह पूरे विश्व में ताजे जल संसाधनों की भारी कमी या अनुपस्थिति है। डेटा के अनुसार वैश्विक आबादी का लगभग एक तिहाई 2 अरब लोग एक साल में 1 महीने के लिए पानी की कमी की स्थिति में रह रहे हैं, हम यह भी कह सकते हैं कि पूरी दुनिया में आधे अरब लोग पूरे साल पानी के संकट का सामना करते हैं।

अब यह घोषित किया गया है कि, दक्षिण अफ्रीका के शहर केपटाउन को जल्द ही पानी ख़त्म होने वाला बड़ा शहर माना जाएगा। पृथ्वी पर लगभग 71% स्थान पर पानी है, फिर भी दुनिया में पानी की भारी कमी है। महासागर में खारे पानी के रूप में 96.5% पानी होता है जो बिना उपचार के मानव द्वारा उपयोग नहीं किया जा सकता है, केवल 3.5% पानी उपयोग के लिए है जो भूजल, ग्लेशियर, नदियों और झीलों आदि के रूप में उपलब्ध है।

पानी के ये प्राकृतिक संसाधन खपत में वृद्धि के कारण बहुत तेजी से घट रहे हैं क्योंकि बढ़ती जनसंख्या पानी की बर्बादी, तेजी से औद्योगिकीकरण और शहरीकरण को बढ़ाती है। भारत और अन्य देशों के कुछ हिस्सों को पानी की भारी कमी का सामना करना पड़ रहा है और दुर्भाग्य से सरकार को उन जगहों के लिए सड़क टैंकर या ट्रेन से पानी की व्यवस्था करनी पड़ रही है। भारत में 1951 से 2011 की समयावधि के बीच प्रति व्यक्ति जल उपलब्धता 70% तक कम हो गई है और 2050 तक फिर से 22% घटने की उम्मीद है।

विश्व जल दिवस:

संयुक्त राष्ट्र (UN) ने 22 मार्च को “विश्व जल दिवस” ​​के रूप में घोषित किया है कि लोगों को ताजे पानी के मूल्य और इसकी अनुपस्थिति के कारण पृथ्वी पर हानिकारक प्रभाव के बारे में जागरूक किया जाए। इस वर्ष विश्व जल दिवस 2018 का विषय था water प्रकृति के लिए पानी ’जिसका अर्थ है 21 वीं सदी में हमारे सामने आने वाली पानी की चुनौतियों के लिए प्रकृति-आधारित समाधान तलाशना।

जल हमारा अनमोल प्राकृतिक संसाधन है जिसे हर व्यक्ति को जीवित रखने की आवश्यकता है। अगर हम कहते हैं कि ‘जल ही जीवन है’ तो इसमें कुछ गलत नहीं है। इस प्रकार हम पानी बचाओ जीवन बचाओ और दुनिया बचाओ पर भी ध्यान दे रहे हैं।

पीने योग्य पानी का मतलब है कि मानव उपभोग के लिए पर्याप्त सुरक्षित माना जाने वाला पानी हमारे भविष्य की संभावनाओं के लिए बचाए रखने की जरूरत है। हमारे प्राकृतिक इको-सिस्टम को और अधिक नुकसान से बचाने के लिए और ग्लोबल वार्मिंग की स्थिति से पृथ्वी को बचने के लिए हमें पानी के संरक्षण और उसमें रसायन या कचरा न डालकर इसकी गुणवत्ता बनाए रखने की आवश्यकता है।

जल ही जीवन है पर निबंध, water is life essay in hindi (1000 शब्द)

save water save earth poster in hindi

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि वायु के बाद, जल इस ग्रह पर जीवन के अस्तित्व के लिए सबसे महत्वपूर्ण संसाधनों में से एक है। यह अस्तित्व के लिए इतना महत्वपूर्ण है कि हम पानी के बिना जीवन की कल्पना भी नहीं कर सकते। हम सभी जानते हैं कि पृथ्वी की सतह का लगभग 71% हिस्सा पानी से ढका हुआ है, मूल रूप से महासागरों, समुद्रों, नदियों, ग्लेशियरों आदि के रूप में है, लेकिन हालांकि हमारे पास जल निकायों की इतनी बड़ी मात्रा है, इसमें से केवल 1% पानी साफ है और मानव उपभोग के लिए उपयुक्त है।

जल न केवल मानव जाति के अस्तित्व के लिए बल्कि पृथ्वी पर मौजूद अन्य प्रजातियों के लिए भी आवश्यक है। जैविक दृष्टिकोण से पानी में कई गुण होते हैं जो कार्बनिक यौगिकों को प्रतिक्रिया करने और प्रतिकृति बनाने की अनुमति देते हैं। जीवन के सभी ज्ञात रूप पानी पर अत्यधिक निर्भर हैं। पृथ्वी पर उपलब्ध स्वच्छ जल की दुर्लभ मात्रा और पानी पर प्रजातियों की उच्च निर्भरता को देखते हुए, यह हमारे लिए अत्यंत महत्वपूर्ण हो जाता है कि हम जीवन को बचाने के लिए पानी बचाएं।

जल ही जीवन है:

जल हमारे जीवन का आवश्यक घटक है और हमारा अस्तित्व इस पर निर्भर है। पानी के बिना जीवन की कल्पना करना संभव नहीं है और अगर हम जीवन को बचाना चाहते हैं तो इसमें कोई संदेह नहीं है कि हमें इसे पानी बचाने से शुरू करना होगा। उपभोग के अलावा, पानी भी हमारे दैनिक जीवन का एक अभिन्न हिस्सा है, जिसमें स्नान, खाना पकाने, कपड़े धोने, बागवानी से लेकर कृषि और औद्योगिक उपयोग तक शामिल हैं, पानी हमारी दैनिक दिनचर्या में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

पृथ्वी पर पशु और वनस्पति भी पानी पर निर्भर हैं और यदि पानी की कमी है तो यह पारिस्थितिकी तंत्र के संतुलन को प्रभावित करने और खाद्य श्रृंखला को तोड़ने में उनकी वृद्धि और विकास को गंभीरता से बाधित करेगा। इसलिए यह सुनिश्चित करना बहुत महत्वपूर्ण है कि पृथ्वी पर सभी प्रजातियों के अस्तित्व के लिए पानी की उचित आपूर्ति हो।

पानी बचाने की जरूरत है:

दुनिया भर के कई क्षेत्रों में भारी बारिश और पानी की कमी या भूमिगत जल की कमी के कारण अत्यधिक पानी की कमी का सामना करना पड़ रहा है। कुछ जगहों पर या तो भूजल दूषित है या फिर इसका इस्तेमाल खत्म हो गया है और अब तक बारिश नहीं हुई है। इन कारकों से उन क्षेत्रों में सूखे की स्थिति पैदा हो गई है जिससे पानी की कमी हो रही है।

औद्योगीकरण और शहरीकरण ने उन समस्याओं को भी जोड़ा है जिनके द्वारा जनसंख्या की असाधारण उच्च मांगों को पूरा करने के लिए भूजल का उपयोग किया गया है। डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट के अनुसार, नौ लोगों में से 1 और 844 मिलियन के आसपास अभी भी सुरक्षित पानी तक पहुंच नहीं है। आंकड़ों और वर्तमान स्थिति को देखते हुए, भविष्य में जल संकट अपरिहार्य लगता है और पानी के संरक्षण के लिए तत्काल कार्य योजना बनाने का आह्वान करता है ताकि हम आज के साथ-साथ अपनी आने वाली पीढ़ियों के लिए भी इस अनमोल संसाधन को बचा सकें।

पानी बचाने की पहल:

‘सेव वॉटर’ एक पहल है जो पानी के महत्व के बारे में लोगों के बीच जागरूकता फैलाकर और हमारे बेहतर भविष्य के लिए इसे बचाने के लिए पानी के संरक्षण को बढ़ावा देने में मदद करता है। जल बचाओ अभियान लोगों को एहसास कराता है कि शुद्ध और ताजे पानी के स्रोत बहुत सीमित हैं और अगर इसका अत्यधिक उपयोग होता है तो संभावना है कि वे निकट भविष्य में आबादी की उच्च मांगों को पूरा करने में सक्षम नहीं हो सकते हैं।

हालाँकि पृथ्वी का 71% हिस्सा पानी से ढका हुआ है, लेकिन यह पानी प्रत्यक्ष उपभोग के लिए अयोग्य है, इसलिए पृथ्वी पर जो भी ताज़ा पानी है, उसका एक बूँद बर्बाद किए बिना ज़िम्मेदार तरीके से उपयोग किया जाना चाहिए। पानी को बचाना और भविष्य के लिए संरक्षण करना प्रत्येक वैश्विक नागरिक की जिम्मेदारी है क्योंकि जनसंख्या दिन-प्रतिदिन बढ़ती जा रही है लेकिन स्वच्छ जल के स्रोत समान हैं।

यदि हम भविष्य में जीवन को बनाए रखने के लिए ताजे पानी की उचित उपलब्धता बनाना चाहते हैं तो हमें आज से पानी की बचत शुरू करनी होगी और अपनी दैनिक दिनचर्या में पानी की बचत की आदतों को शामिल करना होगा तभी हम पानी का संरक्षण कर पाएंगे और पानी की आपूर्ति बनाए रख पाएंगे। वे क्षेत्र जो ताजे और साफ पानी से वंचित हैं।

पानी बचाओ जिंदगी बचाओ:

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि जल ही जीवन है और जीवन के सभी ज्ञात रूप इस पर पूरी तरह निर्भर हैं। लेकिन अभी भी भारत में लगभग 21% संक्रामक रोग असुरक्षित पानी के सेवन के कारण होते हैं और यह स्थिति स्वच्छ पेयजल की कमी के कारण पैदा हुई है। भारत में लगभग 163 मिलियन लोगों को अभी भी सुरक्षित पीने के पानी तक पहुंच की कमी है और विभिन्न बीमारियों और महामारियों के लिए एक खुला आमंत्रण दे रही है जो कभी-कभी घातक हो सकती है।

बढ़ती आबादी और स्वच्छ जल की उच्च माँगों को देखते हुए यह महत्वपूर्ण है कि हमें आज से ही पानी का संरक्षण करना शुरू कर देना चाहिए। यदि भारत का प्रत्येक नागरिक एक दिन में कम से कम एक लीटर पानी बचाता है, तो यह निश्चित रूप से बहुत बड़ा बदलाव ला सकता है।

आपका एक लीटर बचा हुआ स्वच्छ पानी एक ऐसे बच्चे को जीवन दे सकता है, जिसके पास साफ पानी नहीं है। आपके द्वारा बचाए गए पानी का उपयोग उन क्षेत्रों में किया जा सकता है जो उच्च मांगों के कारण पानी की आपूर्ति से वंचित हैं। पानी बचाने के लिए उठाया गया आपका छोटा कदम कई लोगों के जीवन में भारी बदलाव ला सकता है।

पानी को कैसे बचायें:

जल जीवन के समतुल्य है और यदि हम मानव जाति का अस्तित्व चाहते हैं तो हमें अपनी दिनचर्या में पानी को बचाने की आदत को सख्ती से शामिल करना होगा। निम्नलिखित कुछ तरीके हैं जो आपको पानी बचाने और इसे बेहतर तरीके से उपयोग करने में मदद करेंगे:

  • दांतों को साफ़ करते समय या शेविंग करते समय नल को कसकर बंद रखें
  • एक कम-फ्लश शौचालय स्थापित करें जो कम पानी का उपयोग करता है।
  • शावर बाथ का कम प्रयोग करें और इसके बजाय मग और बाल्टी से स्नान करें।
  • कृषि में बाढ़ सिंचाई के बजाय ड्रिप सिंचाई का उपयोग करें।
  • शाम को अपने बगीचे को पानी दें और पानी फैलाने से बचें।
  • सार्वजनिक स्थानों पर चालू नल बंद करें और तुरंत प्राधिकरण को लीक की रिपोर्ट करें।
  • अपने भवन और इलाकों में वर्षा जल संचयन प्रणाली स्थापित करें।
  • धुलाई या बागवानी प्रयोजनों में आरओ फिल्टर के अपशिष्ट जल का फिर से उपयोग करें।
  • ओवरफ्लो से बचने के लिए ओवरहेड टैंक में फ्लोट वाल्व स्थापित करें।

पानी जीवन का आधार है, उदाहरण के लिए, यदि आप केवल कुछ दिनों के लिए किसी गमले में पानी छोड़ते हैं तो निश्चित रूप से इसमें से कुछ बढ़ेगा ही। इससे पता चलता है कि पानी पृथ्वी पर जीवन के सभी रूपों का समर्थन करता है। चाहे वह इंसान हों, जानवर हों, या पेड़-पौधे हों या पेड़-पौधे हों या कोई अन्य जीवित प्रजाति हो, उनका अस्तित्व पूरी तरह से पानी पर निर्भर है।

यदि उन्हें पानी से वंचित किया जाता है तो प्रजातियों के लिए छोटी अवधि के लिए भी जीवित रहना मुश्किल हो जाता है। पृथ्वी पर सबसे बुद्धिमान प्रजाति के रूप में यह हमारी प्रमुख जिम्मेदारी है कि हमें पानी की बचत करनी चाहिए ताकि जीवन के सभी प्रकार पृथ्वी पर पनप सकें और पारिस्थितिकी तंत्र का एक उचित संतुलन बना रहे।

[ratemypost]

इस लेख से सम्बंधित यदि आपका कोई भी सवाल या सुझाव है, तो आप उसे नीचे कमेंट में लिख सकते हैं।

विकास नें वाणिज्य में स्नातक किया है और उन्हें भाषा और खेल-कूद में काफी शौक है. दा इंडियन वायर के लिए विकास हिंदी व्याकरण एवं अन्य भाषाओं के बारे में लिख रहे हैं.

Related Post

Paper leak: लाचार व्यवस्था, हताश युवा… पर्चा लीक का ‘अमृत काल’, केंद्र ने पीएचडी और पोस्ट-डॉक्टोरल फ़ेलोशिप के लिए वन-स्टॉप पोर्टल किया लॉन्च, एडसिल विद्यांजलि छात्रवृत्ति कार्यक्रम का हुआ शुभारंभ, 70 छात्रों को मिलेगी 5 करोड़ की छात्रवृत्ति, 9 thoughts on “जल ही जीवन है पर निबंध”.

Jal hi jivan hai

Water is life.

Thank you . Your nibadh very much helped me . Thanks

Thank you for this this is very useful for me

Hindi nibandh

Thq so much for help me save water…

Air achhe likho

Leave a Reply Cancel reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Save my name, email, and website in this browser for the next time I comment.

दिल्ली एयरपोर्ट टर्मिनल – 1 की पार्किंग में गिरी छत , 1 की मौत और 8 घायल

पुतिन का उत्तर कोरिया दौरा: आख़िर क्या है इसके भू-राजनैतिक मायने, train accident: एक और रेल हादसा… पश्चिम बंगाल में मालगाड़ी और कंचनजंगा एक्सप्रेस की टक्कर, ls election 2024 results: “जनता ही जनार्दन है”.

  • Study Material

water saving essay in hindi

Save Water Save Life Essay in Hindi – जल बचाओ जीवन बचाओ

Save Water Save Life Essay in Hindi : दोस्तो आज हमने जल बचाओ जीवन बचाओ पर निबंध अथवा जल संरक्षण पर निबंध कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9 ,10, 11, 12 के विद्यार्थियों के लिए लिखा है।

Save Water Save Life Essay in Hindi – जल बचाओ जीवन बचाओ

जल पृथ्वी पर मनुष्य के अस्तित्व का एक अत्यधिक आवश्यक हिस्सा बन गया है। इस प्रकार, पानी के महत्व की तुलना हवा के महत्व से की जा सकती है। सभी जीवित जीव चाहे वह इंसान हों, जानवर हों या पौधे हों। हर कोई पूरी तरह से ताजा और पीने योग्य पानी पर निर्भर करता है। इस प्रकार, पानी बचाने पर निबंध एक जीवन बचाने के लिए मानव के लिए पानी के कुछ अज्ञात और महत्वपूर्ण लाभों में एक अंतर्दृष्टि है।

Save Water Save Life Essay in Hindi

हवा के बाद पृथ्वी पर पानी शायद दूसरा सबसे महत्वपूर्ण पदार्थ है। पीने के अलावा पानी के अन्य फायदे भी हैं। इस प्रकार, इसमें खाना पकाना, कपड़े धोना, सफाई करना आदि शामिल है। पानी इंसान के अस्तित्व का महत्वपूर्ण हिस्सा नहीं है। इसके अलावा, यह पेड़ और पौधों के अस्तित्व के लिए महत्वपूर्ण है। इसके अतिरिक्त, यह कृषि के साथ-साथ विभिन्न अन्य औद्योगिक क्षेत्रों के लिए आवश्यक एक कीमती तत्व है।

वर्तमान में, ग्लोबल वार्मिंग से संबंधित सबसे बड़ी समस्या पृथ्वी पर एक विशाल जल ह्रास है। यह मुख्य रूप से विभिन्न स्थानों पर हो रहे पानी के दुरुपयोग के कारण होता है। वर्तमान परिदृश्य में, पानी की बातचीत के फार्मूले को समझना महत्वपूर्ण है और इस प्रकार पानी की बचत होगी। क्योंकि शुद्ध जल संसाधन हमारी सभी आवश्यकताओं के लिए प्राथमिक स्रोत हैं। और जब यह मूल्यह्रास हो जाता है, तो यह मानव के लिए भारी तबाही की स्थिति पैदा कर सकता है।

पानी बचाने की जरूरत है

वर्तमान में, दुनिया में ऐसे कई क्षेत्र हैं, जो भूजल और खराब वर्षा के कारण पानी की अत्यधिक कमी का सामना कर रहे हैं। इसके अलावा, कुछ क्षेत्रों में, भूजल दूषित है या इसका अत्यधिक उपयोग किया गया है। इस प्रकार, इन कारकों से सूखे की स्थिति पैदा होती है और इन क्षेत्रों में पानी की कमी होती है। इसके अलावा, शहरीकरण और औद्योगीकरण ने उन समस्याओं को जोड़ा है जहां आबादी की बढ़ती मांगों को पूरा करने के लिए भूजल का अत्यधिक उपयोग किया गया है।

500+ Essays in Hindi – सभी विषय पर 500 से अधिक निबंध

डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट के अनुसार, 1 में से लोगों के पास सुरक्षित पीने के पानी तक पहुंच नहीं है। इसे देखते हुए, भविष्य में जल संकट अपरिहार्य प्रतीत होता है। इसके अलावा, यह पानी के संरक्षण के लिए एक तत्काल कार्य योजना का आह्वान करता है ताकि आज की पीढ़ियों के लिए कीमती संसाधन को बचाया जा सके।

पानी बचाने की पहल

यह पहल पानी के संरक्षण में मदद और बढ़ावा दे सकती है । साथ ही, यह लोगों में पानी के महत्व के बारे में जागरूकता फैला सकता है। इसके अतिरिक्त, जल बचाओ अभियान लोगों को यह महसूस करने में मदद करता है कि ताजा और शुद्ध पानी के स्रोत बहुत सीमित हैं। इसलिए, अगर यह अधिक उपयोग किया जाता है कि संभावना है कि वे आबादी की बढ़ती मांगों को पूरा करने में सक्षम नहीं होंगे। इस अभियान के माध्यम से, हम लोगों के बीच लाभों के बारे में जागरूकता पैदा कर सकते हैं और पानी का संरक्षण कर सकते हैं और उसका उपयोग कर सकते हैं।

RELATED ARTICLES MORE FROM AUTHOR

water saving essay in hindi

How to Write an AP English Essay

Essay on India Gate in Hindi

इंडिया गेट पर निबंध – Essay on India Gate in Hindi

Essay on Population Growth in Hindi

जनसंख्या वृद्धि पर निबंध – Essay on Population Growth in Hindi

Leave a reply cancel reply.

Log in to leave a comment

Essays - निबंध

10 lines on diwali in hindi – दिवाली पर 10 लाइनें पंक्तियाँ, essay on my school in english, essay on women empowerment in english, essay on mahatma gandhi in english, essay on pollution in english.

  • Privacy Policy

water saving essay in hindi

45,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today

Here’s your new year gift, one app for all your, study abroad needs, start your journey, track your progress, grow with the community and so much more.

water saving essay in hindi

Verification Code

An OTP has been sent to your registered mobile no. Please verify

water saving essay in hindi

Thanks for your comment !

Our team will review it before it's shown to our readers.

water saving essay in hindi

  • Essays in Hindi /

Importance of Water in Hindi: जल का महत्व 10 लाइन

' src=

  • Updated on  
  • अगस्त 12, 2023

जल का महत्व पर निबंध

हमारा शरीर का 70% जल से बना हुआ है, केवल हमारा शरीर ही नहीं परंतु हमारी पूरी पृथ्वी दो-तीहाई जल से अच्छादित है। हमारे शरीर और जीवन की पूंजी जल, वायु और भोजन हैं। हमारे जीवन में अगर इनमें से अगर एक भी चीज न रही तो हमारा जीवन संकट में पड़ सकता है। आपने यह तो सुना ही होगा “जल ही जीवन है।” इस ब्लॉग में हम जल का महत्व (Importance of Water in Hindi) पर विभिन्न निबंध लिखना सीखेंगे।

This Blog Includes:

जल का क्या महत्व है, जल ही जीवन है पर निबंध, जल का महत्व पर निबंध 100 शब्द, जल के महत्व पर निबंध 300 शब्द, जल के महत्व पर निबंध पोस्टर, जल का महत्व निबंध 400 शब्द, जल का महत्व निबंध 500 शब्द, जल का महत्व इन हिंदी 10 लाइन, जल का महत्व 10 लाइन, जल का महत्व पर 10 अनमोल विचार.

मनुष्य के शरीर का 70% हिस्सा पानी का बना हुआ है। इंसान 5 दिन बिना खाना खाए रह सकता है लेकिन बिना पानी के एक दिन भी गुजारना मुश्किल हो जाता है। पानी केवल पीने के लिए ही नहीं, बल्कि हमारे दैनिक जीवन के उद्देश्यों जैसे स्नान, खाना पकाने, सफाई और कपड़े धोने आदि के लिए भी आवश्यक है। जल हाइड्रोजन के दो और ऑक्सीजन के एक अणु से मिल कर बनता है।

जब भी जल के महत्व की बात आती है हमारे दिमाग में सबसे पहली लाइन यही आती है ‘Jal hi Jeevan Hai’। हमारे शरीर की सरंचना ऐसे हुई है, जिसमें 70% हिस्सा जल का है। दुनिया के हर जीव को जीने के लिए जल की आवश्यकता होती है। पेड़-पौधों से लेकर जानवर तक हर जीव पानी की उपस्थिति के कारण मौजूद है।

पानी हमारे रोजमर्रा की जिंदगी के लिए एक महत्वपूर्ण हिस्सा बन चुका है। सफाई से लेकर खाना बनाने तक, कपड़े से लेकर, बर्तन साफ करने तक हर कार्य को करने के लिए पानी की आवश्यकता होती है। घर हो या बाहर हर जगह हमें पानी की आवश्यकता होती ही है और इसी को पूरा करने के लिए नए-नए तरह की तकनीक का उपयोग किया जा रहा है ताकि हमें कभी पानी की कमी महसूस न हो और हर जगह हमें पानी उपलब्ध मात्रा में मिल सके। हम जिस बिजली का उपयोग करते हैं वह भी पानी से ही बनती है।

पानी की कमी आज देश के लिए बड़ा मुद्दा बन चुकी है। देश के कई राज्य ऐसे हैं जहाँ अकाल पड़ रहा है। हम समाचार पत्र में पढ़ते ही रहते हैं कि कई देश और कई राज्य ऐसे है, जो अकाल से जूझ रहे हैं।

Importance of water in Hindi पर 100 शब्दों पर निबंध इस प्रकार है:

Importance of Water in Hindi (जल का महत्व )

“जल ही जीवन है”, इसका यह अर्थ है कि जहां पानी होता है वहां जीवन होता है। पूरे ब्रह्मांड में पृथ्वी पर ही जल पाया जाता है। जल हमें प्रकृति के द्वारा दिया गया है तो हमें इसका सम्मान करना चाहिए न कि इसका व्यर्थ में बर्बाद करना चाहिए। मनुष्य, जानवरों, पेड़ पौधे सभी के जीवन में जल का उपयोग होता है, जल के बिना जीवन असंभव है। दो हाइड्रोजन और ऑक्सीजन के अणुओं को मिलाकर जल बनता है। जल का रासायनिक सूत्र H2o है। सभी को हमेशा साफ और शुद्ध जल ही पीना चाहिए। पानी का एक एक बूंद भी बहुत कीमती होता है।

Importance of Water in Hindi

पानी सबसे महत्वपूर्ण पदार्थों में से एक है, जो पौधों ,जानवरों ,मनुष्य के लिए बहुत ही आवश्यक होता है। पानी के बिना हम जीवन के बारे में सोच भी नहीं सकते। हमारे शरीर का आधा वजन पानी से बनता है, पानी के बिना दुनिया में कोई भी जीव जिंदा नहीं रह सकता। जीवन में पानी केवल पीने के लिए ही नहीं परंतु दैनिक जीवन में भी बहुत उपयोगी है जैसे कि स्नान करना ,खाना पकाना ,कपड़े धोने के लिए ,सफाई करने के लिए आदि ऐसी बहुत सारी चीजों के लिए आवश्यक है। जल की तीन अवस्थाएं होती है:

  • ठोस (solid)
  • द्रव्य (liquid)

पृथ्वी के 70% भाग पर जल विद्यमान है। यह जल महासागरों ,सागरों में  वितरित है। जल एक रासायनिक पदार्थ के रूप में भी काम आता है, यह रंगहीन और गंधहीन होता है। जल का क्वथनांक (boiling point)  1000 डिग्री सेल्सियस होता है। जल का सतही तनाव (surface tension) उच्च होता है, क्योंकि जल के अणु के बीच होने वाली अंत क्रिया कमजोर होती है। जल बहुत अच्छा विलायक साल्वेंट (solvent) होता है। इसका यह मतलब है कि जो पदार्थ अच्छी तरीके से पानी में घुल जाता है। जल की इस घुलनशील प्रवृत्ति को  हाइड्रोफिलिक (hydrophilic) का नाम दिया जाता है, जैसे कि नमक चीनी ,आदि। ऐसे भी कुछ पदार्थ होते हैं जो पानी में घुलनशील नहीं होते जैसे कि तेल और वसा। जल के बिना जीवन की कल्पना करना असंभव है, भविष्य में हमारे लिए जल का संरक्षण करना बहुत ही महत्वपूर्ण है।

जल का महत्व निबंध के लिए पोस्टर नीचे दिया गया है-

पृथ्वी इस ब्रह्मांड में एकमात्र ऐसा ग्रह है जहां पानी और ऑक्सीजन की उपलब्धता के कारण ही जीवन संभव है। जल पृथ्वी पर सभी जीवित प्राणियों के लिए जीवन की सबसे महत्वपूर्ण आवश्यकता है। हालाँकि पृथ्वी की सतह पर पानी की प्रचुर मात्रा का 97.5% पानी खारा है और 2.5% ताजा पानी (पीने के लायक) है। दुनिया का केवल 3% पानी एक ऐसे रूप में है जिसका हम उपयोग कर सकते हैं। हम प्रत्येक दिन बड़ी मात्रा में पानी का उपयोग करते हैं, क्योंकि पानी कई अलग-अलग उद्देश्यों को पूरा करता है। 

2020 के लिए जल संरक्षण के प्रयासों में उत्तर प्रदेश को सर्वश्रेष्ठ राज्य का दर्जा दिया गया है। जल शक्ति मंत्रालय ने जल संरक्षण की दिशा में उनके कार्यों और प्रयासों के लिए क्रमशः राजस्थान और तमिलनाडु को दूसरे और तीसरे स्थान से सम्मानित किया। देश को अपनी कृषि, सिंचाई, उद्योग और घरेलू आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए प्रति वर्ष 1,000 बिलियन क्यूबिक मीटर पानी की आवश्यकता है। पानी का उपयोग तो लगातार बढ़ता जा रहा वहीं इसकी उपलब्धता में कमी होती जा रही है। पानी की इस कमी को पूरा करने के लिए सकारात्मक और प्रभावी कदमअपनाने होंगे।

पृथ्वी पर महासागर, नदियां, झील, भूमिगत जल और वर्षा जल के मुख्य और सबसे बड़े स्रोत हैं। पानी को बचाना और संरक्षित करना आज की आवश्यकता है। कई गांव पीने की कमी की बड़ी समस्या का सामना कर रहे हैं। पानी सभी के लिए बहुत महत्वपूर्ण है इसलिए हमें पानी बचाना चाहिए। हम सभी को इस समस्या का एहसास होना चाहिए और पानी बचाने के लिए प्रयास करने चाहिए। वर्षा जल संचयन जैसे कदम पानी बचाने में बड़ी भूमिका निभाएंगे। हम पानी के बिना जीवन की कल्पना नहीं कर सकते। पानी हमारी दुनिया के अस्तित्व के लिए महत्वपूर्ण है। हमें अच्छे जीवन और आने वाली पीढ़ी के लिए जल का संरक्षण करना होगा। पानी की कमी और पानी की उच्च जरूरतों को देखते हुए यह महत्वपूर्ण है कि हमें पानी की बचत के लिए संरक्षण कार्यक्रम प्रारम्भ करने की आवश्यकता है।

एक निष्कर्ष पर पहुंचा जाये तो यह कह सकते हैं कि बिना जल के जीवन की कल्पना करना व्यर्थ है। लॉरेन ईसेली का कहना है कि “यदि इस ग्रह पर जादू है, तो यह पानी में निहित है।”

पृथ्वी पर हर एक जीव के लिए जल का बहुत ही बड़ा महत्व है। जीने के लिए जल के बिना कुछ भी संभव नहीं है। जल के बिना जीवन की कल्पना नहीं कर सकते। पृथ्वी पर जल पाया जाता है इसी कारण से इसे ब्रह्मांड का एक अनोखा ग्रह कहा जाता है। जल के कारण ही पृथ्वी पर मनुष्य की जाति विकसित हो रही है। जीने के लिए मनुष्य पशु, पेड़ पौधों सभी को जल की जरूरत होती है।अगर किसी कारण जल समाप्त हो जाता है तो कोई भी जीव जंतु जीवित नहीं रह पाएगा क्योंकि सभी जीने के लिए जल का उपयोग करते हैं। पृथ्वी का 7 8% जल महासागर में पाया जाता है, जिसमें नमकीन जल मिलता है परंतु यह पानी किसी काम के योग्य नहीं है। 2.7 प्रशीतक जल ही पीने के योग्य है, जो पृथ्वी पर रहने वाले सभी जीव इस्तेमाल करते हैं।

जल ही जीवन है इस बात का हर एक मनुष्य को ध्यान रखना चाहिए। मनुष्य को जल के संरक्षण के बारे में विचार करना चाहिए क्योंकि पृथ्वी से जल तेजी से विलुप्त हो रहा है यानी कि कम हो रहा है। फैक्ट्रियों द्वारा प्रदूषण फ़ैल रहा है, इनका सारा कचरा नदियों, झीलों और तालाबों में जाकर मिल रहा है, जिसके कारण जल दूषित हो रहा है। हमें जल को दूषित होने से रोकना चाहिए ताकि आने वाले समय के लिए हम जल को बचा सकें। 65 से 80% तक जल मनुष्य के शरीर में पाया जाता है। 7% रक्त में होता है। हमेशा साफ और शुद्ध जल पीना चाहिए। ब्लीचिंग पाउडर, फिटकरी डालकर हम जल को साफ कर सकते हैं। पानी पीने से पहले उसे उबालना चाहिए, जिसके कारण उसमें मौजूद बैक्टीरिया मर जाते हैं।

मनुष्य के साथ-साथ पेड़ पौधों को जल की उतनी ही आवश्यकता होती है। जल के बिना कोई भी पेड़ पौधे विकसित नहीं हो सकते, वह मुरझा जाते हैं और सूख जाते हैं। मनुष्य को जीवित रहने के लिए पेड़ पौधों का जीवित रहना उतना ही आवश्यक है। खेत में ऐसे कई सारी फसल हैं जो जल के द्वारा ही संभव हो सकती हैं जैसे कि गेहूं, मक्का ,चावल ,आदि। पशु पक्षियों और अन्य जीवो को भी मनुष्य की तरह प्यास लगती है। रेगिस्तान में पाए जाने वाले ऊंट को “रेगिस्तान का जहाज ” कहते हैं। वह अपने शरीर में एक बार में 50 लीटर तक पानी पीकर उसे संचित कर सकता है और कई दिनों तक बिना पानी के जीवित भी रह सकता है।

हाइड्रोजन के दो अणु और ऑक्सीजन के एक अणु को मिलाकर जल बनता है। जल का रासायनिक नाम H2Oहै। जल से बिजली का उत्पादन भी किया जा सकता है। जल हमें सिर्फ पीने के लिए नहीं परंतु कई सारे कामों के लिए उपयोगी होता है जैसे कि कपड़े धोने के लिए, नहाने के लिए , भोजन बनाने के लिए, आदि ऐसे कई सारे कार्यों के लिए जल का उपयोग होता है। जल ही जीवन है इस बात का हमें ध्यान रखना चाहिए और हमें जितना हो सके उतना जल को बचाना चाहिए।

जल का महत्व इन हिंदी 10 लाइन नीचे दी गई हैं-

  • पानी सबसे महत्वपूर्ण पदार्थों में से है जो पौधों ,जानवरों ,मनुष्य के लिए बहुत ही आवश्यक होता है। 
  • हमारे शरीर का आधा वजन पानी से बनता है ।
  • पानी का रासायनिक नाम H2O होता है ।
  • जल की तीन अवस्थाएं होती हैं।
  • जल का कोई भी रंग नहीं होता।
  • जल का क्वथनांक 100 डिग्री सेल्सियस होता है।
  • ऐसे भी कुछ पदार्थ होते हैं जो पानी में घुलनशील नहीं होते जैसे कि तेल और वसा। 
  • पृथ्वी पर हर एक जीव के लिए जल का बहुत ही बड़ा महत्व है।
  • पृथ्वी के जल का 78% महासागर में पाया जाता है।
  • 2.7% जल ही पीने के योग्य है।

जल के महत्त्व पर 10 लाइन नीचे दी गई है:

Importance of water in Hindi पर 10 अनमोल विचार नीचे दिए गए हैं- 

importance of water in hindi

  • “पानी पृथ्वी का खून है इसे यूं ही ना बहाएं”
  • “पानी नहीं अमृत है, इसको बचाना हमारा कर्तव्य है।
  • “जल ही जीवन का अमूल्य धन इसको बचाओ करो जतन।”
  • “जब आप बचाते हैं पानी, तब आप बचाते हैं जिंदगानी।”
  • “हर बच्चा, बुड्ढा और जवान पानी को बचाकर बने महान”
  • “बिन जल जीवन नहीं रहेगा, जल की अद्भुत महिमा तुम जानो”
  • “हर कोई इंसान पानी को बचाकर बने महान”
  • “जरुरत के अनुसार पानी का कीजिए उपयोग, जल बचाओ अभियान में आपका होगा सहयोग”
  • “जो पानी को बचाएगा समझदार तो कहलाएगा”
  • “जल तो है सोना, इसे कभी भी नहीं खोना!”

importance of water in hindi

मनुष्य जल को विभिन्न कार्यों में प्रयोग करता है। जैसे इमारतों, नहरों, घाटी, पुलों, जलघरों, जलकुंडों, नालियों एवं शक्ति घरों आदि के निर्माण में। जल का अन्य उपयोग खाना पकाने, सफाई करने, गर्म पदार्थ को ठंडा करने, वाष्प शक्ति, परिवहन, सिंचाई व मत्स्य पालन आदि कार्यों के लिये किया जाता है।

पानी तीन रूपों में होता है: 1. ठोस, बर्फ के रूप में, 2. तरल, पानी के रूप में, और गैस, जलवाष्प के रूप में।

शहरों में रहने वाले लोगों के लिए तो नल का पानी ही सबसे सुरक्षित और स्वस्थ विकल्प है।

पानी को साफ करने के लिए इसे पीतल, तांबे या मिट्टी के बर्तन में 100 डिग्री सेल्सियस पर उबालें और पीने लायक होने पर ही प्रयोग में लें। ध्यान रहे कि एक बार उबाले गए पानी को आप आठ घंटे के भीतर प्रयोग कर लें वर्ना इसमें वातावरण में मौजूद बैक्टीरिया की वजह से फिर से अशुद्धियां आ जाती हैं।

आशा करते हैं कि आप इस ब्लॉग के माध्यम से जल का महत्व (Importance of Water in Hindi) समझ गए हैं। यदि आप विदेश में पढ़ाई करना चाहते हैं, तो हमारे Leverage Edu एक्सपर्ट्स के साथ 30 मिनट का फ्री सेशन बुक करने के लिए 1800 57 2000 पर कॉल कर बुक करें।

' src=

Team Leverage Edu

प्रातिक्रिया दे जवाब रद्द करें

अगली बार जब मैं टिप्पणी करूँ, तो इस ब्राउज़र में मेरा नाम, ईमेल और वेबसाइट सहेजें।

Contact no. *

This is very helpful Thanks❤……!

हेलो अनुज आपका आभार, ऐसी ही और महत्वपूर्ण जानकारी के लिए हमारी वेबसाइट पर बनें रहें।

Essay बहुत अच्छा लिखा है। जल ही जीवन है। प्लीज मेरी पोस्ट के बारे में बताएं कैसी लिखी है

आपका बहुत-बहुत आभार।

This is really helpfull 😇

आपका धन्यवाद।

browse success stories

Leaving already?

8 Universities with higher ROI than IITs and IIMs

Grab this one-time opportunity to download this ebook

Connect With Us

45,000+ students realised their study abroad dream with us. take the first step today..

water saving essay in hindi

Resend OTP in

water saving essay in hindi

Need help with?

Study abroad.

UK, Canada, US & More

IELTS, GRE, GMAT & More

Scholarship, Loans & Forex

Country Preference

New Zealand

Which English test are you planning to take?

Which academic test are you planning to take.

Not Sure yet

When are you planning to take the exam?

Already booked my exam slot

Within 2 Months

Want to learn about the test

Which Degree do you wish to pursue?

When do you want to start studying abroad.

September 2024

January 2025

What is your budget to study abroad?

water saving essay in hindi

How would you describe this article ?

Please rate this article

We would like to hear more.

HindiKiDuniyacom

जल का महत्व पर निबंध (Importance of Water Essay in Hindi)

हमारे शरीर का संघटन सत्तर प्रतिशत जल से बना है। केवल हमारा शरीर ही नहीं, अपितु हमारी पृथ्वी भी दो-तिहाई जल से आच्छादित है। जल, वायु और भोजन हमारे जीवन रुपी इंजन के इंधन है। एक के भी न रहने पर जीवन संकट में पड़ सकता है। “जल ही जीवन है” यूं ही नहीं कहा जाता है।

जल के महत्व पर छोटे-बड़े निबंध (Short and Long Essay on Importance of Water in Hindi, Jal ka Mahatva par Nibandh Hindi mein)

निबंध 1 (250 – 300 शब्द) – पानी का महत्व.

जल से ही जीवन का आरम्भ हुआ। जल ही जीवन का आधार है। मानव शरीर का 70% भाग जल से निर्मित है। पीने के अलावा, कई उद्देश्यों के लिए दैनिक जीवन में जलका उपयोग किया जाता है। दुनिया में सभीजीवों लिएजल की आवश्यकता होती है।

जल का उपयोग

दुनिया के हर जीव को जीने के लिए जल की आवश्यकता होती है। छोटे कीड़े से लेकर ब्लू व्हेल तक, पृथ्वी पर हर जीवन पानी की उपस्थिति के कारण मौजूद है। पौधे को बढ़ने और ताजा रहने के लिए पानी की आवश्यकता होती है। छोटी मछली से लेकर व्हेलमछली तक को पानी की आवश्यकता होती है, क्योंकि उसी से उनका अस्तित्व रहता है।

जल की शुद्धता और गुणवत्ता

वर्तमान समय में जल की गुणवत्ता को लेकर लोग सजग हो रहे है।  लोग सरकार द्वारा प्रमाणित कंपनियों से ही पैक्ड वाटर खरीदते है।कई कंपनियां जल में मैग्नीशियम, मिनरल्स, आदि उपयोगी तत्वों को मिलाने का दावा करती है।सरकार के साथ ही साथ हमें भी जल की शुद्धता को लेकर सजग रहने की आवश्यकता है।

जल का संरक्षण

हमें जल को व्यर्थ नहीं करना चाहिए। अगर आवश्यकता न हो तो जल का प्रयोग न करे।  हम कई बार स्नान करने के लिए  जल का अतिरिक्त उपयोग करते है , कई बार हम नल का टैप खुला छोड़ देते है। अगर हम ऐसे ही जल का दुरुप्रयोग करते रहेंगे , तो एक दिन हम अपने अस्तित्व को ही खतरे में डाल देंगे।

जल से ही समस्त संसार का जीवन है।हमें अपने स्वार्थ के लिए जल का प्रयोग न करके , भविष्य के बारे में भी सोचना चाहिए। हमें पानी बचाने के लिए संरक्षण कार्यक्रम करने की आवश्यकता है।

निबंध 2 (300 शब्द) – जल का संघटन

पानी सबसे महत्वपूर्ण पदार्थों में से एक है जो पौधों और जानवरों के लिए आवश्यक हैं। हम पानी के बिना अपने दैनिक जीवन का नेतृत्व नहीं कर सकते। पानी हमारे शरीर के आधे से अधिक वजन को बनाता है। पानी के बिना, दुनिया के सभी जीव मर सकते हैं। पानी केवल पीने के लिए ही नहीं, बल्कि हमारे दैनिक जीवन के उद्देश्यों जैसे स्नान, खाना पकाने, सफाई और कपड़े धोने आदि के लिए भी आवश्यक है।

जल का संघटन

जल हाइड्रोजन के दो और ऑक्सीजन के एक परमाणु से मिल कर बनता है। इसका रासायनिक सूत्र H 2 O होता है। जल की तीन अवस्थाएं होती है- ठोस, द्रव और गैस। पृथ्वी के लगभग 70 प्रतिशत भाग पर जल विद्यमान है। परंतु इसका 97 प्रतिशत हिस्सा खारा है, जिसे किसी भी प्रयोग में नहीं लाया जा सकता। यह महासागरों, सागरों के रुप में वितरित है।

जल एक रासायनिक पदार्थ होता है। यह रंगहीन, गंधहीन होता है। इसका अपना कोई रंग नहीं होता, जिसमें घोला जाय, उसी का रंग ले लेता है।

जल का क्वथनांक (Boiling point) 100 0 C होता है। जल का पृष्ठ तनाव (Surface Tension) उच्च होता है, क्योंकि उनके अणुओं के बीच होने वाली अंतःक्रिया कमजोर होती है।

जल की प्रकृति ध्रुवीय होती है, इस कारण इसमें ऊंचा आसंजक गुण होता है।

जल बहुत अच्छा विलायक (Solvent) होता है, जो पदार्थ अच्छी तरह से पानी में घुल जाते हैं, उनको हाइड्रोफिलिक की संज्ञा दी जाती है। जैसे नमक, चीनी, अम्ल, क्षार आदि। कुछ पदार्थ पानी में घुलनशील नहीं होते, जैसे तेल और वसा।

हम पानी के बिना जीवन की कल्पना नहीं कर सकते। पीने और घरेलू उद्देश्यों के अलावा, पानी हमारी दुनिया के अस्तित्व के लिए महत्वपूर्ण है। हमारी अच्छाई और आने वाले भविष्य के लिए जल का संरक्षण महत्वपूर्ण है। हमें पानी बचाने के लिए पहल करने की जरूरत है चाहे कमी हो या न हो।

निबंध 3 (500 शब्द) – जल ही जीवन है

पृथ्वी पर मौजूद सभी जीवन रूपों के कामकाज के लिए पानी बुनियादी आवश्यकता है। यह कहना सुरक्षित है कि जीवन का समर्थन करने के लिए पानी पृथ्वी का एकमात्र ग्रह है। यह सार्वभौमिक जीवन तत्व इस ग्रह पर हमारे पास मौजूद प्रमुख संसाधनों में से एक है। पानी के बिना जीवन चलाना असंभव है। आखिरकार, यह पृथ्वी का लगभग 70% हिस्सा बनाता है।

Essay on Importance of Water in Hindi

‘जल ही जीवन है’

यदि हम अपने व्यक्तिगत जीवन के बारे में बात करते हैं, तो पानी हमारे अस्तित्व की नींव है। मानव शरीर को जीवित रहने के लिए पानी की आवश्यकता होती है। हम पूरे एक सप्ताह तक बिना किसी भोजन के जीवित रह सकते हैं, लेकिन पानी के बिना, हम 3 दिनों तक भी जीवित नहीं रह सकते हैं। इसके अलावा, हमारे शरीर में ही 70% पानी शामिल है। बदले में यह हमारे शरीर को सामान्य रूप से कार्य करने में मदद करता है।

इस प्रकार, पर्याप्त पानी की कमी या दूषित पानी की खपत मनुष्यों के लिए गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं पैदा कर सकती है। इसलिए, पानी की मात्रा और गुणवत्ता जो हम उपभोग करते हैं वह हमारे शारीरिक स्वास्थ्य और तंदरुस्ती के लिए आवश्यक है।

इसके अलावा, हमारी दैनिक गतिविधियाँ पानी के बिना अधूरी हैं। चाहे हम सुबह उठकर ब्रश करने ,नहाने या अपने भोजन को पकाने की बात करें, यह भी उतना ही महत्वपूर्ण है। पानी का यह घरेलू उपयोग हमें इस पारदर्शी रसायन पर बहुत निर्भर करता है।

इसके अलावा, बड़े पैमाने पर, उद्योग बहुत सारे पानी का उपभोग करते हैं। उन्हें अपनी प्रक्रिया के लगभग हर चरण के लिए पानी की आवश्यकता होती है। यह हमारे द्वारा प्रतिदिन उपयोग किए जाने वाले सामानों के उत्पादन के लिए भी आवश्यक है।

यदि हम मानव उपयोग से परे देखते हैं, तो हम महसूस करेंगे कि पानी हर जीवित प्राणी के जीवन में एक प्रमुख भूमिका निभाता है। यह जलीय जंतुओं का घर है। एक छोटे कीड़े से एक विशाल व्हेल तक, प्रत्येक जीव को जीवित रहने के लिए पानी की आवश्यकता होती है।

इसलिए, हम देखते हैं कि न केवल इंसानों को बल्कि पौधों और जानवरों को भी पानी की आवश्यकता होती है।

इसके अलावा, जलीय जानवरों का घर उनसे छीन लिया जाएगा। इसका मतलब है कि हमें देखने के लिए कोई मछलियां और व्हेल नहीं होंगी। सबसे महत्वपूर्ण बात, अगर हम अभी पानी का संरक्षण नहीं करेंगे तो जीवों के सभी रूप विलुप्त हो जाएंगे।

हालांकि, इसकी विशाल बहुतायत के बावजूद, पानी बहुत सीमित है। यह एक गैर-नवीकरणीय संसाधन है। इसके अलावा, हमें इस तथ्य को महसूस करने की जरुरत है कि पानी की बहुतायत है, लेकिन यह सभी उपभोग करने के लिए सुरक्षित नहीं है। हम दैनिक आधार पर पानी से बहुत कुछ कार्य करते हैं। संक्षेप में, पानी के अनावश्यक उपयोग को एक बार में रोक दिया जाना चाहिए। हर एक व्यक्ति को पानी के संरक्षण और संतुलन को बहाल करने के लिए काम करना चाहिए। यदि नहीं, तो हम सभी जानते हैं कि परिणाम क्या हो सकते हैं।

FAQs: Frequently Asked Questions on Importance of Water (जल का महत्व पर अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न)

उत्तर- सात दिनो तक

उत्तर- कंगारू

उत्तर- मात्र 3% पानी ही पीने योग्य है।

संबंधित पोस्ट

मेरी रुचि

मेरी रुचि पर निबंध (My Hobby Essay in Hindi)

धन

धन पर निबंध (Money Essay in Hindi)

समाचार पत्र

समाचार पत्र पर निबंध (Newspaper Essay in Hindi)

मेरा स्कूल

मेरा स्कूल पर निबंध (My School Essay in Hindi)

शिक्षा का महत्व

शिक्षा का महत्व पर निबंध (Importance of Education Essay in Hindi)

बाघ

बाघ पर निबंध (Tiger Essay in Hindi)

Leave a comment.

Your email address will not be published. Required fields are marked *

10 Lines on Save Water in Hindi | पानी बचाओ पर 10 लाइन निबंध

In this article, we are providing 10 Lines on Save Water in Hindi & English. In these few / some lines on Save Water, you get to know full information about Save Water in Hindi. हिंदी में पानी बचाओ पर 10 लाइनें, Short Save Water Essay in Hindi .

10 Lines on Save Water in Hindi | पानी बचाओ पर 10 लाइन निबंध

10 Lines on Save Water in Hindi

( Set-1 ) 10 Lines on Save the Water in Hindi for kids

1. जल हमरे जीवन मे बहुत ही महत्वपूर्ण है।

2. जल के बिना जीवन संभव नही है।

3. इसका प्रयोग हम अपने अनेक कार्यो के लिये करते है।

4. जल सभी जीवो, प्राणियों के जीवित रहने के लिये बहुत ही अनिवार्य है।

5. इस जल को दूषित और नष्ट होने से बचाने की प्रक्रिया को जल संरक्षण कहते है।

6. जल का 71% हिसा जल से ढका हुआ है।

7. हमे जल को संरक्षित करना चाहिए और दूषित होने से बचना चाहिए।

8. पृथ्वी पर पिने योग्य पानी बहुत कम मात्रा मे है।

9. खुले और बहते जल को को बंद करना चाहिए तथा पानी को नही दूषित करना चाहिए।

10. करखानो और कंपनी पर पानी को दूषित करने पर रोक लगानी चाहिए।

जरूर पढ़े-

Speech on Save Water in Hindi

Save Water Slogans in Hindi

( Set-2 ) 10 Lines on Save the Water in Hindi for students

5 Lines on Save Water in Hindi

1. पानी मनुष्य, पशु, पक्षी और वनस्पति की जरूरत है जिसके बिना वह जीवित नहीं रह सकते।

2. हमारी पृथ्वी का तून चौथाई हिस्सा पानी है लेकिन पीने योग्य स्वच्छ जल केवल 1 प्रतिशत है।

3. जल का प्रयोग जरूरत से ज्यादा मात्रा में विभिन्न क्रियकलापों के लिए किया जाता है।

4. यदि जल को निरंतर बर्बाद और दुषित किया जाता रहा तो पृथ्वी पर जीवन असंभव है।

5. हमें जल को सरंक्षित करना चाहिए और दुषित होने से रोकना चाहिए।

6. खुले बहते नलों को बंद करना चाहिए।

7. वर्षा के जल के सरंक्षित कर कपड़े धोने के लिए प्रयोग करना चाहिए।

8. कारखानों को जलाशयों के दूर लगाए ताकि जल दुषित न हो।

9. जल ही जीवन है और जीवित रहने के लिए इसे बचाना जरूरी है।

10. पानी में गंदगी को बहाकर पानी को दुषित नहीं करना चाहिए।

10 lines on Importance of Trees in Hindi

10 Lines on Save Trees in Hindi

Save Water 10 Lines in Hindi

10 lines on Save Water in Hindi

( Set-3 ) Save Water 10 Lines in Hindi

1 पानी के बिना मनुष्य का जीवन और पृथ्वी पर कोई भी प्राणी जीवित नहीं रह सकता है।

2 आपने देखा होगा कई सारे गांव ऐसे भी होते हैं,जहां काफी दूर से पानी लाना पड़ता है।

3 अगर आप जल को बचाना चाहते हैं,तो आपको नदियां झरने तालाब के पानी को बचाना होगा।

4 पानी हमारे लिए शरीर के लिए बहुत जरूरी है।जैसे कपड़े धोने के लिए, खाना पकाने के लिए, नहाने के लिए और मकान बनाने के लिए आदि।

5 पानी दो प्रकार का होता है। एक पानी खारा होता है और एक पानी मीठा होता है।

6 दिन प्रतिदिन पानी की कमी होती जा रही है। इसलिए हमें पानी का बचाव करना चाहिए। 7 पानी में हाइड्रोजन और ऑक्सीजन भी होते हैं।

8 जल ही जीवन है। इसलिए जीवित रहने के लिए पानी बचाना बहुत जरूरी है।

9 जब बारिश होती है, तो बारिश का पानी इकट्ठा करके हम उसे घर में यूज कर सकते हैं और इससे हम पानी बचा सकते हैं।

10 हमें बहते पानी के नल को बंद करना चाहिए जब वह फालतू में चल रहा है।

( Set-3 ) How to Save Water in Hindi in Points

1. पानी धरती पर मौजूद सबसे मह्त्वपूर्ण संसाधनों मे से एक है।

2. जल मनुष्य, पशु,पक्षी और वनस्पति सभी की जरूरत है, जिसके बिना वह जीवित नहीं रह सकते हैं।

3. पूरी दुनिया मे पानी का पूर्ण प्रतिशत 71 है जिसमें से सिर्फ 2 प्रतिशत् पीने लायक है।

4. पानी कि कमी और प्रदुषण का एक कारण शहरीकरण भी है।

5. भारत में सालाना लाखों लीटर पानी कि बर्बादी होती है।

6. अगर इसी तरह दुनिया मे पानी कि बर्बादी होती रही तो यह भविष्य मे एक बड़ा मुद्दा बन कर सामने आ सकता है।

7. पानी को बचाने के लिए सरकार द्वारा अभियान शुरू करने चाहिए।

8. पानी कि उपलब्धता के बिना इंसानों और अन्य जीवित प्रजातीयों का जीवन असंभव है।

9. हमें पानी बचाने के लिए अपनी तरफ से सारे उपाय करने चाहिए।

10. हम सभी को पानी का सिर्फ निमित्त और जरुरी उपयोग ही करना चाहिए।

Few Lines on Save Water in English

1. Water is needed for humans, animals, birds, and vegetation without which they can not survive.

2. The fourth part of our earth is water, but clean water is only 1 percent.

3. Water is used for an excessive amount of different activities.

4. If water continues to be wasted and spoiled then life on earth is impossible.

5. We should protect the water and prevent it from becoming contaminated.

6. The open-flowing tubes should be closed.

7. Rainwater should be protected and used for washing clothes.

8. Establish factories to remove the reservoirs so that water is not contaminated.

9. Water is life and it is necessary to save it to survive.

10. Water should not be polluted by watering dirt in the water.

# pani Bachao essay in Hindi # how to save water in Hindi # water saving in Hindi # save water lines in Hindi # 5 lines on Save Water in Hindi

इस article के माध्यम से हमने 10 lines on Save Water in Hindi Essay का वर्णन किया है और आप यह article को नीचे दिए गए विषयों पर भी इस्तेमाल कर सकते है।

Save the Water in Hindi 10 lines Save Water 10 lines nibandh Save Water ke bare mein

ध्यान दें – प्रिय दर्शकों 10 Lines on Save Water in Hindi (article) आपको अच्छा लगा तो जरूर शेयर करे ।

2 thoughts on “10 Lines on Save Water in Hindi | पानी बचाओ पर 10 लाइन निबंध”

' src=

I like the essay I can write this essay for my project

Leave a Comment Cancel Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

हिंदी कोना

save water essay in hindi। जल संरक्षण पर निबंध

essay on save water in hindi

जल जिसे हम पानी के रूप में प्राय सम्बोधित करते है प्रत्येक प्राणी के जीवन के लिए महत्वपूर्ण है। आज हम आपके लिए इस पोस्ट में save water essay in hindi ले कर आये है । जल संरक्षण निबंध को आप स्कूल और कॉलेज इस्तेमाल कर सकते है । इस हिंदी निबंध को आप essay on save water in hindi for class 1, 2, 3 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, 12 तक के लिए थोड़े से संशोधन के साथ प्रयोग कर सकते है।

पूरे सौर मंडल में धरती ही मात्र ऐसा ग्रह है जहां पर पानी पाया जाता है। अन्य किसी ग्रह में पानी नही पाया गया। पानी ही एक मात्र खास वजह है जिसके कारण धरती पर जीवन जिया जा सकता है। अन्य किसी ग्रह पर जीवन असंभव है। अन्य ग्रह किसी भी प्रकार से हमारा जीवन सुनिश्चित नही करते। वहां मनुष्य नही जी सकते। जीवन के सबसे बड़े आधार में जिसे हमेशा गिनते है वह जल है। हम सभी यह जानते है कि धरती के बिना जल नही है, और जल के बिना जीवन नही है। इसके बाद भी हम इस धरती से जल को विलुप्त करने की गतिविधियां बढ़ाते जा रहे है। हमारे जीवन का आधार जल है। जल कितना आवश्यक है यह हम सभी जानते हैं। आज की पीढ़ी में पानी की बचत एक बड़ा मुद्दा बन गया है। क्योंकि हम मनुष्य ने पानी को उसके विलुप्त होने की स्थिति में पहुचाने की ओर कदम बढ़ाया हुआ है। ना कि उसे बचाने की ओर। पानी की बचत हमारे जीवन मे कितनी जरूरी है शायद इस बात से आम जन वाकिफ नही है। वे यह जानते है कि पानी के बिना उनके कपड़े नही धोए जा सकते परंतु शायद वह कुछ मुख्य पहलुओं से आज तक अछूते है। जब हम पानी का इस्तेमाल करते है तब इस कदर पानी का उपयोग करते है जैसे अगले दिन हमे पानी का इस्तेमाल करना ही नही हो। 

प्रस्तावना- इस देश मे व इस दुनिया मे जो एक मुख्य मुद्दा है वह पानी की बचत का है। बड़े बड़े वैज्ञानिक व दूरदृष्टि रखने वाले या पर्यावरण की तरफ रुझान रखने वाले इस मुद्दे को गंभीर से भी गंभीर बताते है। इसके विपरीत हम आमजन का दैनिक जीवन चल रहा है। जिसे इस बात की कोई सूझ-बूझ नही है कि हमारे जीवन मे पानी का क्या महत्व है। वैज्ञानिकों की बात को नज़रंदाज़ करना मूर्खता का विषय है। या यूं कहें कि मूर्ख लोगो की पहचान है। देश मे व दुनिया मे इस समस्या के बारे में शायद कोई जानता ही नही। क्योंकि लोग अपने दैनिक जीवन मे इतने व्यस्त है कि वे अपने पर्यावरण की तरफ कभी ध्यान ही नही दे पाते। आपको अवश्य याद होगा कि जब रोज़ हमारे नालों में पानी आता हो और मात्र एक दिन या सर्फ कुछ घंटों तक ना आये तो हमे कितनी परेशानियां होती है। वह मात्र एक दिन हमारे लिए समस्याओं भरा दिन माना जाता है। और अगर आपको कोई अचानक से यह कह दे कि जनाब आपके घर मे आज से कभी भी पानी नही आएगा तब आप पर क्या गुज़रेगी? ठीक वैसा ही हाल होने से बचाने की आवश्यकता आज है। 

पानी का महत्व-  दुनिया का सबसे महत्वपूर्ण मुद्दा है पानी। जी हां, पानी का महत्व हम सभी जानते है। परंतु पानी को हम में से कोई भी महत्व नही देता। जिस प्रकार बोलने में और करने में फर्क होता है ठीक उसी प्रकार पानी के महत्व को जानने में और समझ कर उसे विलुप्त होने से बचाने में फर्क होता है। हम सभी पानी के महत्व को जानते है परंतु पानी को बचाते नही है। 

निजी जीवन- जल हमारे जीवन मे हर छोटे व बड़े कार्य मे काम आता हैं। सुबह के ब्रश के बाद चाय से रात के दूध व भोजन तक। पानी के बिना ना हम अपने आभूषण व कपड़ो को साफ कर सकते है। और ना ही हम अपने घरों की सफाई कर सकते है। इन सबके मध्य जो हर घण्टे में हमे पीने का पानी चाहिए होता है वह भी हमें शायद ना मिल पाए। पानी के बिना जीवन  की कल्पना करना भी मुश्किल हैं। हमारे बर्तनों को धोने में भी पानी की आवश्यकता होती है।हमारी गाड़ियों को धोने में भी रोज़ ना जाने कितने पानी का इस्तेमाल हो जाता है। यह कार्य सिर्फ और सिर्फ एक दो घरों के नही है। यह भारत देश के हर घर के है। एवं दुनिया के हर देश के है। दुनिया के हर घरों में रोज़ाना यह कार्य पानी से ही सम्पन्न होते है। 

 कारखानों में – आज हर कारखानों में जल इस्तेमाल किया जाता है। बहुत सारे आविष्कारों में पानी की आवश्यकता होती है। कारखानों के मैनेजमेंट में भी पानी अधिक मात्रा में काम मे लिया जाता है। ऐसे बड़े बड़े कारखाने देश व विदेश में है। जिसमे पानी की आवश्यकता होती है।   

बिजली – बिजली बनाने में महत्वपूर्ण योगदान पानी का होता है। पानी के बिना बिजली नही बनाई जा सकती। बड़ी मात्रा में पानी का इस्तेमाल किया जाता है। दुनिया में हर जगह बिजली के लिए पानी का इस्तेमाल होता है। 

खेती- पानी के बिना खेती सिर्फ और सिर्फ बारिश के मौसम में संभव है। लेकिन पानी के कारण  किसान को हर मौसम में खेती करने की सुविधा मिलती है। जिसका सीधा फायदा आमजन को होता है। इससे भूखमरी की समस्या पैदा नही होती। 

पानी प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप से हर जगह काम मे आता है। जल में बिना मनुष्य का जीवन संभव नही है, साथ ही जानवरो के जीवन की भी कल्पना करना नामुनकिन है। पानी के क्षेत्र सीमित नही है। यह हर जगह काम आता है। पानी के बिना जीवन के हर कार्य पर रोक लगना तय है। चाहे वह कुछ भी क्यों ना हो। 

पानी कम होने से उत्पन्न होने वाली समस्या- अगर जल कम रहा तो हम सभी के पास पानी का कोई दूसरा विकल्प नही है। हम ना भोजन कर सकते है, ना स्वच्छ जल को पी सकते है।किसान खेती भी नही कर सकते। खेती के रुक जाने से हमारे जीवन मे भोजन का नामोनिशान नही होगा। हमारे दैनिक जीवन के कार्य मे विघ्न आएगा। मनुष्य जीवन समाप्ति की और बढ़ जाएगा। इसके साथ ही छोटे से छोटे काम बंद हो जाएंगे। 

आज मनुष्य के पास स्वच्छ जल केवल 0.3% से 3% तक ही है। सिर्फ इतनी मात्रा में ही पेयजल उपलब्ध हैं तथा आपके सामने आती समस्या वह आपके लिए शून्य के समान है। 

हम अपनी ही गतिविधियों के कारण जल को विलुप्त होता देख रहे है। जिसमे से पेयजल की मात्रा अत्यधिक कम है। अगर इसी प्रकार चलता रहा तब हमारी आने वाली पीढ़ी को अत्यंत क्रूर वक़्त देखने को मिलेगा। उनके पास पीने का पानी तक नही होगा। इस प्रकार उनका जीवन समाप्त हो जाएगा। स्वच्छ पानी  की मात्रा अब काफी कम बची है। जो अवशोषित जल है उसे फ़िल्टर करने के बाद भी वह उतना शुद्ध नही होता।लोग अधिक से अधिक मात्रा के बीमार पड़ेंगे। पानी परस्पर सभी क्षेत्र से संबंधित है। जिसकी वजह से सृष्टि के हर जीव को परेशानियों का सामान करना पड़ेगा। और ऐसी अनगिनत समस्याओं का समाधान हमारे पास कुछ नही होगा।

हमारे आने वाली पीढ़ी को पानी के बिना जीना सीखाने की सौगात उनकी मृत्यु के समान होगी। 

जल बचाने के तरीके-   अब वक्त आगया है जब हमे इसपर कार्य करने की आवश्यकता है। 

हमे पानी का इस्तेमाल सूझ बूझ से करने की आवश्यकता है। जब हम सुबह ब्रश करते है तब 40 सेकंड के लिए नल ज़रूर खुला होता है। वह 40 सेकंड अगर लाखों करोड़ों घरों में नल बंद करने की आदत डाल दी जाए तो काफी पानी की बचत होगी। साथ ही नहाते वक्त कम से कम पानी का इस्तेमाल करे। गाड़ियों को कम पानी मे धोए।बेवजह नलो को खुला ना छोड़े। जहां जहां पाइप में लीकेज हो वहाँ वहां तुरंत उसे बंद कराए। ऐसे नाजाने कितनी जगह 24 घंटे पानी गिरता होगा। यह सब का सरकार और आमजन दोनो को मिलकर ध्यान रखने की जरूरत है। 

हमे जल प्रदूषण को भी कम करने की बेहद आवश्यकता है। जिससे हमारे घरों में गंदा व अवशोषित पानी ना आये। जिससे हम बीमार ना पड़े। पानी को कम इस्तेमाल करके ज़्यादा ना फेंक कर व कम प्रदूषण करके काफी पानी की खपत हो सकती है। हमें बचपन से ही किताबों में जल को बचाने की सीख दी जाती है। परंतु बड़े होते होते हम हमारे पर्यावरण को ही भूल जाते है। 

जब हम पानी की खपत करेंगे ,जब हम पानी को बचाएंगे तब ही हमारी आने वाली पीढ़ी पानी को बचाना सीखेगी।

उपसंहार-  जिस प्रकार से हम धन को अपने बुरे वक्त के लिए बचाते है ठीक उसी प्रकार हमे हमारी आने वाली पीढ़ी के लिए जल बचाना है। पर्यावरण का पूर्ण ध्यान रखना है। और यह मान कर चलना है कि पर्यावरण सभी का है इसे किसी  को भी दूषित करने का अधिकार नही है। 

आज ऐसे हज़ारों घर है जहां पानी की गंभीर समस्या है। अगर हम जल को बचा कर उन लोगो को पानी मुहैया करवा पाए तो इससे बड़ा परोपकार हमारी धरती के लिए कुछ नही होगा 

जल को बचाये, 

ना की उसे विलुप्त होने का मार्ग दिखाए, 

एक होकर जब हम सब कुछ भी कर सकते है,

तो क्यो न देश को अब जलमग्न बनाये..!

हमें आशा है आपको save water in hindi निबंध पसंद आया होगा। आप इस निबंध को save water save life essay in hindi के रूप में भी प्रयोग कर सकते है। इस निबंध को save water essay in hindi language के लिए भी प्रयोग कर सकते है ।

जल पर निबंध 10 Lines (Essay On Water in Hindi) 100, 150, 200, 250, 300, 500, शब्दों मे

water saving essay in hindi

जल निबंध पर (Essay On Water in Hindi) – पानी, पृथ्वी पर जीवित प्राणियों के अस्तित्व का कारण, ग्रह का 70% से अधिक हिस्सा है। जल वह जादुई तरल है, जो जानवरों, पौधों, पेड़ों, जीवाणुओं और विषाणुओं को जीवन प्रदान करता है। जल ही वह कारण है जिसके कारण पृथ्वी जीवन का समर्थन कर सकती है और अन्य ग्रह नहीं कर सकते।

मानव शरीर का 60% तक पानी से बना है। जबकि ग्रह पर पानी की बहुतायत है, मनुष्य और जानवरों द्वारा हर चीज का सेवन नहीं किया जा सकता है। यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि पृथ्वी पर केवल 3% पानी ही मीठा पानी है, जो पोर्टेबल और उपभोग करने के लिए सुरक्षित है।

जल निबंध पर 10 पंक्तियाँ (10 Lines on Water Essay in Hindi)

  • जल ही वह कारण है जिसके कारण जीवन अस्तित्व में है और पृथ्वी पर फलता-फूलता है
  • पृथ्वी की सतह का 70% हिस्सा पानी से बना है जिसमें से केवल 3% मीठा पानी मानव उपभोग के लिए है
  • पानी ग्रह पर जीवन के सभी रूपों का समर्थन करता है
  • मनुष्य पानी का उपयोग पीने, नहाने, कपड़े धोने, कृषि, उद्योगों और कारखानों में करता है
  • मानव शरीर का 60% से अधिक भाग पानी से बना है
  • जानवर पीने और नहाने के लिए पानी का उपयोग करते हैं
  • पौधे, पेड़ और अन्य विभिन्न जीव अपनी वृद्धि और अस्तित्व के लिए पानी का उपयोग करते हैं
  • यह भविष्यवाणी की जाती है कि अगला विश्व युद्ध पानी के लिए लड़ा जाएगा यदि मनुष्य ने इसका विवेकपूर्ण उपयोग करना नहीं सीखा
  • मनुष्य को जिम्मेदारी से पानी का उपयोग करना सीखना होगा क्योंकि यह एक गैर-नवीकरणीय संसाधन है
  • सभी देशों की सरकारों को मिलकर नीतियां और कानून बनाने चाहिए जो लोगों को अनावश्यक रूप से पानी बर्बाद करने से रोकें

जल पर निबंध 100 शब्द (Essay on Water 100 words in Hindi)

पानी पृथ्वी पर हर जीवन रूप की मूलभूत आवश्यकता है। यह पानी ही है जो हमें इस ग्रह पर आरामदायक जीवन जीने में मदद करता है। हमारा शरीर 70% पानी से बना है, इसलिए पानी हमारे लिए इतना महत्वपूर्ण यौगिक है। जल का उपयोग हम अनेक कार्यों में करते हैं। हमें पीने, खाना पकाने, नहाने और साफ-सफाई के लिए पानी की जरूरत होती है। जल के बिना, ग्रह पर जीवन असंभव होगा। जल पृथ्वी पर नदियों, महासागरों, समुद्रों, तालाबों, झीलों, नदियों और हिमनदों के रूप में पाया जाता है। जल की संरचना पूरी पृथ्वी पर एक समान रहती है।

इनके बारे मे भी जाने

  • Noise Pollution Essay
  • Nature Essay
  • India Of My Dreams Essay
  • Gender Equality Essay
  • Bhagat Singh Essay
  • Essay On Shivratri

जल पर निबंध 150 शब्द (Essay on Water 150 words in Hindi)

जल निबंध पर (Essay On Water in Hindi) – पानी सभी जीवित रूपों के लिए सबसे महत्वपूर्ण तरल है। यह न केवल हमारी जीवन प्रक्रियाओं के लिए आवश्यक है बल्कि हमारे ग्रह के कामकाज के लिए भी आवश्यक है। पृथ्वी पर जल तीन अवस्थाओं में उपलब्ध है- ठोस, द्रव और गैसीय। सॉलिड-स्टेट में ग्लेशियर, स्नो कैप, आइस शीट और पोलर आइस रिजर्व शामिल हैं। तरल अवस्था में नदियाँ, समुद्र, झीलें, तालाब, नदियाँ, महासागर और गीज़र शामिल हैं। 

गैसीय अवस्था में वायुमंडल में पाए जाने वाले जलवाष्प शामिल हैं। जल चाहे किसी भी अवस्था में क्यों न हो, जल का संघटन सदैव एक समान रहता है। यह एक शक्तिशाली यौगिक है जो पृथ्वी पर मौजूद सभी जीवन का पोषण करता है। पौधों को प्रकाश संश्लेषण और श्वसन के लिए पानी की आवश्यकता होती है। मनुष्यों को परिसंचरण, पाचन, श्वसन और उत्सर्जन जैसी कई अलग-अलग जीवन प्रक्रियाओं के लिए पानी की आवश्यकता होती है, पानी के बिना पृथ्वी पर जीवन असंभव होगा। चूँकि यह इतना महत्वपूर्ण यौगिक है, हमें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि हम इसे संरक्षित करें ताकि यह जल्द समाप्त न हो।

जल पर निबंध 200 शब्द (Essay on Water 200 words in Hindi)

पानी किसी के जीवन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह न केवल हमारे अपने अस्तित्व के लिए बल्कि हमारे ग्रह के समुचित कार्य के लिए भी आवश्यक है। सभी फलों और सब्जियों में प्रचुर मात्रा में पानी होता है। स्वस्थ रहने के लिए भरपूर मात्रा में पानी की जरूरत होती है, यानी लगभग 3-4 लीटर पानी प्रतिदिन। मानव शरीर को पानी की आवश्यकता होती है, और इसकी कमी से बड़ी स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं। अपर्याप्त पानी की खपत के कारण गुर्दे की पथरी एक गंभीर स्वास्थ्य समस्या है। पानी में चंगा करने की क्षमता है और जीवन के अस्तित्व के लिए जरूरी है। हमारा ग्रह ही एकमात्र ऐसी जगह है जहां जीवन की कल्पना की जा सकती है क्योंकि पानी और जीवन के लिए अन्य सभी आवश्यक तत्व मौजूद हैं। मंगल, बुध और शुक्र जैसे ग्रह निर्जन हैं। पानी न होने के कारण वे एक उजाड़ रेगिस्तान के समान हैं। जल जीवन के लिए आवश्यक है, और यह पर्यावरण को स्वच्छ रखने में भी मदद करता है।

जल पर निबंध 250 शब्द (Essay on Water 250 words in Hindi)

जल निबंध पर (Essay On Water in Hindi) – पानी एक अनमोल संसाधन है। पानी की कमी मध्य पूर्व और यहां तक ​​कि भारत के कुछ हिस्सों में सबसे गंभीर मुद्दों में से एक है। पीने के पानी की किल्लत है। जल प्रदूषण ने पृथ्वी की सतह पर सुलभ पीने के पानी की मात्रा को कम कर दिया है, साथ ही पानी की गुणवत्ता को भी नुकसान पहुँचाया है। यह न केवल इंसानों बल्कि जानवरों, पक्षियों और पौधों को भी प्रभावित करता है।

जल की प्रासंगिकता को वर्तमान जल संकट के संदर्भ में देखा जा सकता है। सूखा उन दुर्भाग्यपूर्ण स्थितियों में से एक है जो किसी स्थान पर हो सकती है। क्षेत्र की आर्थिक और वित्तीय स्थिति बुरी तरह प्रभावित होगी। दूसरी ओर, अत्यधिक बारिश लोगों, जानवरों और यहां तक ​​कि किसानों और निर्माताओं के लिए भी चिंता का विषय है। जल को वरदान माना जाता है, लेकिन यह अभिशाप भी हो सकता है।

इसलिए जल के महत्व को समझना जरूरी है। बढ़ती ग्लोबल वार्मिंग, जनसंख्या और वनों की कटाई के साथ, ताजा पानी प्रदूषित हो रहा है, और हमारे लिए उपलब्ध मात्रा कम हो रही है। अधिक जनसंख्या के कारण पानी का दुरूपयोग हो रहा है। पानी कई रूपों में दुनिया के प्राकृतिक सौंदर्य को दर्शाता है। पानी प्रकृति की सुंदरता को भी बिखेरता है।

जल पर निबंध 300 शब्द (Essay on Water 300 words in Hindi)

जल जीवन की सबसे मूलभूत आवश्यकताओं में से एक है और इसके बिना जीवित रहना असंभव है। पृथ्वी पर मौजूद प्रत्येक जीव को अपने शरीर के समुचित कार्य के लिए पानी की आवश्यकता होती है। यह न केवल हमें जीवित रहने में मदद करता है बल्कि हमारे दिन-प्रतिदिन की गतिविधियों में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। पृथ्वी स्वयं 70% जल से बनी है, तथापि, सारा जल उपभोग के लिए सुरक्षित नहीं है। इसलिए, हमें इसके महत्व को समझने और इसका बुद्धिमानी से उपयोग करने की आवश्यकता है। जैसा कि हम दुनिया के विभिन्न हिस्सों में पानी की कमी को देख सकते हैं, इसलिए समय आ गया है कि हम पानी का संरक्षण करना शुरू कर दें।

पानी के कई उपयोग हैं और यह कृषि में बड़े पैमाने पर उपयोग किया जाता है क्योंकि यह भारत का मुख्य व्यवसाय है। सिंचाई और मवेशियों को पालने की प्रक्रिया में बड़ी मात्रा में पानी की आवश्यकता होती है। इसलिए, किसान पानी का अधिक उपयोग करते हैं और काफी हद तक इस पर निर्भर रहते हैं।

दूसरी ओर, उद्योगों को विभिन्न उद्देश्यों जैसे कुछ वस्तुओं को संसाधित करने, ठंडा करने और निर्माण के लिए पानी की आवश्यकता होती है। इसके अलावा, थर्मल पावर प्लांट बड़े पैमाने पर पानी का उपयोग करते हैं। इन सबके अतिरिक्त जल का उपयोग घरेलू कार्यों जैसे पीने, कपड़े धोने, साफ-सफाई, बागवानी आदि में भी किया जाता है। इस प्रकार हमें जीवन के कुछ मूलभूत कार्यों को चलाने के लिए जल की आवश्यकता होती है।

पौधों और जानवरों को जीवित रहने के लिए पानी की आवश्यकता होती है। पानी जीवन का एक अनिवार्य घटक है जो किसी को जीवित रहने और ठीक से काम करने में मदद करता है। हालाँकि, लोग पानी की कमी से अनभिज्ञ हैं और इस प्रकार इसके परिणामों के बारे में सोचे बिना इस प्राकृतिक संसाधन का दोहन करते रहते हैं।

इसलिए सरकार के साथ एकजुट होने और हमारी आने वाली पीढ़ियों के लिए पानी के संरक्षण के लिए उपचारात्मक उपाय करने और बहुत देर होने से पहले इसका बुद्धिमानी से उपयोग करने के लिए एक घंटे की आवश्यकता है। पानी बचाने के लिए सरकार द्वारा प्रदान किए गए दिशा-निर्देशों का पालन करना चाहिए और जिनमें से एक वर्षा जल संचयन है- पानी बचाने और विभिन्न उद्देश्यों के लिए इसका उपयोग करने का एक शानदार तरीका।

जल पर निबंध 500 शब्द (Essay on Water 500 words in Hindi)

जल (रासायनिक सूत्र H2O) एक पारदर्शी रासायनिक पदार्थ है। यह हर जीवित प्राणी के लिए मूलभूत आवश्यकताओं में से एक है चाहे वह पौधे हों या जानवर। जिस प्रकार पृथ्वी पर जीवन के समुचित विकास और विकास के लिए हवा, सूर्य का प्रकाश और भोजन, पानी की आवश्यकता होती है। हमारी प्यास बुझाने के अलावा, पानी का उपयोग कई अन्य गतिविधियों जैसे सफाई, कपड़े धोने और खाना पकाने के लिए किया जाता है।

पानी मुख्य रूप से अपने पांच गुणों के लिए जाना जाता है। यहाँ इन संपत्तियों के बारे में संक्षिप्त जानकारी दी गई है:

  • सामंजस्य और आसंजन

संसंजन, जिसे अन्य जल अणुओं के लिए जल के आकर्षण के रूप में भी जाना जाता है, जल के मुख्य गुणों में से एक है। यह पानी की ध्रुवता है जिसके कारण यह पानी के अन्य अणुओं की ओर आकर्षित होता है। पानी में मौजूद हाइड्रोजन बांड पानी के अणुओं को एक साथ बांधे रखते हैं।

आसंजन मूल रूप से विभिन्न पदार्थों के अणुओं के बीच पानी का आकर्षण है। यह पदार्थ किसी भी अणु के साथ बंध जाता है जिसके साथ यह हाइड्रोजन बांड बना सकता है।

  • बर्फ का कम घनत्व

पानी के हाइड्रोजन बंध ठंडे होने पर बर्फ में बदल जाते हैं। हाइड्रोजन बांड स्थिर होते हैं और अपने क्रिस्टल जैसे आकार को बनाए रखते हैं। पानी का ठोस रूप जो बर्फ है तुलनात्मक रूप से कम घना होता है क्योंकि इसके हाइड्रोजन बांड बाहर की ओर होते हैं।

  • पानी की उच्च ध्रुवीयता

पानी में उच्च स्तर की ध्रुवीयता होती है। यह एक ध्रुवीय अणु के रूप में जाना जाता है। यह अन्य ध्रुवीय अणुओं और आयनों की ओर आकर्षित होता है। यह हाइड्रोजन बंध बना सकता है और इस प्रकार एक शक्तिशाली विलायक है।

  • जल की उच्च विशिष्ट ऊष्मा

पानी अपनी उच्च विशिष्ट ऊष्मा के कारण तापमान को मध्यम कर सकता है। जब गर्म होने की बात आती है तो इसमें काफी समय लगता है। गर्मी लागू नहीं होने पर यह लंबे समय तक अपना तापमान बनाए रखता है।

  • पानी की वाष्पीकरण की उच्च ऊष्मा

यह पानी का एक और गुण है जो इसे तापमान को सामान्य करने की क्षमता प्रदान करता है। जैसे ही पानी एक सतह से वाष्पित होता है, यह उसी पर शीतलन प्रभाव छोड़ता है।

पानी की बर्बादी से बचें

हमारे दैनिक जीवन में जिन गतिविधियों में हम शामिल होते हैं उनमें से अधिकांश के लिए पानी की आवश्यकता होती है। हमें इसका संरक्षण करना आवश्यक है अन्यथा आने वाले वर्षों में हमारा ग्रह ताजे पानी से रहित हो जाएगा। यहाँ कुछ तरीके दिए गए हैं जिनसे पानी को संरक्षित किया जा सकता है:

  • पानी की बर्बादी रोकने के लिए टपकते नलों को तुरंत ठीक करें।
  • नहाते समय शावर के प्रयोग से बचें।
  • अपने दांतों को ब्रश करते समय अपना नल बंद रखें। जरूरत पड़ने पर ही इसे चालू करें।
  • आधे कपड़े धोने के बजाय पूरे कपड़े धोएं। इससे न केवल पानी की बचत होगी बल्कि बिजली की भी काफी बचत होगी।
  • बर्तन धोते समय पानी को बहता हुआ न छोड़ें।
  • वर्षा जल संचयन प्रणाली का प्रयोग करें।
  • गटर की सफाई के लिए पानी की नली का उपयोग करने से बचें। आप इसके बजाय झाडू या अन्य तकनीकों का उपयोग कर सकते हैं।
  • खाना बनाते और खाते समय सही आकार के बर्तनों और अन्य बर्तनों का उपयोग करें। अपनी आवश्यकता से बड़े का उपयोग करने से बचें।
  • स्प्रिंकलर के बजाय अपने पौधों को हाथ से पानी देने की कोशिश करें।
  • तालों को ढक दें ताकि वाष्पीकरण के कारण पानी की कमी से बचा जा सके।

हमें पानी को बर्बाद नहीं करना चाहिए और इसके संरक्षण में अपना योगदान देना चाहिए। हमें उन गतिविधियों और योजनाओं का अभ्यास और प्रचार करना चाहिए जो जीवित प्राणियों की वर्तमान और भविष्य की मांगों को पूरा करने के लिए जल संरक्षण और इसके स्रोतों की रक्षा करने में मदद करती हैं।

जल पर निबंध पर अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQs)

पृथ्वी की सतह का कितना भाग जल से बना है .

पृथ्वी की सतह का 70% से अधिक भाग पानी से बना है जिसमें से केवल 3% पीने योग्य मीठा पानी है

क्या पानी बनाया जा सकता है?

अभी तक, यह संभव नहीं है, लेकिन उचित रासायनिक उपचार के बाद पानी को रिसाइकल और पुन: उपयोग किया जा सकता है

जल के स्रोत क्या हैं?

नदियाँ, झीलें, ग्लेशियर और भूजल तालिका पृथ्वी पर पानी के कुछ स्रोत हैं

विश्व का सबसे बड़ा जल निकाय कौन सा है?

प्रशांत महासागर विश्व का सबसे बड़ा जल निकाय है। साथ ही, नील नदी दुनिया में ताजे पानी का सबसे बड़ा स्रोत है।

My internship at Bridgewater Associates felt like a 'Black Mirror' episode

Under Ray Dalio, everything was recorded and we constantly rated each other. I loved it.

water saving essay in hindi

This as-told-to essay is based on a conversation with Daria Rose, a 27-year-old lawyer and creator who interned at Ray Dalio's hedge fund, Bridgewater Associates, in 2017 and 2018. Her employment has been verified and the following has been edited for length and clarity.

​​The first time I ever watched the " Black Mirror" episode "Nosedive" — about a world in which people constantly rate one another — I thought, wait, I've worked for a place like this before .

The summer after my sophomore and junior years at Harvard University, I interned at Bridgewater Associates, the world's largest hedge fund. Its intense culture is not for everybody . Founder Ray Dalio once said around 30% of employees quit within the first 18 months .

And while I definitely see parallels between my time at Bridgewater and that "Black Mirror" episode, I look back fondly on my time there . If I hadn't gone to law school, I 100% would've returned to work there full-time.

I was drawn to Bridgewater's tenet of meaningful work

In my sophomore year, I heard about Bridgewater from another student in a social club I was in at Harvard . She'd been recruited as an investment associate and was looking for other people interested in working there.

I did some research and was drawn to the fact that one of Bridgewater's main tenets is about meaningful work and meaningful relationships . She told me about a management associate position and helped forward my résumé.

After applying, I had to take a Myers-Briggs Personality Type test and several other screening tests . Next, we had a full-day interview at the Bridgewater campus in Westport, Connecticut.

Authenticity is a big thing at Bridgewater, so I went into the interview wanting to be completely myself.

I was first put in a room with other applicants for a moderated debate-style interview. The rest of the day was spent in multiple rounds of interviews with managers. Some were case studies — kind of similar to consulting — and others involved deep intensive questions about who I was as a person. How did you grow up? Are you an only child? How do you think this affected you? How do you think this impacts your working style on a team? What wakes you up in the morning? How do you deal with criticism?

The interviewers I had were incredibly empathetic, and our conversation felt real and vulnerable.

About a week or two later, I got a call that I got the job. When I saw my offer package — I was like, whoa, this is a lot of money — and the great perks like housing, transportation, and a signing bonus, it was really a no-brainer. I thought, I'm 100% working there.

The internship was incredibly fun

Most of the interns lived together in dorms for the summer, which was really cool and special. To help us bond, we did fun activities like group dinners, our own version of Tough Mudder , and a scavenger hunt.

Every day, we would arrive at the campus by around 8 a.m. and leave around 7 p.m. I was a management associate intern in the office of the CEO, and we did basically any special project the CEO needed. I worked on a lot of diversity initiatives , figuring out how to make Bridgewater more streamlined and accessible to employees.

Related stories

At the time, Dalio's book " Principles: Life and Work " wasn't out yet, so one of our tasks was to read the manuscript and give feedback on it.

Ranking each other was a big part of Bridgewater's culture

We ranked people daily using numbered " dots ," a real-time check-in of how everyone was doing.

In each meeting, we'd each have an iPad in front of us, showing a list of everyone else present. Throughout the meeting, we'd give people dots for things like humility, composure, willingness to touch a nerve, openmindedness, and assertiveness. By the end of the meeting, our whole screen would just be filled with dots — some red, some green. It could get distracting sometimes — like, who gave me a three? — but we'd try to ignore it and stay in the moment.

Because we were constantly being evaluated on what we said, people were way more conscious when speaking. Instead of talking just to talk, people tried to make their points succinct and easily understandable, or they'd get a negative dot.

This criticism wasn't just limited to peers or supervisees. We were also encouraged to give dots to our bosses, managers, and even CEOs.

Dot outcomes went onto our " baseball cards ," which had information about each employee's role and their strengths and weaknesses, to create a more vivid picture of what each of us was like.

Everything was recorded

Radical truth and radical transparency were very important at Bridgewater. Everything was recorded. If I wanted to go back and see why I got a certain dot, I could go back to the recording and listen to what I'd said. I could even look up my friends' dots and see how they were doing each day, even if I wasn't in the meeting.

One time, my friend threw her water bottle in the trash rather than recycling it. I don't know who saw her, but someone gave her a negative dot. It made me realize, wow, people really do care on a microscopic level and they're paying attention to you .

Pain + reflection = progress

Getting so much constant feedback was difficult at first. At times I was like, oh, that's harsh . It's never great to hear that you didn't do something right or that someone didn't like something you said. We had a button on our iPads that we could press whenever we felt pain, and then we'd write a reflection about the situation. The idea was that pain plus reflection equals progress .

Depending on the severity of the pain or what had happened, sometimes we'd have a diagnostic session to get to the root of the problem, such as if someone's ego got in the way of them asking for help. These sessions could sometimes be uncomfortable, but ultimately were really helpful and led to growth and better day-to-day operations.

I was really good at receiving constructive feedback and was always really high on the humility scale. I like to improve and have a growth mindset rather than taking things personally. On the days when I felt a little bit more sensitive or more emotional, I didn't want to hear the more critical feedback. But when I was able to look back at it from a less emotional standpoint, I was like, oh, okay, they had a point here .

Dalio wanted us to try to take our egos out of our work as much as possible and really look toward a higher self. From time to time, we'd have to do something called "force rankings," where we ranked our team members based on who was the most and least helpful. It never felt good to be at the bottom of that scale, which happened to me multiple times.

A lot of smart people who go to elite schools are used to being the best at everything and being on top all of the time, but that's not realistic. There are going to be days where you're super on it, and then there are days that you might not be.

At Bridgewater, there was no hiding that fact.

Gossip was not allowed

It was a no-gossip environment. We weren't allowed to talk about other people behind their backs — a huge principle was that you speak up, say it to the other person's face, dot them, and be transparent.

If you were talking about someone in the context of work, you'd have to send that tape to them afterward . When I got my full-time offer to join Bridgewater, my manager sent me the tape of them deliberating and I got to hear what they genuinely thought about me while I wasn't in the room.

I think that's really valuable, especially these days when some corporate environments involve fakeness and niceties to your face and people aren't upfront about what they actually think about you and your work.

At Bridgewater, there was none of that. It sounds counterintuitive, but the constant recordings did encourage us to be more open and put everything on the table — there's no incentive not to.

I really appreciated the candidness. Now working in law, we have so much going on sometimes that we don't necessarily get direct feedback all the time. As with most companies, feedback usually happens during an annual or semi-annual review, and sometimes by that time, it's become a bigger problem.

With the dot system at Bridgewater, if there was an issue, we'd know that day, and it'd be diagnosed that week. I miss that part about it.

The best ideas won

We were really encouraged to push back on supervisors and superiors, because one of the tenets was that we were an idea meritocracy and the best idea will rise to the top, not based on the seniority of the person who put it forth.

Because debating and disagreeing with each other was encouraged, I learned so much from my colleagues. I had my viewpoints challenged and I challenged theirs. I can't imagine another workplace like that that allows for that type of growth and honest feedback.

My experience made me who I am today

I think Bridgewater's culture might be a little bit different now, especially because Ray Dalio isn't there anymore . But I can't emphasize enough how transformative and eye-opening my experience was. It helped shape who I am today, especially how I think about feedback, work, and the relationships I have at work.

I've never worked with a more brilliant group of unique people. There were poker stars, musicians, and people who wrote comedy. We all did so many different things but were united under this Bridgewater umbrella and really brought our full selves to work and gave it our all.

The experience prepared me for life, even more than just for a corporate career. It helped me grow a thicker skin; not a lot fazes me now.

A few years after working at Bridgewater, I was on "The Bachelor." People scrutinized me and said so many mean, horrible things.

My Bridgewater experience prepared me to understand that everyone will have judgments or perceptions about you, but you don't have to take them all in. We'd always say, "It's just one dot."

One dot doesn't make up the whole picture. You're going to get thousands and thousands of dots; take that criticism for what it is.

A representative for Bridgewater Associates declined to comment.

If you experienced a uniquely demanding workplace culture and would like to share your story, email Jane Zhang at [email protected] .

water saving essay in hindi

More from Finance

Most popular

water saving essay in hindi

  • Main content

IMAGES

  1. 15 Lines Easy Essay on Save Water in Hindi || जल संरक्षण पर निबंध

    water saving essay in hindi

  2. जल संरक्षण पर निबंध

    water saving essay in hindi

  3. Save Water Essay in Hindi जल संरक्षण पर निबंध

    water saving essay in hindi

  4. जल संरक्षण पर निबंध l Essay On Save Water In Hindi l Essay On Importance Of Water l Essay On Water l

    water saving essay in hindi

  5. save water essay in hindi। जल संरक्षण पर निबंध

    water saving essay in hindi

  6. Essay On Water Conservation In Hindi Pdf

    water saving essay in hindi

VIDEO

  1. IMPORTANCE OF SAVING WATER 🌟 #shorts #importanceofsavingwater #10linesessay

  2. 10 Uses Of Water

  3. Essay about "Importance of Water" #goviral #subscribe #essay @Study17815

  4. essay on save water 💦 easy for learn for exams

  5. पानी बचाने के 14 असरदार तरीके

  6. जल संरक्षण पर हिंदी में निबंध लिखिए

COMMENTS

  1. जल संरक्षण पर निबंध (Save Water Essay in Hindi)

    जल संरक्षण पर निबंध (Save Water Essay in Hindi) यहाँ हमने छोटे व बड़े बच्चों के लिए जल संरक्षण अथवा पानी बचाओ, जल बचाओ पर बहुत ही आसान भाषा में जानकारी ...

  2. जल संरक्षण पर निबंध (Save Water Essay in Hindi)

    जल संरक्षण पर निबंध (Save Water Essay in Hindi) - विश्व में बढ़ती जनसंख्या तथा प्रदूषण के कारण होने वाली जल की कमी एक बेहद ही गंभीर समस्या है। इस समस्या के समाधान के लिए ...

  3. Save Water Essay in Hindi

    Save water Essay in Hindi 300 words. धरती पर समस्त जीवन चक्र को बनाए रखने के लिए हवा, पानी और भोजन जरूरी है, किसी एक की कमी के बिना कोई भी जीवित नहीं रह सकता ...

  4. जल संरक्षण पर निबंध Essay on Conservation of Water in Hindi

    जल संरक्षण पर 10 लाइन 10 lines on Conservation of Water in Hindi. स्वच्छ और पेयजल का व्यर्थ बहाव न करते हुए उसको सुनिश्चित तरीके से उपयोग मे लाकर जल के बचाव की ओर ...

  5. जल बचाओ पृथ्वी बचाओ पर निबंध (Save Water Save Earth Essay in Hindi)

    जल बचाओ पृथ्वी बचाओ पर निबंध (Save Water Save Earth Essay in Hindi) By अर्चना सिंह / August 20, 2018. जल मानवता के सबसे महत्वपूर्ण प्राकृतिक संसाधनो में से एक है। ऐसा ...

  6. जल संरक्षण पर निबंध Save Water Essay In Hindi

    जल चेतना हमारा दायित्व- Save Water Save Life Essay. हमारी प्राचीन संस्कृति में जल वर्षण उचित समय पर चाहने के लिए वर्षा के देवता इंद्र और जल देवता वरुण का पूजन किया जाता था.

  7. Water Conservation Essay in Hindi: जल ...

    जल संरक्षण पर 200 शब्दों में निबंध. Water Conservation Essay in Hindi 200 शब्दों में नीचे दिया गया है: पानी पृथ्वी के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है, लेकिन यह सभी के ...

  8. जल संरक्षण पर निबंध (Save Water Essay In Hindi)

    Join Telegram Channel . जल संरक्षण पर निबंध (Water Conservation Essay In Hindi) इस पोस्ट में हमने जल संरक्षण पर निबंध (Save Water Essay In Hindi) एकदम सरल, सहज और स्पष्ट भाषा में लिखने का प्रयास किया है। जल ...

  9. पानी बचाओ पर निबंध

    यहाँ पर Essay on Save Water in Hindi शेयर किया है। आपकी मदद के लिए 250, 500, 800 और 1400 शब्दों में में उपलब्ध किया है. जिससे आपको आसानी रहे।

  10. जल संरक्षण पर निबंध

    जल संरक्षण पर निबंध | Save Water Hindi Essay. 10 min read. जल ही जीवन है।. यह सत्य हमेशा से हमें सिखाया गया है, परंतु आज के समय में यह सत्य अधिक महत्वपूर्ण हो ...

  11. जल बचाओ जीवन बचाओ पर निबंध (Save Water Save Life Essay in Hindi)

    जल बचाओ जीवन बचाओ पर छोटे तथा बड़े निबंध (Long and Short Essay on Save Water Save Life in Hindi, Jal Bachao Jivan Bachao par Nibandh Hindi mein) आप अपनी आवश्यकता अनुसार जल बचाओ जीवन बचाओ विषय पर ...

  12. जल संरक्षण पर निबंध Essay on Save Water in Hindi

    Save Water Essay - Water Conservation in Hindi (800 words) पानी मानवता के लिए प्रकृति का एक अनमोल उपहार है। पानी प्रकृति में उन सबसे महत्वपूर्ण तत्वों में से एक है जो इस धरती पर जीवन का ...

  13. जल बचाओ धरती बचाओ पर निबंध, save water save earth in hindi, essay

    जल बचाओ पृथ्वी बचाओ पर निबंध, save water save earth essay in hindi (200 शब्द) हम हर जगह यह सुनते रहते हैं कि भविष्य को सुरक्षित रखने के लिए हमें पानी बचाना चाहिए लेकिन हम इसे हमेशा ...

  14. पानी की बर्बादी रोकने के 18 तरीके How To Save Water in Hindi

    1. घरेलू जल सरंक्षण / How to save water at home. दाढ़ी बनाते समय, ब्रश करते समय, सिंक में बर्तन धोते समय, नल तभी खोलें जब सचमुच पानी की ज़रूरत हो।. गाड़ी धोते ...

  15. Save Water Essay in Hindi

    Save Water Essay in Hindi Language - पानी बचाओ पर निबंध: Paragraph & Short Essay on Save Water Save Life in Hindi Language for students of all Class in 120, 250, 300 & 500 words. Information about Save Water in Hindi.

  16. जल बचाओ पर निबंध (Save Water Essay in Hindi)

    Save Water Essay in Hindi - पानी पृथ्वी पर सबसे महत्वपूर्ण और मूल्यवान प्राकृतिक संसाधन है। यह पूरे जीवन को बनाए रखता है। जल के बिना जीवन नहीं है। जल न केवल

  17. जल ही जीवन है पर निबंध, water is life essay in hindi, save water save

    जल ही जीवन है पर निबंध, water is life essay in hindi, save water save life essay in hindi, 100 words, 200 words, 500 words, class 1 ...

  18. Save Water Save Life Essay in Hindi

    Save Water Save Life Essay in Hindi - जल बचाओ जीवन बचाओ. जल पृथ्वी पर मनुष्य के अस्तित्व का एक अत्यधिक आवश्यक हिस्सा बन गया है। इस प्रकार, पानी के महत्व की तुलना हवा के महत्व ...

  19. Importance of Water in Hindi: जल का महत्व 10 लाइन

    जल का महत्व पर 10 अनमोल विचार. Importance of water in Hindi पर 10 अनमोल विचार नीचे दिए गए हैं-. जल संरक्षण कोट्स. "पानी पृथ्वी का खून है इसे यूं ही ना बहाएं ...

  20. जल का महत्व पर निबंध (Importance of Water Essay in Hindi)

    जल का महत्व पर निबंध (Importance of Water Essay in Hindi) By मीनू पाण्डेय / June 15, 2023. हमारे शरीर का संघटन सत्तर प्रतिशत जल से बना है। केवल हमारा शरीर ही नहीं ...

  21. 10 Lines on Save Water in Hindi

    Save Water Slogans in Hindi. ( Set-2 ) 10 Lines on Save the Water in Hindi for students. 5 Lines on Save Water in Hindi. 1. पानी मनुष्य, पशु, पक्षी और वनस्पति की जरूरत है जिसके बिना वह जीवित नहीं रह सकते।. 2.

  22. save water essay in hindi। जल संरक्षण पर निबंध

    save water essay in hindi। जल संरक्षण पर निबंध. जल जिसे हम पानी के रूप में प्राय सम्बोधित करते है प्रत्येक प्राणी के जीवन के लिए महत्वपूर्ण है। आज हम ...

  23. जल पर निबंध 10 Lines (Essay On Water in Hindi) 100, 150, 200, 250, 300

    जल निबंध पर (Essay On Water in Hindi) - पानी, पृथ्वी पर जीवित प्राणियों के अस्तित्व का कारण, ग्रह का 70% से अधिक हिस्सा है। जल वह जादुई तरल है, जो जानवरों,

  24. Working at Bridgewater Was Like a 'Black Mirror' Episode

    This as-told-to essay is based on a conversation with Daria Rose, a 27-year-old lawyer and creator who interned at Ray Dalio's hedge fund, Bridgewater Associates, in 2017 and 2018. Her employment ...